बारिश का कहर: उत्तराखंड में अलग-अलग जगहों पर हुए हादसों में एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत, हरिद्वार-नजीबाबाद हाईवे पर पानी में तैरे वाहन

उत्तराखंड मौसम/आपदा
खबर शेयर करें

हरिद्वार। उत्तराखंड में दो दिनों से हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। गढ़वाल से लेकर कुुमाऊं तक बारिश ने जमकर कहर बरपाया है। बारिश के चलते अलग-अलग हादसों में एक दर्जन से भी अधिक लोगों की जान चले गई।

राजधानी देहरादून समेत कई जगजों पर जलभराव से कई घरों में पानी घुसा, तो कई मकान जमीदोज हो गए। जिसमे कई लोगों की मौत हो गई। हरिद्वार में भी भारी बारिश से जगह-जगह जलभराव के चलते लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

हरिद्वार-नजीबाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर कांगड़ी के पास जलभराव होने से वाहनों को यहां से आवाजाही को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। यहां पर कई छोटे वाहन पानी मे तैरते रहे। गनीमत यह रही कि कोई हादसा नहीं हुआ। यहां से गुजरने के दौरान कई वाहन पानी में फंसे। कई वाहन पानी मे बन्द होने पर धक्का देकर बाहर निकाला गया।

उत्तराखण्ड में लगातार जारी बारिश दो परिवारों पर काल बनकर टूटी है। बाजपुर में एक मकान टूटने से दो लोगों की दबकर मौत हो गई। वहीं भवाली में एक घर की सुरक्षा दीवार टूटने के दो लोग दब गए। मिली जानकारी के अनुसार बाजपुर में केलाखेड़ा के निकट गांव रम्पुरा काजी स्थित कच्चे मकान की दीवार धराशायी हो गई। अंदर सो रहे दो लोगों की दबकर मौत हो गई।

गुरुवार सुबह पांच बजे तेज हवा और बारिश के चलते गांव रम्पुरा काजी में एक कच्चे मकान की दीवार अचानक धराशायी हो गई। कच्चे मकान के अंदर सो रहे शंकर (28) निवासी ट्रांजिट कैंप रुद्रपुर और मुकेश (40) निवासी खेड़ा रुद्रपुर की दबकर मौत हो गई।

सूचना पर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। एसडीएम विवेक प्रकाश, सीओ वंदना वर्मा, एसओ बीसी जोशी ने घटनास्थल पर पहुंच कर जांच पड़ताल की। पुलिस ने दोनों शवो को कब्जे में लेकर पंचायत नामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

भवाली में भीमताल रोड स्थित नगारी गांव में एक निर्माणाधीन मकान की सुरक्षा दीवार टूटकर नीचे घर में घुस गई। जिससे घर में सो रहे दो लोग मलबे में दब गए। जानकारी के अनुसार बीती रात से हो रही मूसलाधार बारिश से नगारी गांव निवासी प्रीति भल्ला पति जर्नल अमरजीत सिंह भल्ला के घर में गुरुवार सुबह निर्माणाधीन मकान की सुरक्षा दीवार गिर गई।

आनन फानन में दोनों ने बाथरूम में जाकर अपनी जान बचाई। सुबह रेस्क्यू कर दोनों को सीएचीसी भेजा गया। प्रीति भल्ला को ज्यादा चोटे लगने से हायर सेंटर रेफर किया गया है।

उधर, जौनसार में चकराता तहसील क्षेत्रान्तर्गत प्रातः लगभग 9ः55 बजे ग्राम पंचायत जोगियों, ग्राम कवांसी के बिजनाड़ छानी में भारी वर्षा के कारण मकान क्षतिग्रस्त हो गया, जिसमें एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मृत्यु हो गई।

मृतकों में मुन्ना पुत्र श्री गुन्ता 32 वर्ष, कु0 काजल पुत्री शीशपाल उम्र 13 वर्ष, साक्षी पुत्री मुन्ना उम्र 13 वर्ष की मौके पर ही मृत्यु हो गई। घायलों में बानो पत्नी मुन्ना उम्र 32 वर्ष, मुकुल पुत्र मुन्ना उम्र 15 वर्ष, उषा पत्नी विक्रम उम्र 30 वर्ष, बालो देवी पत्नी शीशपाल उम्र 31 वर्ष शामिल है।

इस घटना में 15 बकरियां, 5 बैल, 5 गाय, 1 घोड़ा- खच्चर आदि मवेशी मारे जाने की सूचना है। मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रू0 अनुग्रह सहायता राशि तथा सामान एवं अन्य क्षतिपूर्ति के रूप में अहेतुक सहायता 5900 रू0 की धनराशि प्रत्येक मृतक के परिजन को उपलब्ध करा दी गई है।

बागेश्वर जे गुनाकोट में भी एक मकान के ऊपर पेड़ गिरने से मां-बच्चे की मौत हो गई है। जबकि 9 अन्य लोग मलबे में दबने से घायल हो गए। घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

 

 

1 thought on “बारिश का कहर: उत्तराखंड में अलग-अलग जगहों पर हुए हादसों में एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत, हरिद्वार-नजीबाबाद हाईवे पर पानी में तैरे वाहन

  1. I’ve recently started a blog, the info you provide on this website has helped me tremendously. Thank you for all of your time & work. “If you see a snake, just kill it. Don’t appoint a committee on snakes.” by H. Ross Perot.

Leave a Reply

Your email address will not be published.