पिछले सारे रिकॉर्ड ध्वस्त, कोरोना से आज हुई 108 मौतें, 6054 आए पॉजिटिव केस

उत्तराखंड कोरोना वायरस
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड में आज कोरोना ने फिर पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए। आज राज्य के 13 ज़िलों में 24 घण्टे के भीतर 108 लोग मौत की नींद सो गए। जबकि 6054 नए संक्रमित पाए गए।

इधर, लगातार संक्रमण बढ़ने से अब अस्पतालों में इलाज मिलना मुश्किल हो गया है। लोग एम्बुलेंस और घरों पर ही इलाज के लिए तड़प रहे हैं।

इसके अलावा मरने वालों का आंकड़ा बढ़ने से श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार कराने में भी मुश्किलें उठानी पड़ रही है।

उत्तराखंड में कोरोना पूरी तरह से बेकाबू हो गया है। बुधवार को  आज 6054 मामले सामने आए हैं। जबकि 108 लोगों की मौत हुई है।

बता दें कि प्रदेश में अब तक 1लाख 68 हजार 616 कुल मरीज आए हैं। अब तक 2417 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि मृतकों को कई अन्य गंभीर बीमारियां भी थी।

राहत वाली खबर यह है कि आज 3485 रीकवर होकर घर लौटे हैं। अब प्रदेश में 45383 एक्टिव केस है।

ज देहरादून में 2329, हरिद्वार में 1178, अल्मोड़ा में 140, बागेश्वर में 128, चमोली में 175, चंपावत में 153, पौड़ी गढ़वाल में 174, नैनीताल में 665, पिथौरागढ़ में 51, रुद्रप्रयाग में 22, टिहरी गढ़वाल में 109, उधमसिंह नगर में 841 और उत्तरकाशी में 81 मामले सामने आए हैं।

14 thoughts on “पिछले सारे रिकॉर्ड ध्वस्त, कोरोना से आज हुई 108 मौतें, 6054 आए पॉजिटिव केस

  1. In this great design of things you actually receive a B+ just for effort. Exactly where you actually confused everybody was on your details. You know, as the maxim goes, details make or break the argument.. And that could not be much more accurate right here. Having said that, let me say to you just what did give good results. The text is certainly extremely engaging and this is probably the reason why I am making the effort in order to comment. I do not make it a regular habit of doing that. Secondly, although I can see the leaps in reasoning you make, I am not necessarily confident of how you seem to connect your points that produce your conclusion. For now I will yield to your position however hope in the foreseeable future you actually link the facts better.

  2. Most of whatever you assert is astonishingly appropriate and it makes me wonder why I hadn’t looked at this in this light before. This particular article truly did switch the light on for me as far as this subject matter goes. Nevertheless there is actually just one factor I am not too comfy with so while I attempt to reconcile that with the main idea of the point, let me see what the rest of your visitors have to point out.Nicely done.

Leave a Reply

Your email address will not be published.