अपर निदेशक माध्यमिक ने किया अटल उत्कृष्ट कॉलेजों का निरीक्षण, प्रधानाचार्यों को दिए ये निर्देश

उत्तराखंड शिक्षा-खेल
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। अपर निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट ने आज टिहरी जिले के अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेज जाखणीधार समेत कई विद्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण कर शैक्षणिक व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने प्रधानाचार्यो को विद्यालयों में उपलव्ध भौतिक संसाधनों का विद्यार्थियों के लिए समुचित ढंग से उपयोग करवाने के निर्देश दिए। साथ ही अच्छा कार्यकरने वाले शिक्षकों का मनोबल भी बढ़ाया।

अपर निदेशक बिष्ट कहा है कि शिक्षा एवं कैरियर की कड़ी प्रतिस्पर्धा के इस दौर में विद्यार्थी संस्कारों से दूर होते जा रहे हैं। बेहतर शिक्षक वही है जो बच्चों में मानवीय मूल्यों की समझ पैदा करे। इस दौरान उन्होंने विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति, अभिलेखों का रखरखाव, छात्र नामांकन व दैनिक उपस्थिति सहित शैक्षिक प्रगति का जायजा भी लिया।

खंड शिक्षा अधिकारी जाखणीधार के कार्यालय में पहुंचकर उन्होंने कार्यालय के कर्मचारियों से विभिन्न प्रकरणों पर जानकारी प्राप्त की और लंबित प्रकरणों के प्राथमिकता के साथ निस्तारण के निर्देश भी दिए। आकस्मिक निरीक्षण के दौरान अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेजों में उन्होंने विद्यालय परिसर व निर्माणाधीन कक्षा कक्षों और शौचालय आदि का भी निरीक्षण किया।

उन्होंने विद्यालय में विज्ञान प्रयोगशालाओं, कंप्यूटर कक्ष व पुस्तकालय आदि का निरीक्षण करते हुए प्रधानाचार्य को विद्यालय में उपलब्ध भौतिक संसाधनों का छात्र हित में समुचित उपयोग करवाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि अनेक विद्यालयों में पर्याप्त सामग्री होने के बावजूद भी उसका विद्यार्थियों को लाभ नहीं मिल पाता, ऐसे विद्यालयों को चिन्हित कर प्रधानाचार्य और संबंधित शिक्षकों के प्रति जवाबदेही निर्धारित की जाएगी।

इस दौरान उन्होंने विद्यालय में शिक्षकों और प्रधानाचार्य की बैठक लेकर प्रत्येक विषयाध्यापक के साथ विषयगत शैक्षिक प्रगति पर विस्तार पूर्वक जानकारी प्राप्त की। इस दौरान उन्होंने शिक्षकों को अपने शैक्षिक कार्य को रोचक बनाने के लिए अनेक सुझाव भी दिए। उन्होंने भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान भूगोल, गणित और जीव विज्ञान आदि विषय से संबंधित प्रयोगशालाओं में उपलब्ध सामग्री का छात्रों को प्राथमिकता के साथ उपयोग करवाने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि विद्यालयों में प्रत्येक वर्ष अनुदान मद से पर्याप्त समग्र क्रय की जा रही हैं, किंतु कुछ विद्यालयों में छात्रों के लिए उपयुक्त सामान का शिक्षक उपयोग करवाने में उदासीनता बरतते हैं। ऐसे शिक्षकों के प्रति शीघ्र जवाबदेही निर्धारित की जाय। उन्होंने प्रधानाचार्य को निर्देश दिए हैं कि अटल उत्कृष्ट इंटर कॉलेज के रूप में विद्यालय में अंग्रेजी माध्यम में शिक्षण के लिए बच्चों को प्रेरित किया जाए।

अपर निदेशक एमएस बिष्ट ने कहा है कि मौजूदा दौर में बच्चे अभिभावकों की अत्यधिक आकांक्षाओं के कारण शैक्षिक और कैरियर संबंधी प्रतिस्पर्धा के दबाव में हैं, जिस कारण वे संस्कारो से दूर होते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अच्छे शिक्षक वही साबित हो सकते हैं जो विद्यार्थियों को शिक्षित करने के साथ-साथ उनके अंदर मानवीय मूल्यों का विकास भी कर सके और उन्हें एक संवेदनशील इंसान बना सकें।

उन्होंने कहा कि शैक्षिक योग्यता हासिल कर सफल होना एक अलग बात है जबकि शिक्षित होने के साथ एक बेहतर इंसान बनना अलग बात है। उन्होंने विद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के कार्यों की जानकारी लेते हुए राष्ट्रीय सेवा योजना प्रभारी डॉ कपिल देव सेमवाल को निर्देशित किया कि एनएसएस इकाई के बच्चों को समाज में नशा मुक्ति के लिए विशेष रूप से प्रेरित करें।

इस दौरान उन्होंने बेहतरीन कार्य करने वाले अनेक शिक्षकों के उदाहरण भी दिए। उन्होंने विद्यालय के प्रवक्ता सुशील डोभाल द्वारा संपादित वेबपेज ‘हिमवंत’ के लिए उनकी सराहना करते हुए अन्य सभी विषयाध्यापकों को ‘हिमवंत’ पर अपनी रचनात्मक गतिविधियां व शैक्षिक सामग्री अपलोड करने का सुझाव भी दिया। उन्होंने व्यायाम शिक्षक दिनेश रावत की शैक्षणिक उपलब्धियों की भी सराहना की है।

इस अवसर पर उन्होंने विद्यालय के प्रधानाचार्य दिनेश प्रसाद डंगवाल को टीम लीडर के रूप में बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए शुभकामनाएं दी हैं। बैठक में प्रवक्ता चंदन सिंह असवाल, संजीव नेगी, सुशील डोभाल, जेएस कौशल, डॉ कपिलदेव उनियाल, भगवान सिंह नेगी, डॉ कपिलदेव सेमवाल, योगेश सकलानी, सहायक अध्यापक एलटी पंकज डंगवाल, शीशराम पालीवाल, अमरजीत, अरविन्द उनाल, देवेंद्र सिंह, लक्ष्मी तनवर, प्रीति आदि मौजूद रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.