डबल मर्डर: देहरादून में नौकरी पाने के लालच में एक युवक ने कर दी मालकिन और नौकर की हत्या, पुलिस ने ऐसे किया मामले का खुलासा, गिरफ्तार

उत्तराखंड क्राइम
खबर शेयर करें

-थाना प्रेमनगर क्षेत्रान्तर्गत हुए डबल मर्डर का पुलिस ने किया खुलासा, घटना को अंजाम देने वाला अभियुक्त गिरफ्तार

-आर्थिक तंगी के चलते अपराधी बन गया युवक, पुलिस ने सीसीटीवी से जुटाए सबूत

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। देहरादून के प्रेमनगर क्षेत्र में हुए डबल मर्डर का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस का दावा है कि बेरोजगार युवक ने कोठी में नौकरी पाने के लिए नौकर की हत्या की है। नौकर की हत्या की चश्मदीद गवाह बनी मालकिन को भी पकड़े जाने के डर से मौत की घाट सुला दिया। इस घटना में पुलिस ने सर्विलांस और सीसीटीवी फुटेज की मदद से खुलासे के दावा किया है। आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस घटना के खुलासे से पुलिस ने राहत की सांस ली है।

मिली जानकारी के अनुसार 29 अक्टूबर को सुभाष शर्मा निवासी: ग्राम धौलास, प्रेमनगर के द्वारा कंट्रोल रूम के माध्यम से थाना प्रेमनगर को सूचना दी कि उनकी पत्नी उन्नति शर्मा तथा उनका नौकर श्याम उर्फ राजकुमार थापा नहीं मिल रहे हैं। उक्त सूचना पर थानाध्यक्ष प्रेमनगर मय चीता कर्मचारीगणो के सुभाष शर्मा के निवास पर पहुंचे तथा सुभाष शर्मा से आवश्यक जानकारी लेते हुए उनके घर के आस-पास उन्नति शर्मा तथा नौकर श्याम उर्फ राजकुमार थापा की खोजबीन की गयी, खोजबीन के दौरान पुलिस टीम को उक्त दोनो गुमशुदा लोगो के शव घर के पीछे किचन के पास पन्नी से ढक कर छिपाये हुए मिले।

जिसकी सूचना तत्काल उच्चाधिकारिगणों को दी गयी। घटना के सम्बन्ध में सुभाष शर्मा के द्वारा दी गयी लिखित तहरीर के आधार पर थाना प्रेमनगर में मु0अ0सं0: 228/21 धारा: 302 भादवि बनाम अज्ञात का अभियोग पंजीकृत किया गया। प्रेमनगर क्षेत्र में हुए इस दोहरे हत्याकाण्ड की गम्भीरता के दृष्टिगत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून द्वारा स्वंय घटनास्थल पर जाकर मौके पर मौजूद अधिकारियों से घटना के सम्बन्ध में जानकारी ली गयी।

घटना के खुलासे और अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधीक्षक नगर के पर्यवेक्षण तथा क्षेत्राधिकारी प्रेमनगर तथा क्षेत्राधिकारी मसूरी के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों का गठन किया गया। गठित टीमों द्वारा घटना स्थल के आस-पास के क्षेत्र की सघन काम्बिंग कर आवश्यक साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की गयी। साथ ही आस-पास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों व निर्माण कार्य में लगे मजदूरो से गहनतापूर्वक पूछताछ की गयी।

सीसीटीवी से खुला हत्या का राज

इसके अतिरिक्त एक टीम द्वारा घटना स्थल के आस-पास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेजों को चैक किया गया। सीसीटीवी फुटेजों के अवलोकन के दौरान पुलिस टीम को कुछ संदिग्ध व्यक्तियों की फुटेज प्राप्त हुई, जिनके सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने के लिए मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया।

घटना के सम्बन्ध में वादी सुभाष शर्मा से पूछताछ के दौरान पुलिस टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि आदित्य नाम का एक लडका कुछ दिन पूर्व उनके घर पर नौकरी मागने के लिये आया था, परन्तु उन्नति शर्मा द्वारा घर पर पूर्व से ही एक नौकर श्याम उर्फ राजकुमार थापा के होने तथा किसी अन्य व्यक्ति की आवश्यकता न होने की बात कहकर उसे मना कर दिया और उसे कहीं और काम दिलाने की बात कही।

पुलिस टीम द्वारा आदित्य के सम्बन्ध में आस-पास के लोगो से जानकारी की गयी तो ज्ञात हुआ कि आदित्य के द्वारा अपने रिश्तेदारो व अन्य लोगो से काफी पैसे उधार लिये गये है तथा आर्थिक तंगी के कारण उसके द्वारा पूर्व में भी जहरीले पदार्थ का सेवन कर आत्महत्या करने का प्रयास किया गया था। घटना के बाद दिनाँक 30 अक्टूबर को वह बीमारी का बहाना बनाकर 108 एम्बुलेंस के माध्यम से दून अस्पताल में भर्ती हुआ था।

जहां से वह दूसरे दिन दिनाँक: 01-10-2021 को डिस्चार्ज हो गया। सीसीटीवी फुटेजो से प्राप्त संदिग्ध हुलिये का आदित्य के हुलिये से मिलान करने पर वह उससे मिलता जुलता प्रतीत हुआ। जिस पर पुलिस टीम द्वारा संदिग्धता के आधार पर आदित्य को हिरासत में लिया गया। आदित्य से सख्ती से पूछताछ करने पर उसके द्वारा दिनाँक: 29-09-2021 को  उन्नति शर्मा व उनके नौकर श्याम उर्फ राजकुमार थापा की हत्या करना स्वीकार किया गया।

जिस पर अभियुक्त को दिनाँक: 01-10-2021 की रात्रि को गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त की निशानदेही पर पुलिस टीम द्वारा घटना में प्रयुक्त लोहे की रॉड को सुभाष शर्मा के घर के पीछे जंगल से तथा अभियुक्त द्वारा घटना के समय पहने गये कपड़ो को अभियुक्त के घर के पास से बरामद किया गया। अभियुक्त को समय से न्यायालय के समक्ष पेश किया जायेगा।

गिरफ्तार अभियुक्त का विवरण

आदित्य पुत्र स्व0 श्री सुरेन्द्र निवासी: खावडवाला थाना गढी कैन्ट देहरादून उम्र: 20 वर्ष

पुलिस को पूछताछ में बताई ये बातें

पूछताछ में अभियुक्त आदित्य द्वारा बताया गया कि मैं अपने घर पर अपनी माताजी के साथ रहता हूँ। पूर्व में मैं गढीकैंट में किराये के मकान में रहकर आर्मी में जाने की तैयारी करता था। कोटद्वार में आर्मी की भर्ती के दौरान मैने दौड पास कर ली थी, परन्तु हाथ में टेनट्यूड कट होने के कारण मैं मेडीकल मे बाहर हो गया। उसके बाद मैंने गढी कैंट का मकान छोड दिया और खबडवाला में पट्टे की भूमि पर टीन शेड लगाकर अपनी मां के साथ रहने लगा।

पूर्व में एक बार मैने उन्नति शर्मा के घर चार से पांच दिन तक काम किया, जहां से मुझे 500 ₹ प्रतिदिन के हिसाब से पैसे मिले। उसके पश्चात मै दोबारा उन्नति शर्मा के घर पर गया, और उनसे घर पर काम देने की बात कही तो उन्नति शर्मा द्वारा बताया गया कि हमारे घर पर काफी समय से श्याम उर्फ राजकुमार थापा नौकर का काम करता है और हमे अभी किसी अन्य काम वाले की आवश्यकता नही है।

उसके बाद 26-09-2021 को मैं पुन: काम मांगने के सिलसिले में मै उन्नति शर्मा से मिलने के लिये उनके घर पर गया और गेट से उन्नति शर्मा को फोन किया तो उन्होने मेरा फोन नहीं उठाया। इसी दौरान नौकर श्याम थापा गेट पर आया और उन्नति शर्मा को घर के बाहर आदित्य के आने की सूचना दी।

उन्नति शर्मा द्वारा पुन: मुझे घर पर कोई काम न होने समबन्ध में बताते हुए फुलसैनी में एक दुकान में काम दिलाने की बात कही गयी तथा वह मुझे उक्त दुकानदार के पास लेकर गयी। दुकानदार द्वारा मुझे बताया गया कि वह मुझे रहने के लिये अपने स्टोर में ही एक बेड दे देगा, परन्तु मेरे द्वारा उसे बताया गया कि मेरे साथ मेरी माताजी भी रहती हैं, जिस कारण मै उक्त स्टोर में नही रूक सकता,

जिसके पश्चात हम फुलसेनी से वापस आ गये। उसके बाद से ही मुझे लगने लगा कि जब तक मैडम उन्नति शर्मा के घर पर उनका नौकर श्याम उर्फ राजकुमार थापा रहेगा तब तक मुझे उसे घर में कोई काम नहीं मिल सकता। जिस पर मैने श्याम थापा को रास्ते से हटाने के लिये उसकी हत्या की योजना बनाई और योजना के मुताबिक 29-09-2021 को प्रात: 04ः00 बजे मैं घर से पैदल चलकर जंगल के रास्ते होते हुए उन्नति शर्मा के बंगले के पास पहुचा तथा वहां से मैने बगले का गेट फांदकर घर के परिसर में प्रवेश किया।

परिसर में आने केे बाद मैं किचन के रास्ते घर के अन्दर जाने का प्रयास कर ही रहा था कि मुझे किचन के बाहर श्याम उर्फ राजकुमार थापा मिल गया, इससे पहले कि श्याम मुझसे कुछ कह पाता मैने बिना देरी किये वहीं जमीन पर पडी एक लोहे की राड उठाकर उसके सिर पर उससे दो बार प्रहार किया, जिससे वह मौके पर ही गिर गया।

इसी दौरान घर की मालकिन उन्नति शर्मा किचन से बाहर आयी तो मैं दीवार की आड में छिप गया, उन्नति शर्मा नौकर श्याम थापा की हालत देखकर चिल्लाई इसी दौरान उसने मुझे भी देख लिया था और वापस घर के अन्दर जाने के लिये वह जैसे ही मुडी तो मेरे द्वारा लोहे की रॉड से उसके सिर के पिछले हिस्से में वार किये गये, जिससे वह वहीं नीचे गिर गयी। उसके बाद मैने दोनो का गला दबाकर यह सुनिश्चित किया कि वह दोनो मर गये हैं और लोहे की रॉड को वही से पीछे जंगल की ओर फेक दिया।

उक्त दोनो शवों को मैने पास मे पडी चमकीली पन्नी से ढक दिया और दीवार फांदकर मैं वहां से जगल के रास्ते होते हुए अपने घर वापस आ गया। घर पर मैने अपने कपडे बदले और उन कपडों को एक पालीथीन में डालकर घर के पास ही छुपा दिया। अगले दिन जैसे ही मुझे आभास हुआ कि पुलिस को घटना की जानकारी हो गयी है तो बचने के लिये योजनाबद्ध तरीके से मैं खून के दस्त लगने का बहाना बनाकर 108 के माध्यम से दून अस्पताल में भर्ती हो गया।

बरामदगी

01: घटना में प्रयुक्त आला कत्ल एक लोहे की रॉड
02: घटना के दौरान पहने हुए कपडे व जूते

पुलिस टीम में ये रहे मौजूद 

पर्यवेक्षण अधिकारी सरिता डोबाल, पुलिस अधीक्षक नगर, दीपक सिंह, क्षेत्राधिकारी प्रेमनगर, नरेन्द्र पंत, क्षेत्राधिकारी मसूरी पुलिस टीम:- रविन्द्र यादव, प्रभारी निरीक्षक एसओजी, कुलदीप पंत, थानाध्यक्ष प्रेमनगर, धर्मेन्द्र रौतेला, थानाध्यक्ष क्लेमनटाउन, उ0नि0 नरेश राठौर, साइबर सेल, उ0नि0 कोमल सिंह रावत, व0उ0नि0 प्रेमनगर, उ0नि0 प्रदीप सिंह रावत, चौकी प्रभारी झाझरा, उ0नि0 विकेन्द्र कुमार, चौकी प्रभारी बिधौली,: उ0नि0 सन्दीप कुमार, थाना प्रेमनगर, का0ं नरेन्द्र रावत, कां0 सोहन बडोली,कां0 प्रदीप कुमार, कां0 460 प्रदीप कुमार, कां0 चालक लोकेश थाना प्रेमनगर ,: कां0 नवीन, कां0 देवेन्द्र, कां0 अरशद, कां0 ललित, कां0 विपिन राणा, कां0 पंकज, कां0 अमित, कां0 किरण, कां0 आशीष शर्मा (एसओजी): कां0 दीपक चौहान थाना सेलाकुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.