खुशखबरी: आजादी के 75 साल बाद देहरादून-दिल्ली हाईवे पर मोहन्ड क्षेत्र मोबाईल नेटवर्क से जुड़ा, टावर चालू होने के बाद आज से शुरू हुई मोबाइल सेवा

उत्तराखंड जनपक्ष राजकाज
खबर शेयर करें

 

जनपक्ष टुडे ब्यूरो, देहरादून। राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी का एक और प्रयास रंग लाया है। आजादी के लगभग 75 साल बाद देहरादून-दिल्ली मार्ग पर मोहड क्षेत्र मोबाइल नेटवर्क कनेक्टिविटी से जुड़ेगा। पहला टावर चालू हो गया है, जिसके बाद आज से यहां पर मोबाइल सेवा शुरू हो गई है। इसके अलावा अगले 10 दिन के भीतर इस मार्ग पर 2 और नेटवर्किंग टॉवर स्थापित हो जाएंगे।

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से सटे मोहंड डाट काली के जंगल से मोबाइल की घंटी बजने लग गई है। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी का एक और प्रयास रंग लाया है। आजादी के बाद से अभी तक जिस क्षेत्र में कोई भी सरकार मोबाइल टॉवर नहीं लगा पाई थी, वह सांसद बलूनी ने कर दिखाया। नेटवर्क न होने से यात्रियों के लिए ये एरिया सुरक्षा के लिहाज से बेहद संवेदनशील था।

इसके साथ ही इस इलाके में राजधानी दून से रफ्फूचक्कर होकर छिपने वाले अपराधियों पर भी पुलिस नकेल कस सकेगी। यूपी के अधिकतर बदमाश डाटकाली मंदिर के बाद पुलिस को चकमा देकर भागने में अक्सर कामयाब रहते थे। ऐसे में अब पुलिस को भी इस इलाके में बदमाशों पर नकेल कसने में मदद मिलेगी।

बता दें कि राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने मीडिया को बताया कि आज नवरात्रि के इस पावन दिन पर आजादी के बाद पहली बार नेटवर्क कनेक्टिविटी से मोहन्ड डाट काली मंदिर मार्ग जुड़ जाएगा। गौर करने वाली बात यह है कि उत्तराखंड हो या यूपी अभी तक आजादी के बाद जितनी भी सरकारें आई किसी भी सरकार ने इस समस्या का समाधान नहीं किया, लेकिन राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी का यह प्रयास धरातल पर उतरा गया है।

सूत्रों के अनुसार इस इलाके में पहला टॉवर आज से शुरू कर दिया जाएगा। बता दें कि 10 दिन के भीतर इस मार्ग पर 2 और नेटवर्किंग टॉवर लगा दिए जाएंगे। मोहन्द- डाट काली मंदिर-सहारनपुर रोड इस सुविधा के बाद अब और भी सुरक्षित हो जाएगा। वहीं, बलूनी के अनुसार अगले चरण में दुरुस्त पहाड़ी क्षेत्रों के को भी मोबाइल नेटवर्किंग से जोड़ा जाएगा।

 

68 thoughts on “खुशखबरी: आजादी के 75 साल बाद देहरादून-दिल्ली हाईवे पर मोहन्ड क्षेत्र मोबाईल नेटवर्क से जुड़ा, टावर चालू होने के बाद आज से शुरू हुई मोबाइल सेवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.