मेडकल की दुकानों के विरुद्ध ड्रग विभाग की कार्रवाई दूसरे दिन भी रही जारी, अब तक 25 की जांच, 5 दुकानें की गई बंद

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल स्वास्थ्य
खबर शेयर करें

– ड्रग विभाग की छापेमारी से मेडकल स्टोर संचालकों में हड़कंप

– भनक लगते ही कई मेडिकल संचालक दुकानें बंद कर हो रहे मौके से गायब 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून: देहरादून में ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट की दवा की दुकानों पर रेड की कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी रही. मंगलवार को लाइसेंसिंग प्राधिकारी डॉ. सुधीर कुमार के नेतृत्व में छापेमार टीम ने 14 दुकानों की जांच की, जिनमें 3 दुकानों में अनियमितता पाए जाने पर उन्हें बंद कराया गया है. इन मेडकल दुकानों के सेल और पर्चेज पर  रोक लगा दी गई है. इस दौरान  22 संदिग्ध दवाओं के सैंपल भी जांच को लिए गए हैं। ड्रग विभाग की लगातार कार्रवाई से मेडिकल स्टोर संचालकों में हड़कंप मचा हुआ है।

दूसरे दी भी छापेमारी जारी 

मंगलवार को ड्रग विभाग की टीम ने दून के विभिन्न मेडिकल स्टोरों पर छापेमारी की. इस दौरान कई दवा की दुकानों में अनियमितता मिली। टीम ने पटेलनगर स्थित अराफात मेडिकल व बंगाली मेडिकल और क्लेमेंट टाउन में वर्तिका फार्मेसी के क्रय-विक्रय पर रोक लगा इन्हें बंद करा दिया है. इनमें तमाम तरह की खामियां मिली हैं. जिनमें क्रय-विक्रय का रिकॉर्ड न दिखा पाना, मौके पर फार्मासिस्ट न होना या बिना एप्रेन मिलना, दवाओं का रखरखाव सही न होना सहित कई अन्य खामियां शामिल हैं. लाइसेंसिंग प्राधिकारी डॉ. सुधीर कुमार के नेतृत्व में की गई छापेमारी टीम में औषधि निरीक्षक मानवेंद्र राणा, एफडीए विजिलेंस के उप निरीक्षक जगदीश प्रसाद रतूड़ी आदि शामिल रहे.

दो दिन में 25 दुकानों की जांच, 32 सैम्पल लिए गए 

ड्रग टीम ने दो दिन में 25 मेडिकल की दुकानों में छापेमारी की है। सोमवार को 11 और मंगलवार को 14 मेडिकल स्टोरों की जांच की गई है। औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन होने पर 9 दुकानें बंद कराई गई हैं. इसके अलावा दवा के 32 सैंपल भी लिए गए हैं. दून के विभिन्न मेडिकल स्टोर पर कार्रवाई के बाद अब इग कंट्रोल डिपार्टमेंट मेडिकल की दुकानों को बख्शने के मूड में नहीं है।

मेडिकल स्टोर पर मिली टीम को ये खामियां

– दवाओं से क्रय-विक्रय का रिकॉर्ड न दिखा पाना

– मौके पर फार्मासिस्ट न होना

– बिना एप्रेन मिलना

q दवाओं का रखरखाव सही न होना

– एक्सीपायरी डेट की दवा रखना

– ड्रग qलाइसेन्स एक्सपायर होना

ताजवर सिंह, ड्रग कंट्रोलर

मेडिकल की दुकानों के विरुद्ध छापेमार कार्रवाई लगातार जारी रहेगी। पिछले कुछ समय से विभाग की शिकायतें मिल रही थी। हालांकि यह रूटीन प्रक्रिया है। समय-समय पर इस तरह की जांच पड़ताल को कार्रवाई पूर्व से की जाति रही है। यह अभियान नियमित रूप से आगे भी चलता रहेगा। पब्लिक के साथ किसी भी तरह से खिलवाड़ नहीं होने दिया जाएगा। सभी संबंधित अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में हर गतिविधि पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं।

ताजवर सिंह, ड्रग कंट्रोलर, उत्तराखंड