डाउनग्रेड-पे को लेकर अभियंताओं में भारी आक्रोश, बोले, गुमराह कर सरकार को बदनाम कर रहे नौकरशाह

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल जनपक्ष राजकाज
खबर शेयर करें

 

– उत्तराखंड के इंजीनियरों ने की मुख्यमंत्री धामी से डाउनग्रेड-पे के आदेश को अतिशीघ्र वापस लेने की मांग

 – इस मामले में कैबिनेट के फैसले को बताया अभियंताओं के विरुद्ध, प्रदेशव्यापी आंदोलन की घोषणा भी की गई

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड में कनिष्ठ अभियंता के डाउन ग्रेड पे वेतनमान पर वेतन विसंगति समिति द्वारा प्रस्तुत संस्तुति को कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी का अभियंताओं ने एक स्वर से कड़ा विरोध किया गया है। अभियंताओं ने इसके खिलाफ एकजुट होकर प्रदेश भर में व्यापक स्तर पर आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है।

उत्तराखंड डिप्लोमा इंजीनियर महासंघ की प्रांतीय कार्यकारिणी की आपातकालीन बैठक शुक्रवार को सदभावना भवन यमुना कालोनी में संपन्न हुई। बैठक में अभियंताओं ने कहा कि उत्तराखंड की विषम भौगोलिक परिस्थितियों के मध्यनजर डिप्लोमा इंजीनियरों को एक सम्मानजनक वेतनमान दिए गए थे।

जिसकी शासन में बैठे ब्यूरोक्रेट्स गलत व्या या कर सरकार की छवि खराब कर रहे हैं। साथ ही राज्य के कर्मचारियों, अभियंताओं को आंदोलन में धकेलने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नौकरशाह मुख्यमंत्री की छवि को खराब कर राज्य को हड़ताली प्रदेश बनाने की राह पर ढकेलना चाह रहा है, जो बेहद प्रदेश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण बात है।

आक्रोशित अभियंताओं ने कहा कि शासन में बैठे ब्यूरोक्रेट्स नहीं चाहते हैं कि सरकार अपनी स्वच्छ छवि के साथ राज्य का विकास करें। उन्होंने कहा कि राज्य के अभियंताओं की कार्य करने की क्षमता के साथ किसी दूसरे राज्य की अभियंताओं की तुलना नहीं की जा सकती है। यहां केदारनाथ जैसी दैविक आपदाओं और अन्य आपदाओं में इस राज्य के डिप्लोमा इंजीनियर्स ने अपना सर्वोपरि योगदान दिया है। इसलिए डिप्लोमा इंजीनियर शासन के इस चक्र को कभी भी सफल नहीं होने देंगे। इसके लिए वृहद स्तर पर प्रदेश व्यापी आंदोलन चलाया जाएगा।

आंदोलन को लेकर लिए गए ये अहम निर्णय
1. 6 अगस्त 2022 से उत्तराखंड के समस्त डिप्लोमा अभियंता काला फीता बांधकर डाउनग्रेड वेतन से संबंधित वेतन विसंगति की रिपोर्ट पर कैबिनेट के निर्णय का विरोध करेंगे।

2. सभी जनपदों की जनपद कार्यकारिणी जिलाधिकारी के माध्यम से 07 से 14 अगस्त तक मुख्यमंत्री को ज्ञापन कर परेशान करेगी।

3. सभी जनपदों की जनपद शाखाएं कार्यकारिणी महत्ती और विधायकों के माध्यम से 07 अगस्त को मुख्यमंत्री को ज्ञापन का प्रेषण करेगी।

4. 08 अगस्त को उत्तराखंड अधिकारी कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार यदि हड़ताल कार्यक्रम की घोषणा की जाती है तो बिना किसी पूर्व सूचना के हड़ताल में चले जायेंगे।

बैठक में इंजीनियर्स संघों के ये पदाधिकारी रहे मौजूद
उत्तराखंड डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ के निवर्तमान अध्यक्ष हरीश चंद्र नौटियाल, प्रांतीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष इं. अरविंद सजवाण, चेयरमैन अनुशासन समिति अजय कुमार पैन्यूली, प्रांतीय मंत्री लेखा नीरज नौटियाल, प्रांतीय मंत्री वित्त शांतनु शर्मा, प्रांतीय संगठन सचिव गढ़वाल सतीश भट्ट, प्रांतीय अतिरिक्त महासचिव रमेश थपलियाल, प्रांतीय इंजीनियर्स संघ लोनिवि के अध्यक्ष आरसी शर्मा, महासचिव सीडी सैनी, सिंचाई के अध्यक्ष भरत सिंह डागी, महासचिव अनिल कुमार, पेयजल निगम के अध्यक्ष राम कुमार, महासचिव अजय बेलवाल, लघु सिंचाई के अध्यक्ष बीडी बेंजवाल, जल संस्थान के महासचिव जयपाल चौहान, ग्रामीण निर्माण विभाग के महासचिव चितरंजन जोशी, इंजीनियर्स संघ मंडी परिषद के अध्यक्ष एके पैन्यूली और महासचिव विजय कुमार तिवारी, मंडल अध्यक्ष गढ़वाल मोहन सिंह रावत, मंडल सचिव धर्मेंद्र कुमार,  मंडल अध्यक्ष कुमाऊं एसएस डंगवाल, मंडल सचिव लललित मोहन शर्मा और राहुल नेगी आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.