मुख्यमंत्री धामी की विधानसभा में 4 लाख की घूस मांगने का आरोपी रेंजर सस्पेंड, सोशल मीडिया में वायरल हुआ था ऑडियो

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल क्राइम
खबर शेयर करें

 

देहरादून। वन विभाग में पेड़ों के अवैध कटान को लेकर अधिकार कर्मचारियों पर आरोप लगते रहे हैं। ऐसे ही एक अधिकारी की सोशल मीडिया पर रिश्वत सम्बन्धी आडियो वायरल होने पर उसे सस्पेंड किया गया है।

मामला कुमाऊँ मंडल के तराई पश्चिम वन प्रभाग हल्द्वानी की किलपुरा रेंज का है। किलपुरा के रेंजर आशीष मोहन तिवारी को चार लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में पीसीसीएफ राजीव भर्तरी ने निलंबन कर दिया। वहीं प्रभागीय वनाधिकारी संदीप कुमार को रेंजर के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

बताते चलें कि आरोपी रेंजर तिवारी पर आरोप है कि उन्होंने एक व्यक्ति को अवैध कटान के मामले में बचाने और अवैध कटान की लकड़ी को ठिकाने लगाने के संबंध में एक आडियो वायरल हुआ था। किलपुरा रेंज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के विधानसभा क्षेत्र खटीमा में पड़ती है। रेंजर का आडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद डीएफओ ने उन्हें अटैच कर दिया था।

इसके बाद डीएफओ और सीसीएफ कुमांऊँ डा. तेजस्विनी पाटिल की ओर से रेंजर के निलंबन की संस्तुति की गई। पीसीसीएफ राजीव भर्तरी ने कहा कि अवैध कटान या तस्करी में लिप्त किसी भी अधिकारी-कर्मचारी को किसी भी सूरत में बख्शानहीं जाएगा।

10 thoughts on “मुख्यमंत्री धामी की विधानसभा में 4 लाख की घूस मांगने का आरोपी रेंजर सस्पेंड, सोशल मीडिया में वायरल हुआ था ऑडियो

  1. The next time I read a blog, I hope that it doesnt disappoint me as much as this one. I mean, I know it was my choice to read, but I actually thought youd have something interesting to say. All I hear is a bunch of whining about something that you could fix if you werent too busy looking for attention.

  2. In this grand pattern of things you receive an A+ with regard to effort. Where you actually confused me was on all the specifics. You know, as the maxim goes, details make or break the argument.. And it couldn’t be much more accurate in this article. Having said that, let me inform you just what did work. Your text can be extremely persuasive which is possibly the reason why I am making an effort to comment. I do not make it a regular habit of doing that. Next, whilst I can certainly notice a jumps in reason you come up with, I am not sure of how you appear to connect the details which make your final result. For right now I will, no doubt yield to your issue but hope in the foreseeable future you link your dots much better.

Leave a Reply

Your email address will not be published.