गजब: उत्तराखंड जल संस्थान ऊधमसिंहनगर में पत्नी के नाम पर ठेकेदारी कर रहे ”बाबूजी”

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल
खबर शेयर करें

 

– उत्तराखंड जल संस्थान में पहली बार सामने आया महिला ठेकेदार का नाम, सरकारी सेवक हैं महिला के पति, पति ने खुद के ही डिवीजन में दिलाए करोड़ों के काम

जनपक्ष टुडे संवाददाता, ऊधमसिंहनगर। उत्तराखंड जल संस्थान में लगता है कि नियम नाम की कोई चीज ही नहीं है। कई अधिकारी-कर्मचारी नियमों को ताक पर रख परिवारजनों, सगे-संबंधियों और नाते-रिश्तेदारों के नाम पर ठेकेदारी कर रहे हैं। पौड़ी के बाद जल संस्थन के ऊधमसिंहनगर डिवीजन में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। जहां एक बाबूजी “क्लर्क” खुलेआम पत्नी के नाम पर लाखों-करोड़ों के छोटे-बड़े ठेके कर रहा है। ताज्जुब की बात यह है कि बाबूजी लंबे समय से पत्नी के नाम पर एक के बाद एक मेंटेनेंस के ठेके ले रहे हैं और इसकी संस्थान के किसी भी अधिकारी-कर्मचारी को कोई भनक नहीं है। क्या ऐसा संभव है। इसमें मिलीभगत साफ उजागर हो रही है। मामले का संज्ञान लेने के बजाय उच्चाधिकारी मौन हैं, जिससे कई सवाल खड़े हो रहे हैं।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जल संस्थान के ऊधमसिंहनगर डिवीजन में राजकुमार नाम के एक क्लर्क जो वैयक्तिक सहायक के पद पर कार्यरत बताए जा रहे हैं। वह लंबे समय से पत्नी के नाम पर ठेकेदारी कर रहे हैं। हर दूसरा-तीसरा ठेका शकुंतला कंस्ट्रक्शन के नाम जारी होना बताया जा रहा है। आरोप तो यह भी है कि डिवीजन में काम लेने वाले दूसरे ठेकेदारों को ये बाबूजी डराते धमकाते भी हैं। जो कोई लड़-झगड़कर काम लेता भी है, तो उसे भुगतान के लिए चक्कर कटाए जाते हैं।

यानि डिवीजन में संबंधित बाबू का पूरा कब्जा है। वह चाहें तो दूसरों को ठेके दे या खुद कर लें। हैरत की बात यह है कि बाबूजी की हरकतों की विभागीय अधिकारियों को तनिक भी खबर नहीं है। जबकि कई बार इस बावत लोगों ने अधिकारियों से शिकायत भी की है, लेकिन विभागीय अधिकारी मामले को दबाते रहे।

किसी ने भी इस पर कार्रवाई की जहमत नहीं उठाई। अब जब मामला मीडिया के सामने आया तो अधिकारी कार्रवाई की बात कर रहे हैं। इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि यदि मामला सही है, तो शकुंतला कंस्ट्रक्शन द्वारा डिपार्टमेंट में रजिस्टेशन कराने से लेकर अब तक कितने करोड़ का काम कराया है। काम की क़्वालिटी ठीक न पाए जाने पर उसकी संबंधित कर्मचारी और अधिकारियों से वसूली होनी चाहिए।

सबसे बड़ा सवाल यह है कि विभाग में कार्यरत बाबूजी की पत्नी का संबंधित डिवीजन और सर्किल में रजिस्टेशन कैसे हो गया। क्या रजिस्टेशन के दौरान शकुंतला देवी द्वारा दिया गया शपथ पत्र झूठा है, जिसमें लिखा गया है कि उनका डिपार्टमेंट और संबंधित डिवीजन में कोई ब्लड रिलेटिव नहीं है? क्या वास्तव में किसी को भी यह जानकारी नहीं है कि शकुंतला का पति का नाम राजकुमार है, जो ऊधमसिंहनगर डिवीजन में तैनात है? क्या शकुंतला ठेके लेने बराबर कार्यालय आती-जाती है। नहीं आती है, तो उसके बदले ठेके लेने के दौरान कागजी कार्रवाई कौन पूरी करता है?

उसके द्वारा कार्य के बाॅड फार्म पर कौन हस्ताक्षर करता है? बगैर सामने आए कैसे ठेके के करार हो जाते हैं। भुगतान के चेक कौन रिसीव करता है? ये वो तमाम सवाल हैं, जो सिर्फ राजकुमार और शकुंतला देवी पर, बल्कि विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत और सांठगांठ को दर्शाता है। सुतों की मानें तो यदि मामले की गहराई से जांच की गई दो संस्थान के दूसरे डिवीजनों में बि इस तरह के कई प्रकरण सामने आएंगे।

अब जब इस संबंध में संबंधित अधिकारियों से बात की गई, तो वह मामले की जानकारी होने की तो बात कह रहे हैं, लेकिन षकुंतला का पति कौन है, इसको लेकर जांच की बात रहे हैं। हैरत की बात यह है कि वैयक्ति सहायक राजकुमार की पत्नी कौने है इसको लेकर विभागीय अधिकारियों को कई वर्ष लग गए। नियमों का पालन कराने के वाले जिम्मेदारी अधिकारियों की गैर जिम्मेदाराना रवैये को दर्षा रहा है।

इससे यह साफ हो रहा है कि जल संस्थान में एक नहीं इस तरह के कई गड़बड़झाले है। कई अधिकारी-कर्मचारी कोई बेटे के नाम, कोई भाई के नाम पर, कोई पत्नी तो कोई रिशतेदारों के नाम पर ठेके कर रहे हैं, जो नियमों के खिलाफ ही नहीं, बल्कि कर्मचारी आचार नियमावली के विपरीत है। जांच कर इस मामले पर उच्चाधिकारियों को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए, ताकि भविष्य में कोई भी मुलाजिम नियमों की धज्जियां न उड़ा सके।

उत्तराखंड जल संस्थान में चर्चा में महिला ठेकेदार

ऊधमसिंहनगर नगर डिवीजन में महिला द्वारा ठेकेदारी किए जाने का मामला सामने आने पर यह चर्चा मामला का विषय बना हुआ है। महिलाएं हर फील्ड में अपना लोहा मना रही है, लेकिन यह पहली बार सुनने में आ रहा है कि महिलाएं सिविल कार्य के ठेके लेकर ठेकेदारी भी करने लगी हैं।  ठेकेदारी कोई गलत काम नहीं है, लेकिन पति के सरकारी सेवा में होने पर उस डिवीजन में नियमानुसार कार्य नहीं किया जा सकता है। यह पति की सेवा नियमावली के खिलाफ है। पति के सेवा से हटने या इस्तीफा देने के बाद ही महिला उस डिवीजन में नियमानुसार कार्य कर सकती है, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। पति की सेवा के बाद भी ठेके लेना नियमों के विपरीत है, जिसके लिए सम्बंधित अधिकारी भी पूरी तरह जिम्मेदार हैं। बिना पड़ताल के कार्य आवंटित करने वाले अधिकारियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की भी मांग की जा रही है।

” ये प्रकरण संज्ञान में आया है, लेकिन मैं हाल ही में डिवीजन में स्थानांतरित होकर आया हूं। जब से मैं डिवीजन में आया हूं, मेरे द्वारा शकुंतला कंस्ट्रक्शन को कोई ठेका आवंटित नहीं किया गया है। शकुंतला देवी राजकुमार की पत्नी है। इसकी जांच की जा रही है। इस सम्बंध में उच्चाधिकारियों की अवगत कराया जा रहा है।” 

रमेन्द्र कुमार श्रीवास्तव, अधिशासी अभियंता, उत्तराखंड जल संस्थान, ऊधमसिंहनगर 

—————-–————————————-

” इस प्रकरण की पूरी जानकारी नहीं है। यदि ऐसा है, तो इसकी जांच की जाएगी और संबंधित कर्मचारी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस सम्बंध में शिकायत आई है, जिसका संज्ञान लिया जा रहा है। 

विशाल सक्सेना, अधीक्षण अभियंता, उत्तराखंड जल संस्थान। 

32 thoughts on “गजब: उत्तराखंड जल संस्थान ऊधमसिंहनगर में पत्नी के नाम पर ठेकेदारी कर रहे ”बाबूजी”

  1. This seems to indicate that the observed anti proliferative effect is the combination of an antihormonal effect linked to the tamoxifen skeleton and mediated by the estradiol receptor, and a cytotoxic effect induced by the presence of the ferrocenyl substituent purchase ivermectin 3mg Briguet A, Courdier Fruh I, Foster M, Meier T, Magyar JP 2004 Histological parameters for the quantitative assessment of muscular dystrophy in the mdx mouse

  2. ivermectin 3mg price CORONA New summary 80 Rosuvastatin in ischemic HFrEF CREST Update Now reflects the 2011 ACC AHA guidelines on carotid artery stenting MIRACL Update Now mentions its high loss to follow up RE LY Update Now reflects the increase in MIs seen with dabigatran

  3. ketoconazole ivermectin side effects in humans But the British government, which recommended abstaining in a previous EU vote in March, argues the science is inconclusive and advises caution in extrapolating results from laboratory studies to real life field conditions priligy uk 0 eq followed by addition of 10

  4. The slides were incubated with commercial rabbit anti GPR30 polyclonal antibody diluted 1 250, and affinity purified rabbit antibody against EGFR diluted 1 200, for 2 hours at 37 C, then exposed to horseradish peroxidase conjugated goat anti rabbit IgG for 20 minutes at 37 C antibiotic doxycycline Many people are familiar with bisphosphonates as medications used to treat osteoporosis

  5. Early research suggests that drinking pomegranate juice might help to keep the arteries in the neck carotid arteries clear of the build up of fatty deposits stromectol for sale viagra methpica metformin 500 mg obat apa Posts made in English on the social network will be translated by students via a free language learning app called Duolingo which will enable foreign students of English to translate BuzzFeed articles as part of their coursework

  6. clomiphene metformin hydrochloride prolonged release tablets ip 500 It is not unjustified to affirm that the Spanish economyseems to be getting over the second recession of this prolongedcrisis, he said in the written copy of the speech distributedby the Bank of Spain stromectol 6mg Add additional milk if too thick

  7. First, identifying the cellular origin of Ca 2 transients after bath application of chemical Ca 2 binding dyes by the post hoc techniques described above is challenging stromectol merck canada Anderson, a defense attorney for Guandique, said at a Dec

  8. You really make it seem really easy together with your presentation but I find this matter to be really one thing which I feel I’d never understand. It seems too complex and very broad for me. I’m taking a look ahead to your next submit, I?¦ll attempt to get the cling of it!

  9. Sign Up All licensed cannabis retailers operating a physical store will have the opportunity to sell cannabis online if they choose, as long as they receive an endorsement from AGLC’s Inspections Branch. Check out our multiple locations in Alberta. Follow the COVID-19 restrictions and public health measures and book your appointment to get vaccinated. The benefit of buying weed online in Ontario. The weed culture in BC has been thriving for some time now. As BC is the No. 1 producer of cannabis in Canada, we’re proud to play our part in delivering high-quality weed across the country. Our western weed culture is greatly responsible for the legalization of non-medical marijuana throughout Canada. The strains our province produces are world-renowned, earning the informal – and highly catchy – the title of BC Buds. We’re proud to sell a variety of premium strains of cannabis to the people of Surrey. https://lima-wiki.win/index.php?title=Purchase_marijuana_seeds_online Species detail Liberty cap (Psilocybe semilanceata).  maps.biodiversityireland.ie Species 150629 Identified in 1838, P. semilanceata was the first psilocybin mushroom native to Europe to be formally recognized. This species is still wildly popular and abundant, especially in England, where the first report of a family tripping out on them appeared in print: In London, 1799, a family reportedly picked and ate wild mushrooms growing in Green Park, which caused one son to laugh uncontrollably, the father to believe he was dying, and most family members to have vertigo. “Psilocybin Mushrooms of the World” by Paul StametsPaul Stamets is a well-known mushroom expert and outspoken advocate of psilocybin-containing mushrooms AKA “magic mushrooms”. Psilocybin Mushrooms of the World (1996) is Stamets’ third book, and a good reference guide for identifying magic mushrooms.

  10. I used to be suggested this website by means of my cousin. I am no longer sure whether this post is written via him as nobody else recognise such designated about my trouble. You are wonderful! Thank you!

Leave a Reply

Your email address will not be published.