……. तो क्या उत्तराखंड में फिर बंद होंगे स्कूल, ये बोले शिक्षा मंत्री

उत्तराखंड शिक्षा-खेल
खबर शेयर करें

 

देहरादून। कोरोना महामारी के चलते उत्तराखंड में स्कूल खुले भी नहीं उनके बन्द करने की चर्चा शुरू हो गई है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे के बयान के बाद स्कूलों के बन्द होने की सम्भावना बढ़ गई है। शिक्षा मंत्री ने कहा गके कि उत्तराखंड में कोरोना केस बढ़े तो स्कूलों को बंद कर दिया जाएगा।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि कोरोना संक्रमण में सुधार आने की वजह से सरकार ने स्कूलों को खोलने का निर्णय किया है। यदि भविष्य में तीसरी लहर जैसी बात होती है तो सरकार स्कूलों को पुन: बंद कर सकती है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार के लिए छात्र और शिक्षकों की सुरक्षा सबसे पहले है।

बता दें कि शिक्षा विभाग ने प्रदेशभर में 2 अगस्त से स्कूल खोलने को हामी भर दी थी, जिसके बाद स्कलों में छात्रों का आना शुरू हो गया था। हाईलेवल मीटिंग और कोरोना केसों में कमी के बाद उत्तराखंड सरकार ने स्कूल खोलने का फैसला लिया था।

हालांकि, स्कूल खोलने के साथ ही ऑनलाइन क्लासेज को भी जारी करने का फैसला लिया गया था। बाकी चीजें बाद में।शिक्षा मंत्री ने कहा कि स्कूल बंद होने से पढृाई पर काफी असर पड़ रहा था।

शिक्षक और अभिभावक की ओर से भी राय थी कि स्कूलों को पूरी सुरक्षा के साथ खोला जाना चाहिए। सरकार ने एहतियात बरतते हुए तीन चरणों में स्कूल खोलने का निर्णय किया है।

पहले चरण में केवल शिक्षकों को बुलाया गया। अब दो अगस्त से नवीं से 12 वीं कक्षा तक के छात्रों के बुलाया जा रहा है। अब 16 से छठी से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल खोले जाएंगे। मंत्री ने कहा कि स्कूलों में सुरक्षा मानकों का कड़ाई से पालन कराया जा रहा है।

इसके साथ साथ कोरोना संक्रमण पर भी पैनी नजर रखी जा रही है। यदि किसी भी प्रकार तीसरी लहर की आहट महसूस होती है तो सरकार स्कूल बंद करने का निर्णय ले सकती है।

1 thought on “……. तो क्या उत्तराखंड में फिर बंद होंगे स्कूल, ये बोले शिक्षा मंत्री

  1. After examine just a few of the blog posts in your website now, and I actually like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web site listing and might be checking again soon. Pls check out my site as well and let me know what you think.

Leave a Reply

Your email address will not be published.