‘संकट की घड़ी’ में शाह के ‘भरोसे’ पर खरे उतरे धामी

उत्तराखंड मौसम/आपदा राजनीति
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आपदा के समय ‘बचाव और राहत अभियान’ की कमान खुद संभालने पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा कि ‘केंद्र से जारी चेतावनी के बाद राज्य सरकार की तत्परता और सतर्कता से अतिवृष्टि के प्रभाव को काफी हद तक कम करने में सफलता मिली है। धामी संकट की घड़ी में पूरी तरह से खरे उतरे, उन्होंने स्थिति को बहुत अच्छे तरीके से संभाला’।

आपदा प्रभावित क्षेत्रों में बचाव और राहत में तेजी लाने के लिए मुख्यमंत्री धामी ने गढ़वाल से कुमाऊं तक कई तूफानी दौरे किए। पीड़ितों को ढांढस बंधाने में उन्होंने रात–दिन एक कर दिया। हर पीड़ित के पास पहुंचने को वह आतुर दिखे। जलभराव के कारण कई जगहों पर उन्हें ट्रैक्टर में या फिर पैदल सफर करना पड़ा। रेस्क्यू में लगे एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना, पुलिस और अग्निशमन दल के हजारों जवानों का मुख्यमंत्री ने ग्राउंड जीरो पर रहकर लगातार हौसला बढ़ाया।

अभियान के बीच धामी को कई बार त्वरित निर्णय लेने पड़े, जिसमें उन्होंने वक्त बर्बाद नहीं किया। आपदा से प्रभावित हुए तीन जनपदों रुद्रप्रयाग, उधमसिंहनगर और नैनीताल की मुख्यमंत्री ने निरंतर मॉनिटरिंग की। जरूरत पड़ने पर अधिकारियों को सख्त निर्देश भी दिए। आपदा के कठिन दौर में धामी ने शानदार नेतृत्व कौशल का प्रदर्शन किया। तमाम इलेक्ट्रॉनिक चैनलों, समाचार पत्रों और सोशल मीडिया में युवा मुख्यमंत्री की सराहना देखने को मिली।

इसी बीच आपदा से हुए नुकसान का जायजा लेने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखण्ड पहुंचे। सीएम धामी एक साथ उन्होंने अतिवृष्टि से प्रभावित इलाकों का दो घंटे तक हवाई दौरा किया। उसके बाद शाह ने केंद्र और राज्य सरकार के अधिकारियों व आपदा प्रबंधन में लगे लोगों के साथ उच्चस्तरीय बैठक में क्षति की विस्तृत जानकारी हासिल की। मीडिया से बातचीत में केंद्रीय गृह मंत्री ने भरोसा दिलाया कि इस मुसीबत के इस दौर में केंद्र सरकार पूरी तरह से देवभूमि के लोगों के साथ खड़ी है।

उन्होंने कहा कि भारी बारिश की चेतावनी मिलते ही मुख्यमंत्री धामी ने अयोध्या दौरे पर होने के बावजूद मुख्य सचिव को फोन करके समूचे सरकारी सिस्टम को सतर्क कर दिया। चारधाम यात्रा अस्थाई तौर पर रोक दी गई। सभी आपदा केंद्र एक्टिव कर दिए गए। अतिवृष्टि के तत्काल बाद मुख्यमंत्री धामी रेस्क्यू अभियान पर निकल गए। उन्होंने आपदा की घड़ी में बेहतरीन तरीके से रेस्पॉड किया।

शाह ने कहा कि समय पर उठाए गए एहतियाती कदमों के कारण आपदा में ज्यादा नुकसान होने से बच गया। वरना, जानमाल की और ज्यादा हानि हो सकती थी। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि सीएम धामी के दिशानिर्देशन में ‘बचाव और राहत’ अभियान की तर्ज पर प्रभावितों का पुनर्वास भी इसी गंभीरता के साथ होगा। केंद्र सरकार से बराबर अच्छे तालमेल और दूरभाष पर लगातार पीएम मोदी को अपडेट रखने को लेकर उन्होंने धामी को खूब सराहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.