राजकीयकरण की एक सूत्रीय मांग को लेकर पेयजल कार्मिक मुखर, निगम मुख्यालय में धरना आज

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल
खबर शेयर करें

 

देहरादून। अधिकारी कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति, उत्तराखंड पेयजल निगम पूर्व घोषित आंदोलन कार्यक्रम के क्रम में शनिवार  18 सितंबर को निगम मुख्यालय में धरना-प्रदर्शन करही। धरने की तैयारी को लेकर शुक्रवार को समन्वय समिति के प्रांतीय पदाधिकारियों की ऑनलाइन बैठक बुलाई गई, जिसमें आंदोलन की रणनीति पर गहन मंथन किया गया। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि पेयजल निगम का राजकीयकरण करना विभाग और जनहित में जायज है। इस एक सूत्रीय मांग के लिए सभी कार्मिक एकजुटता के साथ संघर्ष को तैयार हैं। बैठक में सभी कार्मिक संगठनों ने एक आवाज में कहा कि राजकीयकरण के अलावा अब सरकार और शासन के किसी भी समझौते को वह स्वीकार नहीं करेंगे।

ऑनलाइन बैठक में लिए गए ये निर्णय

– 18 सितंबर को प्रधान कार्यालय, पेयजल निगम में गढ़वाल मण्डल में उत्तराखंड पेयजल निगम के सेवारत और सेवानिवृत्त कार्मिकों द्वारा एक दिवसीय धरना कार्यक्रम किया जायेगा।

– कोविड-19 की रोकथाम के लिए शासन और प्रशासन द्वारा जारी किए गए सुरक्षा उपायों एवं तत्संबंधी गाइडलाइन का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

– बैठक में तय किया गया कि पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत 20 सितंबर को कुमाऊं मंडल में मुख्य अभियंता हल्द्वानी के कार्यालय में एक दिवसीय धरना दिया जाएगा और 25 सितंबर से 27 सितंबर तक प्रदेश के समस्त कार्यालयों में जनपद एवं नगर इकाइयों द्वारा धरना कार्यक्रम किए जाएंगे।

– ऑनलाइन बैठक में वक्ताओं द्वारा पेयजल निगम में अधिष्ठान वेतन एवं पेंशन संबंधी समस्याओं के लिए सरकार की नीतियों को ही उत्तरदाई ठहराया गया और उसका एकमात्र समाधान निगम को राजकीय विभाग बनाना बताया गया।

– ऑनलाइन बैठक में सर्व सहमति से तय किया गया कि यदि सरकार द्वारा समन्वय समिति की मांग के अनुसार उत्तराखंड पेयजल निगम का तय सीमा में राजकीयकरण नहीं किया गया तो 28 अक्टूबर 2021 से उत्तराखंड पेयजल निगम में प्रदेशव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। तब बिना राजकीयकरण की मांग पूरी किए किसी भी दिशा में हड़ताल वापसी नहीं होगी।

– धरना कार्यक्रमों में स्पष्ट मांग की जाएगी कि तत्काल निगम का राजकीयकरण किया जाए। अन्यथा समन्वय समिति के पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार आगे धरना कार्यक्रम किया जाएगा। यदि फिर भी सरकार नहीं मानी तो पूर्व प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार  28 अक्टूबर से हड़ताल पर जाने का दुर्भाग्यपूर्ण कदम उठाना पड़ेगा।

ऑनलाइन बैठक में अधिकारी कर्मचारी समन्वय समिति के अध्यक्ष इंजीनियर जितेंद्र सिंह देव, महासचिव विजय खाली, पेंशनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष इं. पीएस रावत, सहायक अभियंता एसोसिएशन के महासचिव इंजीनियर सौरभ शर्मा, डिप्लोमा इंजीनियर संघ के प्रांतीय अध्यक्ष इंजीनियर कुमार, महासचिव इंजीनियर अजय बैलवाल, पेयजल निगम कर्मचारी महासंघ के महासचिव धर्मेंद्र चौधरी, आर के रोनीवाल, जल संस्थान जल निगम मजदूर यूनियन के अध्यक्ष राजेश गोला और लाल झंडा मजदूर यूनियन के प्रांतीय अध्यक्ष लक्ष्मी चंद्र भट्ट व उपाध्यक्ष चिंतामणि थपलियाल, इं. राजेन्द्र सिंह राणा, इं. दिनेश दवाण, इं. रविन्द्र गंगाड़ी, हरीश भट्ट आदि मुख्य रूप से शामिल हुए। बैठक की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष इंजीनियर जितेंद्र सिंह देव और संचालन महासचिव विजय खाली ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.