मां की ममता शर्मशार, कड़ाके की ठंड में नवजात को खुले मैदान में फेंका

उत्तराखंड क्राइम समाज-संस्कृति
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे संवाददाता, हल्द्वानी। हल्द्वानी में मां की ममता को शर्मसार करने का मामला सामने आया है। नौ माह के नवजात बेटे को एक मां कड़कड़ाती ठंड में निर्वस्त्र खुले मैदान में फेंक गई। पुलिस ने नवजात को अस्पताल में भर्ती कराया है। डाक्टर के मुताबिक बच्चा फिलहाल स्वस्थ है।

गुरुवार की सुबह बरेली रोड स्थित पुरानी आइटीआइ मैदान में लोग मार्निंग वाक के लिए गए थे। जहां उन्हें मासूम के रोने की आवाज सुनाई दी। लोगों ने पास जाकर देखा तो मासूम निर्वस्त्र पड़ा था। उन्होंने इसकी सूचना मंडी चौकी इंचार्ज विजय पाल सिंह को दी।

मौके पर पहुंचे चौकी इंचार्ज ने बिना देरी किए मासूम को उठाया और सुशीला तिवारी अस्पताल लेकर पहुंचे। उन्होंने बताया कि लगता है कि मासूम को पैदा होते ही फेंका गया है। आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से आरोपित की तलाश की जा रही है। मासूम को फेंकने के मामले में अज्ञात आरोपी पर केस दर्ज किया गया है।

कहते हैं कि जन्म देने वाली मां भगवान होती है, लेकिन इस नवजात के लिए मां शब्द के मायने ही बदल गए। जिस मां ने ऐसी सर्द ठिठुराती ढंड में मासूम को कुत्तों के लिए खाने के लिए छोड़ दिया। वह मां नहीं उसके लिए कसाई है। नवजात को देखकर हर किसी का कलेजा फट रहा है, लेकिन उस मां को थोड़ा भी दर्द नहीं हुआ की वह कैसे अपने कलेजे के टुकड़े को खुले मैदान में छोड़ दे। ऐसी पत्थर दिल मां को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए, ताकि दूसरी कोई मां ऐसा करने की जुर्रत न कर सके और किसी बेकसूर बच्चे को ऐसा कष्ट न भोगना पड़े।

2,926 thoughts on “मां की ममता शर्मशार, कड़ाके की ठंड में नवजात को खुले मैदान में फेंका