आदेश: उत्तराखंड में अब दूसरे राज्यों से आने वालों को कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट पर ही मिलेगा प्रवेश

उत्तराखंड कोरोना वायरस
खबर शेयर करें
जनपक्ष टुडे संवाददाता, देहरादून। कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही ओमिक्रॉन वैरिएंट के खतरों के बीच देहरादून जिला प्रशासन और सख्त हो गया है। उत्तराखंड में नाइट कर्फ्यू के साथ ही अब बाहरी राज्यों से उत्तराखंड आने वालों की अब सीमाओं पर सख्ती से जांच के बाद ही प्रवेश किया जाएगा। साथ ही 72 घण्टे की नेगेटिव कोविड रिपोर्ट लाने पर भी प्रवेश दिया जाएगा। इधर, नए साल के जश्न की तैयारी कर रहे होटल व्यवसायियों को सख्ती का असर पड़ेगा।

अब देहरादून के जिलाधिकारी डॉ. आर राजेश कुमार ने आदेश जारी करते हुए कोरोना निगेटिव जांच के बिना बाहरी राज्यों के व्यक्ति जिले में प्रवेश नहीं करने देने के आदेश जारी किए। यह आदेश जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) की संस्तुति मिलने के बाद जारी किए।

मुख्य चिकित्साधिकारी की ओर से जिलाधिकारी को भेजी गई संस्तुति में कहा गया है कि ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए आरटी-पीसीआर जांच को बढ़ाना आवश्यक है। वर्तमान में जिले के विभिन्न चेकपोस्ट जैसे-आशारोड़ी, कुल्हान, रेलवे स्टेशन, आइएसबीटी व जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रैंडम सैंपलिंग की जा रही है।

लिहाजा, जो व्यक्ति बाहरी राज्यों से आ रहे हैं, उनके लिए कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य किया जाना चाहिए। उन्होंने संस्तुति की कि निगेटिव रिपोर्ट अधिकतम 72 घंटे पूर्व की होनी चाहिए। जांच के रूप में आरटी-पीसीआर, ट्रूनैट, सीबीनैट व रैट की रिपोर्ट मान्य होगी। इस संस्तुति के बाद जिलाधिकारी ने भी तत्काल आदेश जारी कर इस नई संस्तुति को लागू कर दिया है।

उन्होंने पुलिस व प्रशासन के विभिन्न अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि वह चेकपोस्ट पर मुस्तैदी के साथ बाहरी राज्यों के व्यक्तियों की जांच रिपोर्ट का परीक्षण करें। गौरतलब है कि उत्तराखंड में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी के बीच देहरादून में भी कोरोना के मामले बढ़े हैं। आज प्रदेश में कोरोना के 38 नए संक्रमित मिले।

इनमें देहरादून के 21 मामले हैं। वहीं, एक मरीज की मौत हुई, वह भी देहरादून स्थित दून मेडिकल कॉलेज में हुई। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के 222 एक्टिव केस हैं। इनमें देहरादून में 81 मरीजों का उपचार चल रहा है। दूसरे नंबर पर नैनीताल में 53 एक्टिव केस हैं।

 

240 thoughts on “आदेश: उत्तराखंड में अब दूसरे राज्यों से आने वालों को कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट पर ही मिलेगा प्रवेश

  1. Although you serene reach sexual trail, you might ejaculate to a great extent little or no semen. This is now called a unembellished orgasm. Retrograde ejaculation isn’t injurious, but it can provoke man’s infertility. Treatment looking for retrograde ejaculation is mostly solely needed to renew fertility. Source: cialis commercial bathtub

  2. What Happens If We Deliver Sperm Daily? There’s nothing to suggest that ejaculating daily is unhealthy. Hang out ejaculation has no specialist side effects and, so covet as it’s not associated with persistent masturbation or porn addiction, it can in actuality be profitable to your emotional well-being. Source: tadalafil dosage 40 mg

  3. It’s a fetching plebeian fable that you can forever disburden oneself whether someone’s had an orgasm. But in point of fact, there’s no modus operandi to recognize — the simply trail to recognize for sure is to ask. All people adventure orgasms in new ways, and they can discern different at contrary times. Source: cialis 20

Leave a Reply

Your email address will not be published.