हरिद्वार कुंभ : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने की अखाड़ा प्रतिनिधियों के साथ मंत्रणा

देश-दुनिया
खबर शेयर करें

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बीते रोज मुख्यमंत्री आवास में नगर विकास मंत्री श्री मदन कौशिक एवं अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी एवं अन्य अखाड़ों के प्रतिनिधियों के साथ आगामी कुम्भ मेले के आयोजन के संबंध में विचारविमर्श किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अखाड़ा परिषद के सदस्यों के विचार एवं सुझावों पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने अखाड़ा परिषद के सदस्यों से अपनी समस्याओं से नगर विकास मंत्री को अवगत कराने को कहा। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि 2021 में हरिद्वार में आयोजित होने वाला कुम्भ निर्धारित समय पर आयोजित होगा। इसका स्वरूप कैसा रहेगा यह उस समय की परिस्थितियों पर भी निर्भर रहेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अखाड़ों द्वारा श्रद्धालुओं के लिये अपने स्तर पर की जाने वाली व्यवस्थाओं के लिये जिनके पास भूमि उपलब्ध होगी उन्हें ग्रान्ट के रूप में धनराशि उपलब्ध करायी जायेगी, कार्यों की गुणवत्ता आदि की जांच हेतु विभागीय अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी जायेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्भ से पूर्व हरिद्वार में संचालित सभी स्थायी निर्माण कार्य पूर्ण कर दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि हरिद्वार को जोड़ने वाले पुलों एवं सड़कों के निर्माण में भी तेजी से कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने अखाड़ा परिषद के सदस्यों को आश्वस्त किया कि उनकी समस्याओं का त्वरित समाधान किया जायेगा। अखाड़ों को जोड़ने वाली सड़कों के पुनर्निर्माण के साथ ही अतिक्रमण को हटाने तथा साफसफाई पर विशेष ध्यान दिया जायेगा।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने मुख्यमंत्री से हरिद्वार कुम्भ मेले में घाटों का नाम 13 अखाड़ों के ईष्ट देवों तथा सेक्टरों के नाम भी अखाड़ों के नाम पर रखे जाने का अनुरोध किया। उन्होंने अखाड़ों को दी जाने वाली धनराशि से होने वाले कार्यों की गुणवत्ता की जांच आदि के लिये किसी अधिकारी को नामित करने का भी अनुरोध किया। उन्होंने अखाड़ों के सम्पर्क मार्गों की मरम्मत, बिजली, पानी, साफसफाई, शौचालयों की मरम्मत आदि के लिए भी मेले से जुड़े अधिकारियों को निर्देश देने का अनुरोध मुख्यमंत्री से किया।

बैठक में आई.जी कुम्भ मेला संजय गुंज्याल, महंत रवीन्द्र पुरी, महंत देवेन्द्र सिंह शास्त्री, महंत भगत राम, रणधीर गिरी, अम्बिका पुरी, बलराम भारती, प्रेम दास आदि उपस्थित थे।

41 thoughts on “हरिद्वार कुंभ : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने की अखाड़ा प्रतिनिधियों के साथ मंत्रणा

  1. I just wanted to post a small note to be able to appreciate you for all the fantastic facts you are writing at this site. My prolonged internet search has finally been recognized with wonderful suggestions to talk about with my partners. I would declare that we site visitors actually are extremely fortunate to dwell in a good website with very many marvellous people with beneficial tips and hints. I feel extremely fortunate to have come across your webpage and look forward to some more enjoyable moments reading here. Thanks once more for everything.

  2. I simply needed to thank you so much all over again. I am not sure the things I might have handled in the absence of the type of tips and hints shared by you regarding that question. It became a very frightening situation in my position, but observing this well-written avenue you handled that took me to cry with happiness. Now i am happy for your help and wish you are aware of a powerful job you happen to be accomplishing educating people through a web site. More than likely you’ve never come across all of us.

  3. My husband and i have been really glad when Edward managed to complete his investigations via the precious recommendations he obtained from your very own weblog. It is now and again perplexing to just be giving out instructions some others have been selling. Therefore we see we’ve got you to be grateful to for this. The main explanations you made, the simple blog menu, the friendships you can make it possible to instill – it is mostly awesome, and it is leading our son and us believe that this situation is brilliant, and that’s incredibly vital. Thank you for all the pieces!

Leave a Reply

Your email address will not be published.