देश के सबसे बड़े सस्पेंशन ब्रिज का लिया गया लोड टेस्टिंग ट्रायल

देश-दुनिया
खबर शेयर करें

टिहरी बांध के ऊपर बने देश के सबसे बड़े सस्पेंशन पुल पर किया गया वाहनों का लोड टेस्टिंग ट्रायल नई टिहरी। एशिया के सबसे बड़े टिहरी बांध बन रहे देश के सबसे बड़े सस्पेंशन पुल के शुभारंभ की घड़ी जल्द खत्म होगी। 440 मीटर लम्बे इस पुल की लागत लगभग 300 करोड़ रुपये बताई जा रही है।

निर्माणदायी कम्पनी ने आज माल से लदे 14 ट्रकों के साथ पुल के ऊपर लोड का परीक्षण किया। एक ट्रक का भार 15 टन था। सभी ट्रक पुल के ऊपर 30-30 मीटर की दूरी पर खड़े किए गए थे। जिन्हें एक साथ पुल खड़ा किया गया।

बताया जा रहा है कि कम्पनी परीक्षण रिपोर्ट शीघ्र शासन को सौंपेगी, जिसके बाद जल्द ही राज्य सरकार पुल का उद्घाटन कर इसे आवाजाही के लिए आम जनता के लिए खोल देगी। रविवार को लंबे इंतजार के बाद डोबरा-चांठी पुल पर वाहनों का ट्रायल शुरू किया गया।

सुबह करीब आठ बजे कोरियाई कंसलटेंट जैकी किम की निगरानी में पुल के ऊपर वाहनों का ट्रायल (लोड टेस्टिंग) किया गया। लोड टेस्टिंग सफल होने पर कंसलटेंट सरकार को फाइनल रिपोर्ट सौंपेंगी। इसके बाद ही सरकार वाहनों वाहनों की आवाजाही शुरू करेगी।

बता दें कि टिहरी बांध की झील बनने के बाद वर्ष 2006 से डोबरा-चांठी में प्रतापनगर और उत्तरकाशी जिले के गाजणा पट्टी के करीब दो लाख आबादी को झील के आर-पार जाने के लिए सस्पेंशन ब्रिज का निर्माण कराया जा रहा है।

पुल का निर्माण पूरा हो चुका है। आज पुल के ऊपर भार का परीक्षण किया गया। यह परीक्षण कोरियाई कंसलटेंट योसिन कारपोरेशन के इंजीनियर जैकी किम की मौजूदगी सम्पन हुआ।

इस सम्बंध में लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता और प्रोजेक्ट मैनेजर एसएस मखलोगा ने बताया कि सुबह सात बजे से वाहनों का ट्रायल शुरू किया गया। इस दौरान चार-पांच घंटे करीब 15 टन के वजन के 14 वाहनों को पुल के ऊपर दोनों तरफ से खड़ा किया गया। लोड टेस्टिंग, विंड प्रेशर के साथ वाहनों को आर-पार करवाया जाएगा। उम्मीद है कि 14 सालों से पुल का सपना देख रहे प्रतापनगरवासियों को जल्द पुल की सौगत मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.