डीएम के एक क्रिएटिव इनोवेशन ने बदल डाली तस्वीर, स्वरोजगार को दी नई उड़ान

उत्तराखंड देश-दुनिया समाज-संस्कृति
खबर शेयर करें

पौड़ी। जहां चाह, वहां राह। जी हां, इस कहावत को पौड़ी जिले के कलेक्टर धीराज गबर्याल साकार करने में जुटे हैं।

दरअसल, पौड़ी उत्तराखंड का ऐसा जिला है जो सर्वाधिक पलायन की मार झेल रहा है। गांव के गांव वीरान हो चुके हैं और जहां कभी लोग हंसी-खुशी अपने परिवारों के साथ रहते थे वो घर आज खंडहरों में तब्दील हो चुके हैं।

दूसरी बड़ी समस्या यह जिला पर्यटन के क्षेत्र में पिछड़ने के कारण झेल रहा है। जहां गढ़वाल के दूसरे जिले चारधाम यात्रा रूट से जुड़े हैं तो पौड़ी यात्रा रूट पर न होने के कारण पर्यटन के मामले में भी लगातार पिछड़ रहा है।

ऐसे में इस जिले को दोबारा खुशहाल बनाना किसी चुनौती से कम नहीं। ऐसा भी नहीं है कि पौड़ी को पुनः खुशहाल बनाने के लिए कभी कोई काम नहीं हुआ लेकिन सही दिशा में कार्य न होने के चलते कभी यह प्रयास कामयाब नहीं हो पाए।

इधर, त्रिवेंद्र सरकार जब सत्ता में आई तो पहली बार राज्य पलायन आयोग का न केवल गठन किया गया बल्कि इसका मुख्यालय भी पौड़ी में ही बनाया गया तो दूसरी ओर सरकार ने इस जिले में एक ऐसे अफसर की तैनाती बतौर जिलाधिकारी की जो यहां की समस्याओं को न केवल समझ सके बल्कि उन्हें दूर भी करे।

वर्तमान में पौड़ी के जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कई ड्रीम प्रोजेक्टों को धरातल पर उतारने में जुटे हैं। इनोवेटिव एप्रोच के साथ लगातार किए जा रहे उनके प्रयासों से आने वाले दिनों में पौड़ी पर्यटन के मानचित्र में खास जगह बनाने वाला है।

पौड़ी जिले में पिछले कुछ समय से कई ऐसे प्रयोग हो रहे हैं, जो आने वाले दिनों में आकर्षण के बड़े केंद्र होंगे। फिर चाहे वह कंडोलिया थीम पार्क हो, हैरिटेज स्ट्रीट हो, बासा होमस्टे, नयार घाटी एडवेंचर हो या नैनीडांडा का पटेलिया एप्पल फॉर्म। सभी आने वाले दिनों में आकर्षण का बड़ा केंद्र बनने का माद्दा रखते हैं।

आम कलेक्टर के विपरीत धीराज सिंह गर्ब्याल ने जनता से सीधे संवाद कर जिले में ब्लाकवार जमीनी अध्ययन कर वहां सतत विकास व आजीविका के अवसरों में इजाफे के लिए अनुकरणीय प्रयास शुरू किए।

डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल के इन प्रयासों से सरकार के लोक कल्याण के फैसले भी सीधे समाज के अंतिम व्यक्ति की दहलीज तक पंहुच रहे हैं। डीएम के प्रयासों सराहना ही नहीं हो रही है, बल्कि उनके इनोवेशन युवाओं के लिए स्वरोजगार के नए द्वार भी खोल रहे हैं।

17 thoughts on “डीएम के एक क्रिएटिव इनोवेशन ने बदल डाली तस्वीर, स्वरोजगार को दी नई उड़ान

  1. Good – I should definitely pronounce, impressed with your site. I had no trouble navigating through all tabs as well as related info ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Reasonably unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, web site theme . a tones way for your client to communicate. Excellent task.

  2. Hi, Neat post. There’s a problem along with your website in internet explorer, would check this… IE still is the marketplace chief and a huge component of other people will omit your magnificent writing because of this problem.

  3. Great goods from you, man. I’ve remember your stuff prior to and you are just extremely great. I really like what you’ve bought right here, certainly like what you are saying and the way in which during which you say it. You’re making it enjoyable and you continue to take care of to keep it smart. I can not wait to read much more from you. This is really a tremendous web site.

  4. It’s really great. Thank you for providing a quality article. There is something you might be interested in. Do you know baccaratsite ? If you have more questions, please come to my site and check it out!

  5. PubMed Determination of the sterol composition of diets used in dietary management of hyperlipoproteinemia cialis otc In addition, the presence of NAFLD was linked with renal stone disease showing that detection rate of renal stone disease in patients with NAFLD was markedly high odds ratio 5, 95 CI, 3 8

Leave a Reply

Your email address will not be published.