बजट सत्र: पहले ही दिन विपक्ष का वाकऑउट, इंदिरा बोली, राज्यपाल के अभिभाषण में बेरोजगारी की समस्या का कोई समाधान नहीं

उत्तराखंड राजकाज
खबर शेयर करें

गैरसैंण (चमोली)। राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के अभिभाषण के साथ ही सोमवार से ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण (भराड़ीसैंण) विधानसभा में बजट सत्र शुरू हो गया। राज्यपाल का अभिभाषण शुरू होते ही विपक्ष ने सदन से बहिष्कार (वाकऑउट) कर दिया।

राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में प्रदेश के चार साल के विकास कार्यों का ब्योरा रखा। साथ ही राज्य के विकास की प्राथमिकताओं का भी जिक्र किया। उन्होंने प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता जताई कि वो राज्य में 24 घंटे बिजली देने का प्रयास करेगी।

राज्यपाल ने कहा कि विकेंद्रीकृत विकास व सबका साथ, सबका विकास की अवधारणा को लेकर राज्य को विकसित राज्य की श्रेणी में ले जाना है। अपराह्न तीन बजे विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने राज्यपाल के अभिभाषण की शुरुआत और आखिर की कुछ पंक्तियां पढ़ीं। इसके साथ ही राज्यपाल का अभिभाषण सदन की कार्यवाही का हिस्सा हो गया।

इससे पूर्व सोमवार को सदन में पहले राष्ट्रगान हुआ। इसके बाद जैसे ही राज्यपाल ने अभिभाषण शुरू किया, नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश अपने स्थान से उठीं और उन्होंने एतराज जताया कि बजट अभिभाषण में बेरोजगारी की समस्या का कोई समाधान नहीं है। यह कह कर सभी विपक्षी सदस्य अपने स्थान पर खड़े हो गए और सदन का बहिष्कार कर बाहर चले गए। राज्यपाल ने 26 पन्नों के अभिभाषण में प्रदेश सरकार के अब तक कराए गए विकास कार्यों का ब्योरा रखा।

पुलिस ने राज्यपाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया

सदन में जाने से पहले राज्यपाल को विधानमंडल भवन परिसर में पुलिस के जवानों ने पारंपरिक ढंग से पुलिस बैंड की धुन के साथ गार्ड ऑफ ऑनर दिया। वह करीब 10 बजकर 50 मिनट पर विधानसभा पहुंचीं। वहां मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, संसदीय कार्यमंत्री मदन कौशिक ने उनका स्वागत किया। 

राज्यपाल ने 43 मिनट में निपटाया 26 पन्ने का अभिभाषण

राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को 26 पन्ने के अभिभाषण को पढ़ने में पूरे 43 मिनट लगे। उन्होंने ठीक 11 बजे अभिभाषण पढ़ना शुरू किया और 11 बजकर 43 मिनट पर संपन्न किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.