सड़क चौड़ीकरण की मांग को लेकर गैरसैंण में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस ने किया बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज, पथराव और भगदड़ में कई घायल

उत्तराखंड राजकाज
खबर शेयर करें
  • उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में सोमवार से बजट सत्र का हुआ शुभारंभ,
  • नन्दप्रयाग घाट रोड चौड़ीकरण को लेकर आंदोलन कर रहे लोगों पर पुलिस ने भांजी लाठियां
  • लाठीचार्ज के बाद मौके पर भगदड़, कई महिलाओं और बच्चों के चोटिल होने की सूचना

गैरसैंण (चमोली)। उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में सोमवार को बजट सत्र शुरु हो गया है। इस दौरान नन्दप्रयाग घाट रोड चौड़ीकरण को लेकर आंदोलन कर रहे करीब 5 हजार लोगों पर पुलिस ने लाठियां भांजी। ये लोग प्रदर्शन करने गैरसैंण में विधानसभा का घेराव करने जा रहे थे। आक्रोशित लोगों ने पुलिस पर एकाएक पथराव कर दिया। घटना में कई प्रदर्शनकारी और पुलिस के जवान घायल हो गए।

प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल भी किया। लाठीचार्ज के बाद मौके पर भगदड़ मच गई। भगदड़ में कई महिलाओं और बच्चों के चोटिल होने की सूचना है। उधर, लाठीचार्ज की घटना पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने संज्ञान लिया है। सीएम रावत ने पूरे घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।

दरअसल, महिलाएं और स्थानीय लोग पिछले एक महीने से सड़क चौड़ीकरण की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे थे। सोमवार को बैरिकेडिंग से पुलिस लोगों को रोक रही थी, लेकिन लोग बैरिकेडिंग तोड़ कर विधानसभा की ओर जाना चाह रहे थे। इसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हो गई।

विधानसभा की ओर जाना चाह रहे थे लोग
पुलिस अधीक्षक चमोली यशवंत सिंह ने बताया कि रोड चौड़ीकरण को लेकर पिछले दो महीने से आंदोलन चल रहा है। सोमवार को करीब एक से डेढ़ हजार लोग विधानसभा की ओर जाना चाह रहे थे। विधानसभा की ओर जाने वाले रोड पर पुलिस की और से आखिरी चौकी दिवालिखाल पर आंदोलनकारियों को रोका गया।

दो पुलिस वाले भी जख्मी
यशवंत सिंह ने बताया कि जब ऐसा लगा कि माहौल ज्यादा बिगड़ रहा है, तब लाठी फटकार कर भीड़ को तितर-बितर किया गया। इसके बाद आंदोलनकारियों की ओर से पुलिस बल पर पथराव किया गया। इसमें एक सिपाही का सिर फटा है और एक पुलिस उपाधीक्षक घायल हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.