दुःखद: ओणेश्वर मेले में एक घर का बुझ गया चिराग, बेटे की मौत से गांव में खुशियों की जगह छाया मातम

उत्तराखंड समाज-संस्कृति
खबर शेयर करें
जनपक्ष टुडे संवाददाता, नई टिहरी। टिहरी जिले के प्रतापनगर में देवल ओणेश्वर मेले में अपने गांव से देवडोली लेकर मंदिर प्रांगण में पहुंचे एक किशोर की मौत हो गई। देवडोली छुलाने के दौरान वह लड़खड़ा कर मैदान प्रांगण में गिर पड़ा। महाशिवरात्रि के दिन हंसी खुशी के बीच देवडोली के साथ मेले में पहुंचे किशोर की अचानक मौत के बाद किशोर के गांव खोलगढ़ पल्ला में कोहराम मच गया।

मंगलवार को महाशिवरात्रि के पर्व पर सुबह खोलगढ़ पल्ला निवासी राजपाल सिंह मिश्रवाण का 17 वर्षीय पुत्र राजन मिश्रवाण गांव से देवडोली के साथ देवल ओणेश्वर मंदिर पहुंचा था। मंदिर में आयोजन स्थल पर देव डोलियों के नृत्य के समय करीब 11 बजे वह बेहोश होकर वहीं फर्श पर गिर पड़ा। अन्य श्रद्धालु उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चौंड लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। डा. आशुतोष ने बताया कि अस्पताल पहुंचने से पहले ही युवक की मौत हो चुकी थी।

महाशिवरात्रि के दिन डोली के साथ मंदिर पहुंचे किशोर कि अचानक इस तरह मौत होने से जहां मृतक के परिवार में कोहराम मचा है वही उसके गांव वाले भी स्तब्ध हैं। किशोर मिश्रवाण गांव इंटर कॉलेज में 10वीं में पढ़ता था और अपनी तीन बहनों का इकलौता भाई था।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार परिजनों ने पोस्टमार्टम करने से इनकार करते हुए शव को अपने साथ ले गए। छात्र की अचानक मौत से क्षेत्र में शोक छा गया है।

 

17 thoughts on “दुःखद: ओणेश्वर मेले में एक घर का बुझ गया चिराग, बेटे की मौत से गांव में खुशियों की जगह छाया मातम

  1. 8 Whereas some flavonoids are well absorbed and distributed to multiple tissues, others have limited absorption although such flavonoids could still have systemic effects via interaction with the microbiota stromectol for sale viagra minoxidil beard chemist warehouse Zimmerman, 29, was accused of second degree murder for shooting Martin, 17, on Feb

Leave a Reply

Your email address will not be published.