ऊर्जा कर्मी बोले, संशोधित नया विद्युत एक्ट कर्मचारियों के साथ धोखा, इस प्रस्ताव को शीघ्र वापस ले केंद्र सरकार

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। ऊर्जा कर्मियों ने बिजली के निजीकरण का जोरदार तरीके से विरोध किया है। प्रस्तावित नए इलेक्ट्रिसिटी एक्ट को कर्मचारियों के हितों के खिलाफ बताते हुए केंद्र सरकार से इसे वापस लेने अपील की गई। कहा कि यह एक्ट बिजली उपभोक्ताओं के साथ भी छलावा है।

ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ इलेक्ट्रिसिटी एंप्लोई के आव्हान पर पूरे देश में 28 एवं 29 मार्च को आयोजित हड़ताल कार्य बहिष्कार कार्यक्रम के समर्थन में आज 28 मार्च को उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले ऊर्जा भवन मुख्यालय देहरादून के प्रांगण में एक गेट मीटिंग आयोजित की गई। गेट मीटिंग की अध्यक्षता अधीक्षण अभियंता एनएस बिष्ट ने की और संचालन पॉवर लेखा एसोसिएशन के प्रांतीय महामंत्री डीसी ध्यानी ने किया।

गेट मीटिंग में विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने ऊर्जा विभाग में किए जा रहे निजीकरण और विद्युत अधिनियम संशोधन 2021 को तत्काल वापस लेने की मांग की गई। सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार बिजली की निजीकरण की कार्यवाही को तत्काल रोके तथा कर्मचारियों की पुरानी पेंशन व्यवस्था व तीनो निगमों का एकीकरण करें। इसके साथ कि वक्ताओं ने कहा कि ऊर्जा के तीनों निगमों में उपनल का माध्यम से कार्यरत संविदा कार्मिकों को पंजाब और तेलंगाना राज्य की भांति नियमित करें, क्योंकि वर्तमान में ऊर्जा निगम कर्मचारियों की भारी कमी से जूझ रहा है।

राष्ट्रव्यापी आंदोलन के समर्थन में उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के संयोजक इंसरुल हक, अभियंता संघ के प्रदेश अध्यक्ष कार्तिकेय दुबे, महासचिव अमित रंजन, पॉवर लेख एसोसिएशन के केंद्रीय महामंत्री डीसी ध्यानी, उत्तराखंड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन (इंटक) के प्रदेश अध्यक्ष विनोद कवि, मोहन मित्तल, शिशिर श्रीवास्तव, एमएस राणा, अनिल नौटियाल, सचेन्द्र कुमार, कृति भंडारी, सुजाता, परवेज गुप्ता, सुनीता मोहन, दीपा, अंकित जैन, विकास गुप्ता, प्रीति, नीरज, स्वाति, शीला सहित सैकड़ों कार्मिक उपस्थित रहे।

1 thought on “ऊर्जा कर्मी बोले, संशोधित नया विद्युत एक्ट कर्मचारियों के साथ धोखा, इस प्रस्ताव को शीघ्र वापस ले केंद्र सरकार

  1. I simply wanted to appreciate you yet again. I’m not certain what I might have made to happen in the absence of the aspects discussed by you concerning this subject. It had become the depressing problem in my opinion, but finding out a new well-written mode you treated that forced me to jump over joy. I am happy for your service as well as wish you recognize what an amazing job that you’re carrying out instructing the rest through a web site. I know that you’ve never come across all of us.

Leave a Reply

Your email address will not be published.