डिप्लोमा इंजीनियर बोले, उत्तराखंड में भी शुरू हो सायंकालीन बीई-बीटेक

उत्तराखंड कर्मचारी हलचल
खबर शेयर करें

– रेलवे डीलर महासंघ ने इस संबंध में तकनीकी विवि के कुलपति से मुलाकात कर पूछा, मुख्यमंत्री को भी मांग पत्र भेजा

देहरादून। उत्तराखंड ने इंजीनियर्स महासंघ के प्रांतीय पदाधिकारियों के एक प्रतिनिधित्वमण्डल ने उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलसचिव से मुलाकात कर राज्य के तहत सायंकालीन बीई और पाल बनाने की सुविधा उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है।

अभ्यावेदन ने बताया कि राज्य में सायंकालीन श्रेणियों की व्यवस्था नहीं होने के कारण विभिन्न विभागों में कार्यरत हैं। इंजीनियर उच्च तकनीकी शिक्षा प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, जबकि राज्य से बाहर देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त सायंकालीन मंचों की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। हो रहा है। जबकि राज्य के [रेलवे विभाग को समान अवसर प्राप्त नहीं नहीं पा रहे हैं।

महासंघ के अभ्यावेदन ने कुलसचिव को अवगत कराया कि उत्तराखंड राज्य के अंतर्गत विभिन्न विभागों में कार्यरत कई तकनीकी इंजीनियरों उच्च तकनीकी शिक्षा बीई / बी की उपाधि प्राप्त करना चाहते हैं। इसलिए उनके लिए सायंकालीन श्रेणियों की व्यवस्था जरूरी होनी चाहिए।

उत्तराखंड नेहरयर्स महासंघ ने इस संबंध में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को भी एक ज्ञापन प्रेषित कर प्रेषित किया है कि राज्य अंतर्गत उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय के माध्यम से एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त सिविल, पश्चिमी और साहित्यिक संस्थान में बीई और बीए उपाधि सायंकालीन श्रेणियों के माध्यम से। प्रदान करने की व्यवस्था की जानी चाहिए।

साथ ही राज्य में कार्यरत इंजीनियर, बीई व बीए कक्षाओं अटेंड करने के संबंध में विभागाध्यक्षों को आवश्यक निर्देश निर्गत करते हुए उन्हें तत्संबंधी विशेष अवकाश प्रदान किए जा रहे हैं, ताकि राज्य के बीएड उच्च तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर सकें और अधिक से अधिक कर सकें। ताकि उत्तराखंड पूरे देश को उच्च शिक्षित अभियंता उपलब्ध करा सके।

अभ्यागमंडलल में महासंघ के प्रान्यियन महासचिव इं। अजय बुलवाल, सचिव प्रोन्नत इं। अरविंद सिंह सजवाण और वित्त सचिव घटक संघ पेयजल निगम इं। भजन सिंह चौहान आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.