पीडब्ल्यूडी दफ्तर में फिल्मी अंदाज में तमंचा लेकर घुसा युवक, अधिशासी अभियंता की कनपटी पर रिवाल्वर तान धमकाया

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल क्राइम
खबर शेयर करें

 

देहरादून। लोक निर्माण विभाग दफतर में आज एक युवक फिल्मी अंदाज में खुले आम तमंचा लहराते सीधे अधिशासी अभियंता कक्ष में घुसा, जहां उसने अधिशासी अभियंता की कनपटी पर तमंचा तान कर सड़क का टेंडर निरस्त न करने पर गोली चलाने की धमकी देने लगा। इतने में वहां सहायक अभियंता आ गए, तो उनकी भी पैरों तले जमीन खिसक गई।

इसके बाद उन्होंने किसी तरह युवक को काबू करते किया। इतने में दफतर के भी कर्मचारी एकत्रित हो गए, जिसके बाद युवक को किसी तरह से वहां से खदेड़ा लिया गया। उधर, इस घटना से दफतर के अधिकारी-कर्मचारी दहषत में है। मामले को लेकर राजस्व पुलिस में तहरीर देकर आरोपी युवक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई है।

यह मामला देहरादून ज़िले के विकास खंड कालसी के अंतर्गत लोक निर्माण विभाग के सहिया डिवीजन का है। आरोपी युवक नाम रोहित तोमर निवासी तारली गांव बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार पीडब्ल्यूडी सहिया डिवीजन नई स्वीकृत सहिया-तारली मोटर मार्ग का निर्माण कर रहा है। सड़क का समरेखण और एस्टीमेट स्वीकृत होने के बाद मार्ग निर्माण के लिए टेंडर जारी किया है।

यह खबर लगते ही आरोपी युवक दफतर में देशी तमंचा लहरातेह हुए आ धमका और अधिशासी अभियंता डीपी सिंह के कक्ष में घुसकर टेंडर निरस्त करने को लेकर धमकी देने लगा। आरोपी युवक ने कहा कि उक्त मार्ग में उसका खेत आ रहा है। वह खेत नहीं देगा।

इस पर अधिशासी अभियंता ने उससे लिखित आपत्ति दर्ज कराने को कहा, तो युवक भड़क गया। उसने सीधे अधिशासी अभियंता पर कट्टा तान दिया, जिससे दफतर के अधिकारी-कर्मचारी दशहत में आ गए। अधिशासी अभियंता डीके सिंह ने मामले में क्षेत्रीय पटवारी को तहरीर दी है। साथ ही उप जिलाधिकारी को भी लिखित में शिकायत देकर आरोपी युवक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

आरोपी युवक के खिलाफ कार्रवाई न होने तक काम नहीं करेंगे अभियंता

युवक द्वारा तमंचा लेकर धमकी देने और अभद्रता करने संबंधी मामले की उत्तराखंड डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ, लोक निर्माण विभाग के खंडीय अध्यक्ष और सचिव ने कड़ी भर्त्सना की है। नेताद्वय ने कहा कि इस तरह सरे आम तमंचा लेकर कार्यालय परिसर में घुसने और धमकी देने से कार्यालय के सभी कार्मिकों में भय का माहौल है।

अभियन्ताओं का कहना है कि ऐसे दहशत के महौल में दफ्तर में कार्य करना संभव नहीं है। जब तक आरोपी युवक के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो जाती, तब तक डिवीजन के सभी कनिष्ठ अथ्भ्यंता, अपर सहायक अभियंता और सहायक अभियंता दफतर में काम नहीं करेंगे और न ही दफतर में प्रवेश करेंगे।

13 thoughts on “पीडब्ल्यूडी दफ्तर में फिल्मी अंदाज में तमंचा लेकर घुसा युवक, अधिशासी अभियंता की कनपटी पर रिवाल्वर तान धमकाया

  1. Melissa hWyqfjAYiO 6 18 2022 priligy and viagra 1 Differential Background of Accumulated Damages in Healthy and Cancer Cells Although responses to traditional DNA damaging anticancer therapy are limited in CSC rich tumors, the possibility to specifically target the differences in DNA repair capacity between normal and tumor cells is exciting

  2. Comment * Dr. Sidelinger says districts should prepare for potentially long isolations for those people because recovering from hMPXV can take weeks, “We are asking schools to plan now for how they will support staff and students who may have prolonged times isolating at home while they recover. Schools should plan for how they will protect confidentiality of school community members who are sick and address Monkeypox in a non-stigmatizing manner.” Neither the Canadian Securities Exchange nor its Regulation Services Provider have reviewed or accept responsibility for the adequacy or accuracy of this release. The ritual use of psilocybin for mystical or spiritual purposes dates back to pre-Columbian Mesoamerican societies and continues to this day. Psilocybin is often used recreationally at dance clubs or by people seeking a transcendent spiritual experience. https://mill-wiki.win/index.php?title=Best_psilocybin In the search for treatments for severe psychiatric symptoms, drugs that initiate a physiological response by binding to 5-HT2A receptors are experiencing a resurgence. The fact that 5-HT2A receptors mediate the hallucinogenic effects of drugs, such as LSD and psilocybin, suggests this receptor may influence the hallucinations and perceptual disturbances of schizophrenia. Despite their burgeoning promise in the field of psychiatry, psychedelic drugs are not yet considered to be mainstream medicine, and their use is still largely condoned only in experimental or monitored settings. These substances can cause severe impairment and should not be used without a guide who is not under the influence, who can provide calming support and or call for help if someone is having a bad trip or an adverse reaction.

Leave a Reply

Your email address will not be published.