मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कसे अफसरों के पेच

उत्तराखंड राजकाज
खबर शेयर करें

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जिलों के दौरे के साथ नौकरशाही को भी चुस्त-दुरुस्त करने में जुट गए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर गढ़वाल और कुमाऊं के मंडलायुक्त हर महीने में कम से कम एक बार सभी जिलों का भ्रमण करेंगे। जिलेवार योजनाओं और विकास कार्यों की समीक्षा कर प्रगति आख्या मुख्य सचिव को भेजी जाएगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जिलों के भ्रमण की मुहिम अल्मोड़ा जिले से शुरू की थी। अब तक वह अल्मोड़ा सहित पौड़ी, चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों का दौरा कर चुके हैं। जिलेवार विकास कार्यों की समीक्षा कर जायजा लेने के साथ जन फीडबैक भी लिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री जिलों में पार्टी कार्यकर्ताओं और आम व्यक्तियों से मिलने कर विकास कार्यों की जमीनी हकीकत के साथ अधिकारियों के कामकाजली के बारे में ट्वीटबैक रहे रहे हैं। मुख्यमंत्री के भ्रमण के चलते जिलों में प्रशासनिक उपकरणों की समीक्षा मोड में है।

वास्तव में कोरोना परिस्थितिगत में विकास कार्यों पर बुरा असर पड़ा है। कई महीनों तक निर्माण कार्य ठप रहा या उनकी गति बेहद धीमी रही है। कोरोना से बिगड़े हालात में कुछ सुधार होने के बाद मुख्यमंत्री का ध्यान सरकारी मशीनरी को सक्रिय करने पर है।

जिलों में प्रशासन और विभागीय अधिकारियों को तेजी से काम करने के निर्देश हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने दोनों मंडलायुक्तों को महीने में न्यूनतम एक बार अधीनस्थ सभी जिलों का दौरा करने के आदेश दिए हैं।

13 thoughts on “मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कसे अफसरों के पेच

  1. I not to mention my buddies happened to be taking note of the excellent tips from your web page and then suddenly came up with a terrible suspicion I never thanked the web site owner for them. All of the boys came totally thrilled to study all of them and already have really been enjoying these things. Many thanks for indeed being quite considerate and then for having this sort of brilliant subjects most people are really desirous to learn about. My sincere regret for not expressing appreciation to sooner.

  2. I think other website proprietors should take this web site as an model, very clean and fantastic user friendly style and design, as well as the content. You are an expert in this topic!

Leave a Reply

Your email address will not be published.