चिंता: यूक्रेन में फंसे हैं उत्तराखंड के 100 से अधिक लोग, कांग्रेस बोली, वापसी को राज्य सरकार नहीं कर रही गम्भीर प्रयास

उत्तराखंड दिल्ली/अन्य राज्य देश-दुनिया
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। रूस और यूक्रेन के बीच शुरू हुए युद्ध के बाद भारतवंशियों की चिंताएं भी अब लगातार बढ़ती जा रही हैं। भारत के हजारों छात्र यूक्रेन में फंसे हैं। उत्तराखंड से भी अभी तक 100 से अधिक लोग यूक्रेन में फंसे हुए हैं। इनमें अधिकांश मेडिकल की पढ़ाई वाले छात्र हैं। इसमें देहरादून से लगभग 20 से 25 लोग हैं। छात्रों के परिजन लगातार राज्य और केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं।

वहीं, यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के छात्रों को सकुशल वापस लाने को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज शासन स्तर पर एक बड़ी बैठक की। ढाई घंटे चली इस बैठक के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा अब तक 92 छात्रों के यूक्रेन में फंसे होने की जानकारी मिली है। अन्य लोगों से भी संपर्क किया जा रहा है। अभी छात्रों की संख्या बढ़ सकती है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा छात्रों से संपर्क करके आसपास के देशों से भी संपर्क किया जा रहा है।

यूक्रेन में फंसे छात्रों को यूक्रेन के पड़ोस में मौजूद देशों से संपर्क करके वहां से रेस्क्यू किया जाएगा। इसके अलावा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सभी परिजनों को संदेश दिया है कि सरकार उनके साथ खड़ी है। हर हाल में उत्तराखंड के हर एक छात्र को सकुशल वापस लाया जाएगा।

यूक्रेन में फंसे लोगों की वापसी पर सरकार के प्रयासों पर कांग्रेस ने उठाए सवाल

उधर, कांग्रेस ने यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच कांग्रेस ने यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने से जुड़ी सरकार की रणनीति पर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए सरकार संवेदनशील नजर नहीं आ रही है। इसको लेकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने सरकार पर जमकर निशाना साधा है.कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा है कि यूक्रेन की स्थिति एक रात में डेवलप नहीं हुई है।

गोदियाल ने कहा कि पिछले 15 दिनों से संभावनाएं जताई जा रही थी कि रूस यूक्रेन पर हमला करने जा रहा है. उन्होंने कहा कि बीते 15 दिनों से वहां स्थानीय स्तर पर भारत से पढ़ने या कामकाज के मकसद से गए भारतवासी यह मांग उठा रहे थे कि हमें वापस भारत बुलाया जाए। उनके वापसी के लिए उनकी व्यवस्था की जाए लेकिन अफसोस की बात है कि उत्तराखंड सरकार ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया है, जिस कारण आज वहां स्वजन दिक्कतों का सामना कर रहे हैं।

 

61 thoughts on “चिंता: यूक्रेन में फंसे हैं उत्तराखंड के 100 से अधिक लोग, कांग्रेस बोली, वापसी को राज्य सरकार नहीं कर रही गम्भीर प्रयास

  1. Aw, this was a really nice post. In concept I want to put in writing like this additionally – taking time and precise effort to make an excellent article… however what can I say… I procrastinate alot and not at all seem to get one thing done.

  2.   伍国樑估计,如果国内的大众媒体,比如一些上星卫视能放开限制,播放德州扑克赛事,或者允许做一些德州扑克真人秀,德州扑克产业肯定能得到更大的发展机会,也将带来更多的产业红利。 随著募资商品顺利完成,再与金马奖联名合作,宇辰一直在思考马丘的下一步,考量人力资源与品牌将朝向长久经营的模式运行,必须建构属于自己的品牌网站来开设贩售通路,而要从设计背景跨领域到商业营销,对他而言是相当大的挑战,为此也做了非常多功课将市面上的开店平台来回比较,更进一步说到「平台选定之后将对品牌营运将起到关键作用,所以必须慎重决定!」最终定锚于网路开店平台 SHOPLINE。 https://martinynbq653108.angelinsblog.com/15748484/王牌-大-老-二 百家号的运营机制是什么?百家号怎么运营 提到“智能胶囊数据中心”,百家云负责人表示:“这个方案既可以减少带宽成本,全面降低智慧校园建设运维;又可以提高算力和处理的实时性,将实时视频参与体验嵌入到智慧校园应用中,升级智慧教育实时互动体验。” 发牌员会派出【庄家】和【闲家】两份牌,总得9点或最接近9点的一家胜出。所有从2到9的牌,其数值就是他们显示的点数:A当作是1点,K、Q、J、10是0点,而加起来等于10的也当作是0点;当任何一家头两张牌的点数总和为8或9,就称为【天生赢家】。任何一家拿到【天生赢家】,牌局就算结束,不再补牌。9最大,0最小;点数相同则为和。派出两张牌后,如果需要补牌,将依照补牌规则多发一张牌。

Leave a Reply

Your email address will not be published.