पेयजल निगम में अनशन जारी, मंत्री पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, 3 जनवरी से काम ठप करने का ऐलान, पेयजल सप्लाई भी बंद करने को चेताया

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल
खबर शेयर करें

 

– अनशनकारी विजय खाली की बिगड़ी तबियत, देर रात्रि को अस्पताल में कराया भर्ती

–  वित्त सचिव की अड़ियल रवैये पर भड़के वक्ता, बेलगाम नौकरशाह पर नकेल की बजाए असमर्थता जताने वाले मंत्री से भी मांगा इस्तीफा

– आंदोलन को कई विभागों के कर्मचारी संगठनों ने दिया समर्थन,  राजनीतिक दल भी समर्थन में पहुँच रहे है रोजाना अनशन स्थल पर

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड पेयजल निगम में ट्रेजरी से वेतन भुगतान की लेकर 28 दिसम्बर से शुरू किया गया आंदोलन उग्ररूप लेने लग गई है। पूरे प्रदेश में पेयजल कर्मी आंदोलन के लिए सड़कों पर उतर आए हैं। पेयजल कर्मियों ने 3 जनवरी से पूरी तरह कार्य ठप कराने की चेतावनी दी है। जिसका सबसे प्रतिकूल प्रभाव प्रधानमंत्री के सबसे महत्वकांक्षी जल जीवन मिशन पर पड़ेगा। जल संस्थान संयुक्त मोर्चा ने भी समर्थन में पेयजल वितरण बंद करने की धमकी दी है।

उधर, ढाई हजार के लगभग पेयजल पेंशनर्स ने विधानसभा चुनाव का बहिष्कार का निर्णय लिया है। आंदोलित कर्मियों ने सचिव वित्त के अड़ियल रवैये पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें आड़े हाथों लिया है। साथ ही पेयजल मंत्री पर भी वादाखिलाफी का आरोप लगाया। वीरवार को मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है। पेयजल कर्मियों के आंदोलन को लगातार कर्मचारी संगठन समर्थन दे रहे हैं। राजनीतिक दलों के नेता भी समर्थन देंव को फहराना स्थल पर पहुंच रहे हैं। वक्ताओं ने कहा कि यदि मंत्री की बात को सचिव नहीं मान रहा है तो ऐसे मंत्री को पद पर रहने का अधिकार नहीं है। उन्हें तत्काल पड़ से इस्तीफा देना चाहिए।

अधिकारी-कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति पेयजल निगम ने पेयजल निगम को राजकीय विभाग बनाने और इसकी कार्रवाई तक कार्मिकों को ट्रेजरी के माध्यम से वेतन भुगतान की मांग को लेकर तीसरे दिन भी अध्यक्ष जितेंद्र सिंह देव और विजय खाली डटे रहे। लेकिन बीती देर रात्रि  अनशनकारी विजय खाली की एकाएक तबीयत बिगड़ गई। मौके पर पहुंची चिकित्सीय टीम की परामर्श के बाद पुलिस-प्रशासन ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। स्वास्थ्य परीक्षण के दौरान पता चला कि विजय खाली का शुगर लेवल खतरनाक स्तर पर पहुंच गया। यूरिन जांच में भी कीटोन टेस्ट पॉजिटिव पाया गया। विजय खाली पूर्व से ही मधुमेह रोग से ग्रस्त है।  मेडिकल टीम की स्तुति पर प्रशासन द्वारा होने अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है ।

पेयजल निगम में आंदोलन से लटके करोड़ों के काम 

पेयजल निगम के आंदोलन से कामकाज अटक गया है। पेयजल निगम अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समन्वय समिति के अध्यक्ष जितेंद्र देव और महामंत्री विजय खाली आमरण अनशन पर बैठे हुए हैं। मुख्यालय समेत अन्य कार्यालयों में भी कर्मचारियों ने कामकाज ठप कर रखा है। इसके कारण टेंडर प्रक्रिया समेत जल जीवन मिशन के काम लटक गए हैं। प्रदेश के अन्य कार्यालयों में टेंडर और नए कार्यों के टेंडर समेत जल जीवन मिशन योजना से जुड़े काम बंद हो गए हैं। आंदोलन के चलते मुख्यालय पर अफसर भी ज्यादा देर नहीं बैठ पा रहे हैं।

आमरण अनशन को आज इन संगठनों ने दिया समर्थन

– उत्तराखंड क्रांति दल के त्रिवेंद्र सिंह पवार

– आम आदमी पार्टी उत्तराखंड- प्रदेश प्रवक्ता उमा सिसोदिया, प्रदेश प्रवक्ता नवीन कृषाली, चंद आर्य, धर्मेंद्र कुमार ठाकुर, मनीष चाचरा।

– निगम कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गोसांई

– परिवहन निगम संयुक्त परिषद के महामंत्री दिनेश पंत, टीएस बिष्ट

– उत्तराखंड इंजीनियर्स फेडरेशन के प्रांतीय अध्यक्ष इं. सुभाष चंद्र पांडे, मुख्य संपादक इं. रेखा डंगवाल, इं. संजीव कुमार श्रीवास्तव, इं. रामस्वरूप बडोनी, इं. सुधीर सैनी, इं. गोविंद कुमार आदि ने भी आमरण अनशन स्थल पर पहुंचकर अपना समर्थन दिया। साथ ही कहा कि अगर शीघ्र मांग पूरी नहीं हुई तो समस्त इंजीनियर विरोध प्रदर्शन में शामिल हो जाएंगे।

इधर, अनशन स्थल पर आयोजित सभा मे जल निगम समन्वय समिति के पदाधिकारियों ने यह निर्णय लिया कि मांग पूरी होने तक आमरण अनशन जारी रहेगा। सरकार द्वारा पूर्व में भी की गई हड़ताल में नो वर्क नो पे लागू किया जाता रहा है, लेकिन उत्तराखंड राज्य के इतिहास में यह पहला अवसर होगा जब नो पे- नो वर्क कर्मचारियों द्वारा स्वयं लागू किया गया है।

अनशनकारी समिति अध्यक्ष जितेंद्र सिंह देव और महासचिव विजय खाली ने कहा कि उत्तराखंड शासन और सरकार द्वारा वेतन भुगतान अधिनियम का उल्लंघन किया जा रहा है जो दंडनीय अपराध है, तथा श्रम कानूनों के विपरीत है। वेतन भुगतान न होने पर कार्मिकों को कार्य करने हेतु बाध्य नहीं किया जा सकता, वेतन भुगतान न होने पर भी पेयजल निगम के कार्मिक दिन-रात जल जीवन मिशन कार्यों को युद्ध स्तर पर कर रहे हैं, उनको कोषागार से वेतन देने के सहमति के बाद भी शासनादेश जारी न करना और लगातार वेतन से वंचित करना पेयजल निगम कार्मिकों के साथ अत्याचार है।

नेताद्वय ने कहा कि जहां एक ओरअन्य विभागों के कर्मचारी अपने वेतन भक्तों को बढ़ाने की मांग पर हड़ताल पर चले जाते हैं, वहीं पेयजल निगम के कर्मचारी अथक मेहनत करने के बाद भी अपने अधिकार से वंचित हैं। इसलिए समन्वय समिति द्वारा एकमत से निर्णय लिया गया कि मांगे पूरी ना होने पर कार्य स्थलों पर चल रहे सभी निर्माण कार्यों का अनुश्रवण भी वह बंद कर देंगे।  इस कारण यदि पेयजल समस्या का संकट उत्पन्न होता है तो उसके रूप से पूर्ण रूप से निगम प्रबंधन ही जिम्मेदार होगा।

इस दौरान जल संस्थान संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष रमेश बिंजोला, श्याम सिंह नेगी मंडल अध्यक्ष, शिशुपाल रावत, राज्य निगम कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रांतीय महासचिव बीएस रावत, प्रेम सिंह रावत, एके चतुर्वेदी, एसपीएस देवरा, आलोक कुमार, अरविंद सजवाण, जितमनी बेलवाल, कपिल कुमार, टीएस बिष्ट, अनुराग नौटियाल, गोविन्द मेहरा, जल निगम के सौरभ शर्मा, अजय बेलवाल, विजेन्द्र सुयाल, भजन सिंह चौहान, गौरव बर्तवाल, लक्ष्मी नारायण भट्ट ,विशेष शर्मा राजेन्द्र सिंह राणा, प्रमोद नौटियाल, धर्मेंद्र चौधरी, कमल कुमार आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।

 

120 thoughts on “पेयजल निगम में अनशन जारी, मंत्री पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, 3 जनवरी से काम ठप करने का ऐलान, पेयजल सप्लाई भी बंद करने को चेताया

  1. It’s really great. Thank you for providing a quality article. There is something you might be interested in. Do you know baccaratsite ? If you have more questions, please come to my site and check it out!

  2. “Make use of your fingers, your muzzle — utilize your imagination. For divers men with erectile dysfunction, a common appearance of masturbation may be easier and more pleasurable than unwritten lustful intercourse.” Track down the right improper and time. “On a spot and moment to maintain sex where you can feel languorous and unhurried. Source: coupons for cialis

  3. Numberless cases of it retort be responsive to effectively to lifestyle changes, medications, surgery, or other treatments. Even if your efforts to handle ED are unfortunate, you and your companion can at rest make merry medic intimacy and a fulfilling sex life. Source: cialis price walmart

Leave a Reply

Your email address will not be published.