सिल्वर बेल्स स्कूल ने खेल महोत्सव के रूप में मनाया बाल दिवस

उत्तराखंड शिक्षा-खेल
खबर शेयर करें

 

– परम्पराएं ही हम सबको आपस मे एकजुट करती हैं: कपरुवाण

जनपक्ष टुडे संवाददाता, देहरादून। सिल्वर बेल्स एकेडमी ने बाल दिवस को खेल महोत्सव के रूप में मनाया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य राजेन्द्र सेमवाल, नकरोंदा के पूर्व प्रधान बुद्ध देव सेमवाल, पूर्व प्रधान और सामाजिक कार्यकर्ता विनोद रावत, देवभूमि महासभा के जिलाध्यक्ष सुनील थपलियाल, विद्यालय के निदेशक प्रमोद कपरुवाण शास्त्री,  प्रधानाध्यापिका मीना रतूड़ी एवं विद्यालय की प्रबंधक अंजना कपरुवाण ने दीप प्रज्वलित कर खेल महोत्सव का शुभारंभ किया।

 

कार्यक्रम से पूर्व स्कूल में प्रार्थना सभा में शिरकत करते बच्चे।

इस अवसर पर छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए अतिथि गणों ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय पंडित जवाहरलाल नेहरू के जीवन एवं उनके द्वारा किए गए कार्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस दौरान छात्र- छात्राओं ने पारंपरिक खेलों में अपने अपना हुनर दिखाकर दर्शको का खूब मनोरंजन किया।

दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ करते अतिथिगण।

कार्यक्रम ने बोलते हुए विद्यालय के निदेशक प्रमोद कपरुवाण शास्त्री ने कहा कि हमारे देश की परंपरा अकल्पनीय एवं वंदनीय है। जब भगवान राम लंका पर विजय प्राप्त कर अयोध्या वापस आते हैं तो हम दीपावली के रूप में इस खुशी को मनाते हैं। ऐसे ही भक्त प्रल्हाद की तपस्या से प्रभावित होकर भगवान नारायण ने नरसिंह रूप धारणकर हिरण्य कश्यप का संहार किया तो इस अवसर को हम होली के रूप में मनाते हैं। ऐसे ही बालप्रिय पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिवस को हम बाल दिवस के रूप में मनाते हैं। यही परंपराएं हमें एकजुट रखने का काम करती है।

कार्यक्रम सम्पन्न होने के बाद स्कूली बच्चों के साथ शिक्षक।

प्रबंधक अंजना कपरुवाण, प्रधानाचार्य मीना रतूड़ी, अध्यापिका पूजा जगूड़ी, बिभा बिष्ट, कुसुम जुयाल, रूपाली कौर, उर्वशी भट्ट, कुमारी शालिनी, रूही सावत्री एवं रोशनी बौंठियाल आदि ने खेल प्रतियोगिता के संचालन में विशेष सहयोग प्रदान किया। खेल प्रतियोगिता के बाद अतिथियों द्वारा उत्कृष्ट खेल का प्रदर्शन करने वाले नन्हें-मुन्हे बच्चों और अन्य छात्र-छात्राओं को पुरस्कार वितरित किया। अंत मे सभी को मिष्ठान वितरण कर कार्यक्रम का समापन किया गया।