देहरादून से पेयजल निगम विद्युत-यांत्रिक का एक सर्किल और एक डिवीजन पहाड़ में शिफ्ट, यूएसनगर में खोला गया नया डिवीजन

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल राजकाज
खबर शेयर करें

 

– आनन-फानन में कार्यालय स्थानान्तरण की कार्रवाई से प्रभावित हो सकते है विद्युत यांत्रिक के कार्य, नए खोले गए यांत्रिक मंडल और डिवीजन से हटाया देहरादून और हरिद्वार जिला

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड पेयजल निगम में जल जीवन मिशन के तहत विद्युत एवं यांत्रिक के एक सर्किल और एक डिवीजन को आनन-फानन में देहरादून से पहाड़ में शिफ्ट किया गया है। विद्युत यांत्रिक का ये सर्किल अब पौड़ी और डिवीजन टिहरी से संचालित होगा। जबकि ऊधमसिंहनगर में विद्युत एवं यांत्रिक का नया डिवीजन खोला गया है। इस संबंध में प्रबंध निदेशक उदयराज सिंह ने आदेश जारी कर दिए हैं।

उधर, प्रबंध निदेशक ने स्थानांतरित विद्युत एवं यांत्रिक मंडल देहरादून में कार्यरत अधीक्षण अभियंता प्रवीण कुमार राय को पौड़ी, देहरादून डिवीजन में कार्यरत अधिशासी अभियंता जितेंद्र सिंह देव को नई टिहरी और मुख्यालय में तैनात अधिशासी अभियंता विशाल कुमार को स्थानांतरित करते हुए ऊधमसिंहनगर में शीघ्र कार्यालय स्थापित करने के निर्देश जारी किए हैं। इन दफ्तरों में स्टाफ की तैनाती के आदेश अलग से जारी करने को कहा गया है। इसके साथ ही कुछ अन्य अभियंताओं के कार्य दायित्व भी बदले गए हैं।

पेयजल निगम के एमडी उदयराज की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि जल जीवन मिशन से संबंधित पंपिंग योजनाओं के कार्यों को सुचारु रुप से संपादित किए जाने के लिए अधीक्षण अभियंता यांत्रिक मंडल देहरादून के कार्यालय को तत्काल प्रभाव से पौड़ी में स्थानांतरित किया जाता है। ये यांत्रिक मंडल पौड़ी के साथ ही रुद्रप्रयाग, चमोली, टिहरी और उत्तरकाशी जिले के विद्युत एवं यांत्रिक से संबंधित सभी कार्यों का पर्यवेक्षण मुख्य अभियंता गढ़वाल (पौड़ी) के प्रशासनिक नियंत्रण में रहते हुए संपादित करेगा। यांत्रिक मंडल का कार्यालय मुख्य अभियंता (गढ़वाल) पौड़ी के परिसर में स्थापित होगा।

आदेश में कहा गया है कि विद्युत यांत्रिक शाखा नई टिहरी उत्तरकाशी
और टिहरी जिले के साथ ही रुद्रप्रयाग के विद्युत यांत्रिक से संबंधित सभी कार्यों का संपादन अधीक्षण अभियंता यांत्रिक मंडल पौड़ी के प्रशासनिक नियंत्रण में करते हुए संपादित करेगा। यह कार्यालय नई टिहरी स्थित निर्माण शाखा परिसर में स्थापित होगा। जबकि जनपद उधमसिंहनगर के अंतर्गत विद्युत एवं यात्रिक संबंधी समस्त कार्यों के संपादन के लिए ऊधमसिंहनगर में यांत्रिक की नई शाखा स्थापित की गई है। यह कार्यालय निगम की निर्माण शाखा परिसर में स्थापित होगा।

इसके अलावा महाप्रबंधक भूजल एवं सर्वेक्षण प्रधान कार्यालय देहरादून को जनपद देहरादून एवं हरिद्वार के विद्युत एवं यांत्रिक संबंधी समस्त कार्य अतिरिक्त रुप से आवंटित किए गए हैं। वह यांत्रिक कार्यों का संपादन मुख्य अभियंता (मुख्यालय) प्रधान कार्यालय देहरादून के प्रशासनिक नियंत्रण में करेंगे। पहले यह कार्य यांत्रिक मंडल देहरादून के पास था।

इसके साथ ही परियोजना प्रबंधक निर्माण एवं अनुरक्षण इकाई गंगा/यांत्रिक हरिद्वार सचिन कुमार को वर्तमान कार्यों के साथ-साथ जनपद देहरादून के समस्त विद्युत एवं यांत्रिक कार्य आवंटित किए गए हैं। वह ये कार्य महाप्रबंधक भूजल प्रधान कार्यालय देहरादून के प्रशासनिक
नियंत्रण में संपादित करेंगे।

बता दें कि विद्युत यांत्रिक के नए कार्यालय स्थापित किए जाने की प्रक्रिया काफी समय से चल रही थी। दो दिन पूर्व देहरादून स्थित निगम के आवासीय परिसर में विद्युत यांत्रिक से जुड़े अधिकारियों के बीच मारपीट की घटना हो गई थी। जिसके बाद शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आधी-अधूरी तैयारियों के बीच निगम प्रबंधन ने यांत्रिक कार्यालयों को विधिवत रुप से शिफ्ट करने के बजाय आनन-फानन में कार्यालयों के शिफ्टिंग के आदेश जारी किए हैं।

बताया जा रहा है कि स्थानांतरण के बाद इन कार्यालयों में कार्यरत कार्मिकों को आस-पास के दफ्तरों में शिफ्ट किया जाएगा। नए कार्यालयों में जल्द नया स्टाफ स्थानांतरित किया जाएगा। ऐसे में इन कार्यालयों से जुड़े निर्माण कार्य प्रभावित हो सकते हैं। जल जीवन मिशन केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है, जिसे 2024 तक पूरा किया जाना है। बताया जा रहा है कि ऐसे में विधिवत रूप से स्टाफ और कार्यालय स्थापित होने के बाद ही शफ्टिंग की कार्रवाई होती तो ज्यादा हितकर होता। हालांकि यह भी बताया जा रहा है कि कुछ समय पूर्व से कार्यालय शिफ्ट करने की कार्रवाई गतिमान थी।

देहरादून से यांत्रिक डिवीजन शिफ्टिंग का विरोध, सीएम से लगायेके गुहार

देहरादून मेंहूवाला क्लस्टर पेयजल योजना से जुड़े इलाके के लोगों ने पेयजल निगम के यांत्रिक डिवीजन को टिहरी शिफ्ट करने का विरोध किया है।  उन्होंने योजना का पूरा होने तक कार्यालय शिफ्टिंग की कार्रवाई को टालने का अनुरोध किया है। उन्होंने इस संबंध में निगम के एमडी को भी ज्ञापन प्रेषित किया है।

मेंहूवाला क्लस्टर पेयजल योजना जल शिकायत निवारण समिति के सदस्य वीरू बिष्ट और पूर्व उपप्रधान गीता बिष्ट ने बैठक के बाद एमडी को प्रेषित ज्ञापन में कहा कि यह योजना अंतिम चरण में है। उन्होंने कहा कि जल्दबाजी में कार्यालय शिफ्टिंग का असर योजनाओं पर पड़ेगा। यदि स्थानांतरण की कार्रवाई नहीं रोकी गई तो क्षेत्र के लोग मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मिलकर उन्हें समस्या से अवगत कराएंगे। उन्होंने सीएम से भी इस सम्बंध में गुहार लगाई है। बैठक में मोहन सिंह रावत, विजेन्द्र कुमार, निजाम, लच्छु टंडन, सरिता देवी, बाला देवी, गोवर्द्धन प्रसाद लखेड़ा आदि मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.