हरीश रावत की चुटकी, टीएसआर-2 में अल्टू-पलटू राम यानि दल-बदलू हावी

उत्तराखंड राजनीति
खबर शेयर करें

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत कुछ न कुछ नया करके हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। इस बार उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर तीरथ सरकार के लिए कुछ ऐसा लिखा है, जो राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना है।

हरीश रावत न केवल उत्तराखंड की राजनीति बल्कि देश की राजनीति के भी दिग्गज नेता हैं। उत्तराखंड में वर्ष 2016 में उनकी सरकार अपने विधायकों के कारण ही गिर गई थी। वह अलग बात है कि भाजपा का यह दांव बाद में सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद औंधे मुंह गिर गया था लेकिन हरीश रावत के दिमाग में तब से कांग्रेस के बागियों को लेकर एक नाराजगी है, जिसे वह अक्सर जाहिर करते रहते हैं।

आज भी उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट कर टीएएआर -1 और टीएसआर -2 के बीच का मतलब बेहद सरल शब्दों में व्यक्त किया है। उन्होंने लिखा है कि टीएसआर -1 में जहां भाजपा के नेता और कार्यकर्ता हावी हुए थे, तो टीएसआर -2 की सरकार में अभी तक अल्टू-पलटू राम हावी दिखाई दे रहे हैं यानि दल-बदलू।

ये लिखा है फेसबुक में

लोग मुझसे बार-बार पूछते हैं कि टीएसआर 1 और टीएसआर -2 की सरकार में क्या अंतर है? व्यक्तियों के काम करने और व्यक्तित्व में थोड़ा अंतर तो होता ही है, लेकिन एक अंतर जो मुझको स्वच्छ-स्वच्छ दिखाई दिया है, टीएसआर -1 की सरकार में भाजपा के नेता और कार्यकर्ता हावी थे और टीएसआर -2 की सरकार में अभी तक अल्टू- पल्टूराम हावी दिखाई दे रहे हैं, जिनको आप संसदीय व न्यायिक भाषा में दल-बदलू भी कह सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.