नहीं रहे कद्दावर नेता और यूपी बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री, देशभर में शोक की लहर, 23 को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा

उत्तर प्रदेश देश-दुनिया राजनीति
खबर शेयर करें

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 21 जून से लखनऊ के अस्पताल में इलाज ले रहे थे। जहां शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। कल्याण सिंह के निधन की सूचना पर यूपी समेत देशभर में शोक की लहर दौड़ पड़ी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, यूपी केे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंंह धामी ने उनके निधन पर गहरा शोक जाहिर किया है।कहा कि आज देश ने एक सच्चा देशभक्त राजनेता खो दिया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (बाबू जी) नहीं रहे। उन्होंने 89 साल की उम्र इलाज के दौरान अस्पताल में अंतिम सांस ली। यूपी के पूर्व सीएम और राज्यपाल कल्याण सिंह दो महीने से अस्पताल में भर्ती थे। 7 दिनों से वेंटिलेटर पर थे। 21 जून को उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने के कारण लखनऊ के लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इसके बाद स्वास्थ्य में सुधार न होने पर 4 जुलाई को उन्हें PGI शिफ्ट किया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने कल्याण सिंह के निधन पर शोक जताया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल्याण सिंह के निधन पर दुख जताया है। योगी ने कहा कि 23 अगस्त यानी सोमवार को नरौरा में गंगा तट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

23 अगस्त को प्रदेश में सार्वजनिक अवकाश रहेगा, ताकि लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे सकें। वहीं, यूपी में 3 दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया गया है। योगी ने कहा- कल्याण सिंह दो महीने से अस्वस्थ थे। उन्होंने आज रात सवा नौ बजे आखिरी सांस ली। हम सभी दुखी है। मैं दिवंगत आत्मा के लिए शांति की कामना करता हूं।

उत्तर प्रदेश में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री रहे

कल्याण सिंह यूपी में भाजपा के पहले सीएम थे। उन्होंने पहली बार सीएम बनने के बाद मंत्रिमंडल के साथ सीधे अयोध्या में जाकर राम मंदिर बनाने की शपथ ली थी। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी ढांचा गिराए जाने के दौरान कल्याण सिंह यूपी के मुख्यमंत्री थे। उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलाने की अनुमति नहीं दी थी।

कल्याण सिंह की राजनीतिक जीवन यात्रा

कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के अतरौली तहसील के मढ़ौली गांव में हुआ था। भाजपा के कद्दावर नेताओं में शुमार होने वाले कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल भी रहे।एक दौर में कल्याण राम मंदिर आंदोलन के सबसे बड़े चेहरों में से एक थे। उनकी पहचान हिंदुत्ववादी और प्रखर वक्ता के तौर पर थी।

राजनीति जीवन 

कल्याण सिंह 3 बार यूपी के मुख्यमंत्री बने। वह भाजपा के यूपी में पहले सीएम भी थे। पहले कार्यकाल में 24 जून 1991 से 6 दिसम्बर 1992 तक और दूसरी बार 21 सितंबर 1997 से 21 फरवरी 1998 तक CM रहे। हालांकि, अगले दिन 22 फरवरी 1998 को वे तीसरी बार मुख्यमंत्री बने और 12 नवंबर 1999 तक इस पद पर रहे।

भाषण के कायल थे लोग

30 अक्टूबर, 1990 को जब मुलायम सिंह यादव यूपी के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलवा दी थी। प्रशासन कारसेवकों के साथ सख्त रवैया अपना रहा था।ऐसे वक्त में भाजपा ने मुलायम का मुकाबला करने के लिए कल्याण सिंह को आगे किया। कल्याण सिंह भाजपा में अटल बिहारी वाजपेयी के बाद दूसरे ऐसे नेता थे, जिनके भाषणों को सुनने के लिए जनता सबसे ज्यादा बेताब रहती थी।

राम मंदिर को लेकर ली शपथ

कल्याण सिंह ने एक साल के अंदर ही भाजपा को उस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया कि पार्टी ने 1991 में अपने दम पर यूपी में सरकार बना ली। इसके बाद कल्याण सिंह यूपी में भाजपा के पहले सीएम बने। सीबीआई में दायर आरोप पत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री बनने के ठीक बाद कल्याण सिंह ने अपने सहयोगियों के साथ अयोध्या का दौरा किया और राम मंदिर का निर्माण करने की शपथ ली थी।

599 thoughts on “नहीं रहे कद्दावर नेता और यूपी बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री, देशभर में शोक की लहर, 23 को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा

  1. Pingback: 1vagabond
  2. proquest dissertations
    [url=”https://dissertationhelperhub.com”]dissertation editing help[/url]
    medical dissertation writing services

  3. pharmacie en ligne livraison gratuite pharmacie conan brest telephone pharmacie aix en provence jas de bouffan , therapie de couple rouen therapie de couple besançon . therapies revue pharmacie auchan clermont ferrand pharmacie de garde evry pharmacie leclerc etampes .

Leave a Reply

Your email address will not be published.