एक दिन के लिए सीएम बनी सृष्टि, ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण पर बाल सदन बुलाने का दिया सुझाव

देश-दुनिया
खबर शेयर करें
  • विभागों की समीक्षा बैठक के सुझावों को विकास योजनाओं में शामिल करने के दिए निर्देश

देहरादून। राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौक़े पर हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी एक दिन के लिए उत्तराखंड की मुख्यमंत्री बनी। इस दौरान उसने विभागों की समीक्षा कर कई महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए।

रविवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर उत्तराखंड विधानसभा भवन में राज्य के कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत ने उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री के रूप में सृष्टि गोस्वामी ने करीब दर्जनभर विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक कर समीक्षा की।

इस दौरान सृष्टि ने कई योजनाओं की स्वीकृतियाँ भी दी। साथ ही कई महत्वपूर्ण सुझाव भी रखे, जिन्हें प्रस्तावित व चल रही योजनाओं में सम्मिलित करने के निर्देश भी दिए।

लगभग 4 घण्टे की समीक्षा बैठक मे सृष्टि ने बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, लोक निर्माण विभाग, सिचाई विभाग, स्वास्थ्य विभाग,उरेडा, पुलिस, स्मार्टसिटी सहित डोबरा चांटीपुल, सूर्याधार झील, होमस्टे योजना पर हुए कार्यों का प्रेजेंटेशन देखा।

गौरतलब है कि आज सीएम की इस समीक्षा बैठक में सीएम की गृह मंत्री के रूप में कुमकुम पन्त, हरेंद्र चन्द्र कबाली, चिराग पन्त, मानसी पन्त, रितिक एवं जाह्नवी अरोड़ा, बाल विधायक, सहित डोईवाला विधायक के रूप में आसिफ हसन नेता प्रतिपक्ष के रूप में सवाल जबाव करते देखे गए।

नेता प्रतिपक्ष ने मुख्यमंत्री से तीन साल के कार्यकाल में तीन काम गिनाने का सवाल दाग तो सीएम महोदया ने विगत तीन दिनों के ही उल्लेखनीय काम जैसे बाल थाना का उल्लेख करते हुए विपक्ष की बोलती बंद की और उन्हें संतुष्ट किया।

राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी ने एक दिन के लिए उत्तराखंड के सीएम पद की कुर्सी संभाली और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत का आभार व्यक्त किया।

मुख्यमंत्री बनने के बाद सभी विधायकों और अधिकारियों ने सृष्टि को शुभकामनाएं दीं। इसके बाद उन्होंने विधानसभा में विभिन्न विभागों की समीक्षा के दौरान ग्रीष्म कालीन राजधानी गैरसैण में भी बाल सदन आयोजित करने की अपेक्षा की। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा राज्यमंत्री धन सिंह रावत मौजूद रहे। संचालन सचिव बाल विकास एवं महिला सशक्तिकरण सुश्री झरना कमठान ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.