दिग्गजों को धराशाही कर धामी कैसे पहुंचे मुख्यमंत्री की कुर्सी तक, सीएम बनाने में इस बार किसकी चली, पढ़े पूरी खबर

उत्तराखंड देश-दुनिया राजकाज राजनीति
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड में तीन दिनों तक चले सियासी ड्रामे का आखिरकार शनिवार को पटाक्षेप हो गया। तमाम उठापठक के बीच नए मुख्यमंत्री के रूप में खटीमा विधायक को चुना गया। उत्तराखंड को तो भाजपा ने मुख्यमंत्री दे दिया, लेकिन पूर्ण बहुमत के बावजूद एक कार्यकाल में तीन-तीन मुख्यमंत्री देकर राज्य पर अतिरिक्त्त बोझ ही नहीं डाला है, पार्टी ने अपनी छवि भी खराब की है। जनता के बीच इसका जो संदेश गया है उसका भाजपा को नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।

तीरथ सिंह रावत के इस्तीफे के बाद पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के 11वें मुख्यमंत्री होंगे। उनके नाम पर शनिवार दोपहर को भाजपा विधायक दल की बैठक में मुहर लगा दी गई। ये बैठक 3 बजे से केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र तोमर और प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम की मौजूदगी में हुई। इस बार भाजपा ने तमाम अनुभवी विधायकों को दरकिनार करते हुए युवा चेहरे को तवज्जो दी है। वे रविवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

केंद्रीय पर्यवेक्षक ने मीडिया से कहा कि बैठक में किसी दूसरे नाम की चर्चा नहीं हुई। सिर्फ पुष्कर सिंह धामी का नाम रखा गया और सबकी सहमति से इस पर मुहर लगा दी गई। नाम की घोषणा होने के बाद पुष्कर सिंह धामी ने कहा, ‘पार्टी ने एक सामान्य कार्यकर्ता, एक भूतपूर्व सैनिक के बेटे को राज्य की सेवा के लिए चुना है। हम लोगों की भलाई के लिए मिलकर काम करेंगे। हम कम समय में लोगों की सेवा करने की चुनौती स्वीकार करते हैं।’

देहरादून में भाजपा विधायक दल की बैठक में पुष्कर सिंह धामी के नाम का ऐलान होने के बाद एकजुटता दिखाते हुए पार्टी नेता। - Dainik Bhaskar
देहरादून में भाजपा विधायक दल की बैठक में पुष्कर सिंह धामी के नाम का ऐलान होने के बाद एकजुटता दिखाते हुए पार्टी नेता। विधायक दल की बैठक के तुरंत बाद पुष्कर सिंह धामी के साथ भाजपा के सभी नेता राजभवन पहुंचे।
राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। राज्यपाल से मुलाकात के बाद केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि शनिवार को धामी विधायक दल के नेता चुने गए हैं। वे रविवार को शपथ लेंगे।
हालांकि, फिलहाल यह साफ नहीं है कि रविवार को धामी अकेले शपथ लेंगे या उनके साथ कुछ मंत्रियों को भी शपथ दिलाई जाएगी। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को धामी के विधायक दल का नेता चुने जाने की जानकारी देते हुए भाजपा नेता।
राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को धामी के विधायक दल का नेता चुने जाने की जानकारी देते हुए भाजपा नेता। - Dainik Bhaskar

गरीब परिवार में जन्मे, सरकारी स्कूल में पढ़े

पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड में खटीमा विधानसभा से विधायक हैं। पुष्कर सिंह धामी का जन्म 16 सितंबर 1975 को पिथौरागढ के टुण्डी गांव में हुआ था। उनके पिता सैनिक थे। आर्थिक स्थिति कमजोर होने के बीच सरकारी स्कूलों से प्राथमिक शिक्षा ली। तीन बहनों के बाद घर का अकेला बेटा होने की वजह से परिवार की जिम्मेदारियां उन पर हमेशा बनी रही।

एबीवीपी और युवा मोर्चा में कर चुके हैं काम

धामी ने मानव संसाधन प्रबंधन और औद्योगिक संबंध में मास्टर्स किया है। वे 1990 से 1999 तक एबीवीपी समेत अलग-अलग पदों पर काम कर चुके हैं। धामी 2002 से 2008 तक युवा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष भी रहे हैं। राज्य की भाजपा 2010 से 2012 तक शहरी विकास परिषद के उपाध्यक्ष रहे। वे 2012 में पहली बार विधायक चुने गए थे। उनकी अगुवाई में ही प्रदेश सरकार से स्थानीय युवाओं को 70% आरक्षण राज्य के उद्योगों में दिलाने में सफलता प्राप्त की।

आरएसएस और कोश्यारी के करीबी हैं धामी

धामी को RSS का करीबी माना जाता है। वे महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के भी नजदीकी हैं। पुष्कर सिंह धामी के बारे में राजनीतिक जानकारों का कहना है कि यह एक ऐसा नाम है जो हमेशा विवादों से दूर रहा है। पुष्कर सिंह धामी भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे पर काफी जोरशोर से आवाज उठाते रहे हैं। युवाओं के बीच पुष्कर सिंह धामी की अच्छी पकड़ मानी जाती है।

जातीय संतुलन भी धामी के पक्ष में गया

राजपूत समुदाय से आने वाले धामी राज्य के तेज तर्रार नेताओं में शुमार हैं। राजनीतिक जानकारों के मुताबिक, आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए पुष्कर सिंह धामी को सीएम बनाकर जातीय समीकरण भी साधने की कोशिश की गई है। तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने के वक्त भी पुष्कर सिंह धामी का नाम रेस में शामिल रहा था।पुष्कर सिंह धामी राज्य के और मुख्यमंत्रियों के मुकाबले युवा हैं। धामी का युवा होना भी उनके मुख्यमंत्री चुने जाने के पक्ष में गया है।

साढ़े तीन महीने में ही क्यों गई तीरथ सिंह रावत की कुर्सी?

उत्तराखंड में महज साढ़े तीन महीने में ही तीसरे मुख्यमंत्री कामकाज संभाल रहे हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत के बाद सीएम बनाए गए तीरथ सिंह रावत अपने कामकाज से खास प्रभावित नहीं कर सके, उलटा अपने बयानों से विवादों में बने रहे। तीरथ सिंह रावत से जुड़ी ये कुछ बातें उनकी विदाई की वजह बनीं..

विवादित बयानों से चर्चा में रहे तीरथ

बतौर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का 114 दिन का कार्यकाल उनके विवादित बयानों के लिए ज्यादा जाना जाएगा। फटी जींस से लेकर 20-20 बच्चे वाले उनके बयानों को शायद ही कोई भूला हो। पद संभालते ही भावावेश में तीरथ कुछ का कुछ बोलते रहे।

कुंभ में कोरोना फैलने से छवि खराब हुई

कुंभ के दौरान उन्होंने संतों को खुश करने के लिए जिस तरह से कोरोना के नियमों में छूट देने का अधिकारियों को इशारा किया, उससे हिंदुओं का यह मेला कोरोना का हॉटस्पॉट बन गया। यही नहीं, कोर्ट की आंखों में धूल झोंकने के लिए BJP के करीबियों द्वारा सैंपलिंग और टेस्टिंग में जिस तरह से फर्जीवाड़ा किया गया, उससे तीरथ सरकार की छवि को बट्टा ही लगा।

चारधाम देवस्थानम बोर्ड खत्म नहीं कर सके

तीरथ सिंह ने त्रिवेंद्र सरकार के गैरसैंण मंडल बनाने के विवादित फैसले को पलटकर कुमायूं मंडल में उपजे विरोध को जरूर शांत किया, लेकिन चारधाम देवस्थानम बोर्ड को खत्म करने के बारे में घोषणा करने के बावजूद अमल नहीं कर सके। इससे ब्राह्मण समुदाय खुद को ठगा सा महसूस करने लगा। तीरथ सिंह ने त्रिवेंद्र सरकार की तरह सिर्फ खास समुदाय के लिए कुछ किया हो ऐसा तो नहीं हुआ, लेकिन चुनावी साल में वे कुछ भी ऐसा नहीं कर सके, जिससे BJP की संभावनाओं को बल मिलता हुआ दिखे।

उप चुनाव के लिए भी तीरथ कमजोर लग रहे थे

प्रदेश में विकास कार्यों की गति तो तीरथ शासन में पहले से भी धीमी हो गई। सीधे-साधे व्यक्तित्व वाले तीरथ कहीं से भी BJP के लिए इलेक्शन मैटेरियल साबित नहीं हो सके। अगर उन्हें उपचुनाव में भी जाना पड़ता तो कोई सीट ऐसी नहीं दिख रही थी, जिस पर तीरथ की जीत की गारंटी हो। यही बात तीरथ के सबसे अधिक खिलाफ गई।

उत्तराखंड का सियासी घटनाक्रम

  • रामनगर में आयोजित भाजपा के तीन दिनी चिंतन शिविर में भाग लेकर मंगलवार शाम को पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत देहरादून पहुंचे थे। बुधवार सुबह वह दिल्ली के लिए रवाना हो गए। देर रात ही उनकी राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात करने की सूचना मिली।
  • इसके साथ ही कई तरह की चर्चाओं ने तेजी से जोर पकड़ा। ये बुलावा भी अचानक आया। बुधवार के उनके कई कार्यक्रम उत्तराखंड में लगे थे। उन्हें छोड़कर सीएम को दिल्ली दरबार में उपस्थित थे।
  • बताया गया कि पार्टी हाईकमान ने उन्हें दिल्ली तलब किया। इस बीच तीरथ सिंह रावत ने उसी रात राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। वह गृह मंत्री अमित शाह से भी मिले। इसके बाद शुक्रवार दो जुलाई को उत्तराखंड में उपचुनाव कराने को लेकर चुनाव आयोग को पत्र दिया।
  • हालांकि चुनाव आयोग पहले ही कोविड काल में उपचुनाव कराने से मना कर चुका था। चुनाव आयोग को पत्र देने के बाद सूचना आई कि संवैधनिक संकट का हवाला देकर तीरथ ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर इस्तीफे की पेशकश की।
  • इसके बाद तीरथ सिंह रावत देहरादून पहुंचे और रात करीब नौ बजकर 50 मिनट पर उन्होंने सचिवालय में प्रेस कांफ्रेंस की और अपनी उपलब्धियां गिनाई। साथ ही सरकार के आगामी कार्यक्रमों की जानकारी दी।
  • इसके बाद वह देर रात करीब 11 बजकर सात मिनट पर राजभवन पहुंचे और अपना इस्तीफा दिया। इसके बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के कारण संवैधानिक संकट खड़ा हुआ। इसलिए मैने इस्तीफा देना उचित समझा। उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व का आभार भी जताया।

41 thoughts on “दिग्गजों को धराशाही कर धामी कैसे पहुंचे मुख्यमंत्री की कुर्सी तक, सीएम बनाने में इस बार किसकी चली, पढ़े पूरी खबर

  1. Remember to take as much time off from steroids as you spent on PCT so in your case it s gonna be 9 weeks length of PCT time off nolvadex uk paypal After our workout we went and got one of my favorite thai dishes Cauw Pakh Guyee chicken rice vegetable lol for our post workout meal

  2. Preoperative chemotherapy administered to breast cancer patients is the best model to identify baseline features able to predict which patients may be most likely to benefit or not from cytotoxic treatment Bonadonna et al, 1998; Mamounas and Fisher, 2001 where can i buy clomid

  3. Social Support Lowers Cardiovascular Reactivity to an Acute Stressor, Psychosomatic Medicine 55 1993 518 24 doxycycline hyclate uses will be flying out to visit the woman shortly, we re told, to check up on her and make plans for visitation rights with the baby, due in February

  4. htm the future, and they are anorexia and blood sugar How To Cure Diabetes still very afraid of death buy cheap cialis discount online minocin kids dentist specialist los angeles ca Family members of DiMaggio were trying to understand what could have prompted the computer technician to kill 44 year old Christina Anderson and her son, Ethan, and set fire to his rural San Diego area home, which was discovered burning on August 4, Andrew Spanswick told Reuters in an interview

  5. For the duration of fiscal year 2022, we will be focused on growing revenues through the launch of these selected rare cannabinoids, in addition to expanding sales of BayMedica s Prodiol CBC cannabichromene and progressing our existing programs priligy pills

  6. Pingback: 2characterization

Leave a Reply

Your email address will not be published.