दुःखद: उत्तरकाशी से लगी चीन सीमा पर बर्फ में दबने से 3 स्थानीय लोगों की मौत, आईटीबीपी के जवानों के साथ गए थे गश्त पर

उत्तराखंड देश-दुनिया मौसम/आपदा
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे संवाददाता, उत्तरकाशी। उत्तरकाशी से लगी चीन सीमा पर आईटीबीपी की गश्त टीम में शामिल तीन स्थानीय पोर्टरों की बर्फ में दबने से मौत हो गई। आईटीबीपी के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि कर दी है। कल विशेष रेस्क्यू के साथ तीनों के शवों को मातली लाया जाएगा। इसके बाद शव परिजनों को सौंपे जाएंगे। बताया जा रहा कि मरने वाले सभी पोर्टर उत्तरकाशी के रहने वाले थे। इस घटना से जिले में शोक की लहर है।

आईटीबीपी मातली से मिली जानकारी के अनुसार भारत-चीन सीमा पर आईटीबीपी की टीम के साथ लंबी दूरी गश्त पर गए तीन पोर्टरों की बर्फ में दबने से मौत हो गई है। वहीं लापता पोर्टरों की तलाश में सीमा पर संसाधनों के साथ भेजे गए 5 पोर्टर सकुशल मातली आइटीबीपी परिसर में लौट आए हैं।

आईटीबीपी मातली 12वीं वाहिनी के कमांडेंड अभिजीत समैयार के अनुसार तीनों पोर्टरों की मौत की पुष्टि हो गई है। उन्होंने बताया कि आईटीबीपी की ओर से भेजे गए रेस्क्यू दलों ने पोर्टरों के बर्फ में दबकर मौत होने की जानकारी दी है। गुरूवार को सुबह वायुसेना और एक सिविल हेलीकाप्टर की मदद से पोर्टरों के शवों को निकालने के लिए रेस्क्यू चलाया जाएगा। उन्होंने पोर्टरों के नामों का खुलासा नहीं किया। हालांकि उन्होंने कहा कि मृतकों के परिजनों को घटना की सूचना दे दी गई है।

मृतक पोर्टरों के परिजनों को आइटीबीपी मातली में बुलाकर रुकवाया गया है, सुबह रेस्क्यू होने पर शवों को परिजनों के सुपुर्द किया जाएगा। इधर बताया जा रहा है कि आईटीबीपी के गश्त दल के साथ पोर्टर भटवाड़ी, गणेशपुर और गंगोरी से संजय, राजेंद्र और दिनेश आदि गए थे। इनके बारे में अभी कुछ पता नहीं चला है। कल गुरुवार को ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.