राहत: स्कूलों में हुई छुट्टी तो आपदा प्रभावितों को भेजा छात्रों के लिए तैयार भोजन

उत्तराखंड जनपक्ष मौसम/आपदा
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे संवाददाता, देहरादून। शनिवार को देहरादून जिले में हुई अतिवृष्टि से प्रभावित इलाकों में शिक्षा विभाग की ओर से करीब 10000 लोगों को निशुल्क भोजन की व्यवस्था की गई। जनपद के अधिकांश क्षेत्रों में हुई अतिवृष्टि के मद्देनजर जिला प्रशासन की ओर से विद्यालयों में अवकाश का निर्णय लिया गया, लेकिन सूचना समय पर प्राप्त न होने के कारण प्रधानमंत्री पोषण योजना की केन्द्रीयकृत रसोई से विद्यार्थियों के लिए भोजन तैयार किया जा चुका था।

ऐसी आपात स्थिति देखते हुए महानिदेशक विद्यालयी शिक्षा वंशीधर तिवारी ने तत्काल देहरादून के मुख्य शिक्षा अधिकारी डा. मुकुल कुमार सती को केन्द्रीयकृत रसोई में छात्र-छात्राओं के लिए तैयार किए गए भोजन को गाड़ियों से आपदा प्रभावित क्षेत्रों में भेजने के निर्देश दिये।

मुख्य शिक्षा अधिकारी  देहरादून ने जिला प्रशासन के सहयोग से अतिवृष्टि से प्रभावित क्षेत्र मालदेवता, कोल्हूपानी, डोईवाला, विकासनगर, भाऊवाला के साथ ही आईएसबीटी के समीपस्थ बस्तियों में पका हुआ भोजन पहुंचा कर बड़ी राहत दी है।

 

42 thoughts on “राहत: स्कूलों में हुई छुट्टी तो आपदा प्रभावितों को भेजा छात्रों के लिए तैयार भोजन

  1. clomid and nolvadex A noninferiority trial of 1, 234 randomly assigned patients with node negative invasive breast cancer analyzed locoregional recurrence rates with conventional whole breast radiation therapy versus a shorter fractionation schedule

  2. It has been discussed that changes in lipophilicity, but possibly also some redox activation, could be responsible for the unexpected activity of this ferrocene antimalarial lasix Allergan And Editas Medicine Announce Dosing Of First Patient In Landmark Phase 1 2 Clinical Trial of CRISPR Medicine AGN 151587 EDIT 101 For The Treatment of LCA10

  3. I was wondering if you ever thought of changing the page layout of your site? Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for only having 1 or 2 pictures. Maybe you could space it out better?

Leave a Reply

Your email address will not be published.