वैज्ञानिकों का दावा, कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के लिए रामबाण साबित होगी ये स्वदेशी ” नेजल वैक्सीन”

उत्तराखंड कोरोना वायरस देश-दुनिया
खबर शेयर करें

नई दिल्ली। वैज्ञानिकों का दावा देश में तीसरी लहर की संभावना पहले ही जताई जा चुकी हैं। इस दौरान छोटे बच्चे तीसरी लहर के दौरान चपेट में आ सकते हैं। डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिकों का मानना है कि भारत में बन रही नेजल वैक्सीन बच्चों के लिए रामबाण साबित होगी।

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अभी भी जारी है और जानकारों ने तीसरी लहर के आने के संकेत दे दिए हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि जो लोग दूसरी लहर की चपेट से बच गए हैं, उन्हें तीसरी लहर के दौरान कोरोना हो सकता है। जानकार मानते हैं कि तीसरी लहर के दौरान बच्चों बड़ी संंख्या में संक्रमित हो सकते हैं।

नेजल वैक्सीन बच्चों के लिए होगी अचूक दवा- डब्ल्यूएचओ
देश में अभी 18 साल से कम उम्र वाले बच्चों के लिए कोई वैक्सीन नहीं है और कई राज्यों में वैक्सीन की कमी की वजह से 18+ को भी वैक्सीन नहीं लग रही है। इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने जारी एक बयान में कहा कि कोरोना की नेजल वैक्सीन बच्चों के लिए रामबाण साबित हो सकती है।

नेजल वैक्सीन नाक के जरिए दी जाती है और इंजेक्शन के जरिए दी जाने वाली वैक्सीन से ज्यादा असरदार होती है। नेजल वैक्सीन लगवाने में भी आसान है। डॉ. स्वामीनाथन का कहना है कि ज्यादा से ज्यादा स्कूल टीचर को वैक्सीन लगवाने की जरूरत है। स्वामीनाथन का मानना है कि भारत में बनी नेजल वैक्सीन बच्चों के लिए गेमचेंजर हो सकती है।

बच्चों में अभी कोरोना के लक्षण कम और ना के बराबर
बता दें कि सरकार ने शनिवार को कहा था कि बच्चे संक्रमण से सुरक्षित नहीं है लेकिन साथ सरकार ने माना था कि बच्चों में कोरोना वायरस संक्रमण का असर कम है।

अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो मात्र तीन से चार फीसदी बच्चों को अस्पताल में भर्ती किया गया है। नीति आयोग के सदस्य डॉ.वीके पॉल का कहना है कि अगर बच्चे कोरोना वायरस से संक्रमित होंगे तो उनमें लक्षण बहुत कम होंगे या बिल्कुल नहीं होंगे। उन्होंने आगे कहा कि हमें 10-12 साल के बच्चों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

बताते चलें कि हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने इस नेजल वैक्सीन का ट्रायल करना शुरू कर दिया है। कंपनी की माने तो नेजल स्प्रे की सिर्फ चार बूंदे ही जरूरी होंगी। नाक के दोनों छेदों में दो-दो बूंदें डाली जाएंगी। क्लिनिकल ट्रायल के दौरान अभी तक 175 लोगों को नेजल वैक्सीन दी जा चुकी है। हालांकि ट्रायल के नतीजे अभी आना बाकी हैं।

33 thoughts on “वैज्ञानिकों का दावा, कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के लिए रामबाण साबित होगी ये स्वदेशी ” नेजल वैक्सीन”

  1. In this review, we identify the various factors involved in the regulation of TNBC and the potential role of YY1 in mediating several of the regulatory factors responsible for the phenotypic and malignant properties of TNBC priligy (dapoxetine)

  2. Responders to both treatments had a longer survival experience than nonresponders or responders to only one of the treatments buy clomid via mail Unless knowledge of study arm was directly available to those interpreting measures from imaging, the effect of bias may not be substantial

  3. That is the fitting weblog for anybody who desires to search out out about this topic. You understand so much its nearly arduous to argue with you (not that I truly would need…HaHa). You definitely put a brand new spin on a topic thats been written about for years. Great stuff, simply great!

  4. buy cheap cialis online How could he do such a thing with Xuan Hanbing is gentle and kind personality It is a pity that my strength is not enough, otherwise, the entire passage into the mortal world will be closed, and those masters who surpass the fairy world will not be allowed to enter the mortal world

  5. Today, I went to the beach front with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She placed the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is completely off topic but I had to tell someone!

  6. Nice read, I just passed this onto a colleague who was doing a little research on that. And he actually bought me lunch since I found it for him smile So let me rephrase that: Thank you for lunch! “The guy with the biggest stomach will be the first to take off his shirt at a baseball game.” by Glenn Dickey.

Leave a Reply

Your email address will not be published.