टिहरी: घनसाली में सड़क निर्माण में आई अजीबोगरीब स्थिति, विरोध जताने वाले बैठक के बजाय पहुंच गए काम रुकवाने, सड़क निर्माण के पक्ष में उतरे क्षेत्रीय विधायक

उत्तराखंड जनपक्ष राजनीति
खबर शेयर करें

नई टिहरी। टिहरी जिले की घनसाली विधानसभा के ग्यारह गाँव हिन्दाव पट्टी में इन दिनों एक मोटर मार्ग का निर्माण बिना किसी ठोस वजह के बन्द है। जबकि क्षेत्र की जनता सड़क निर्माण के पक्ष में है। अब आप सोचेंगे कि जब क्षेत्र की जनता सड़क निर्माण की पक्षधर है, तो निर्माण कार्य बन्द क्यों है।

दरअसल मार्ग निर्माण में विवाद के चलते आज स्थानीय प्रशासन ने बैठक बुलाई थी, लेकिन आपत्ति लगाने वाले लोग नहीं पहुंचे। दिलचस्प बात यह है कि इधर आपत्तिकर्ताओं का बैठक में पहुंचने का बेसब्री से इंतजार किया जाता रहा और उधर, आपत्तिकर्ता निर्माण कार्य रुकवाने में कार्यस्थल पर मजदूरों के साथ बहस करते रहे। इस घटना से ग्रामीणों में भारी आक्रोश है।

बताया जा रहा है कि गांव के कुछ व्यक्ति निजी स्वार्थों को साधते हुए सड़क निर्माण का विरोध कर रहे हैं। विवाद की कोई ठोस वजह नहीं है, जिसका खुलासा क्षेत्र वासियों की आज की बैठक ने हो गया है।

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश की आजादी के 74 वर्ष बाद भी घनसाली विधानसभा क्षेत्र के आली, सरूणा, चोंरा, कोट और चांजी जैसे गांव सड़क मार्ग से महरूम है।

 

किसी तरह क्षेत्र के लोगों की पहल पर अब सरकार सड़क निर्माण करवाना चाहती है, तो कुछ व्यक्ति राजनीति से प्रेरित होकर निजी स्वार्थ साध कर क्षेत्र की जनता के साथ मजाक करने पर आमादा है।

दरअसल, ग्रामीणों की मागं पर पीएमजीएसवाई द्वारा मोटरमार्ग का निर्माण कार्य शुरू करवाया गया था, लेकिन अब विवाद के चलते निर्माण कार्य बन्द कर दिया गया है। स्थानीय ग्रामीणों का आरोप है कि गांव के कुछ लोगों द्वारा अपने निजी स्वार्थ व अपनी राजनीति चमकाने के लिए मोटरमार्ग के निर्माण कार्य को रोकने के लिए आपत्ति लगायी गई है, जो बेसिरपैर की है। इसमें ग्राम पंचायत  कोट की प्रधान भी शामिल है। इस आपत्ति से स्थानीय ग्रामीणों में आपत्तिकर्ताओं के विरुद्ध कड़ा रोष व्याप्त है।

प्रशासन और विभाग की ओर से आपत्ति का संज्ञान लेने के बाद शुक्रवार को आपत्तिकर्ताओं व ग्रामीणों को बैठक के लिए बुलाया था, लेकिन बैठक में स्थानीय विधायक शक्तिलाल शाह सहित ग्रामीणों ने ही शिरकत की। आपत्तिकर्ता बैठक से नदारद रहे, जिससे साफ़ जाहिर होता है कि मामले बिना बात के तूल दिया जा रहा है, जिसका नुकसान पूरे क्षेत्र की जनता को झेलना पड़ रहा है।

बैठक में कोट गांव निवासी मथुरा प्रसाद नैथानी नें कड़ा रोष व्यक्त करते हुए सवाल खड़े किए कि जब ग्राम पंचायत में कोई बैठक ही आहूत नहीं की गई है, तो ऐसे में श्रीनगर में बैठकर प्रधान ने कैसे खुद निर्णय ले लिया। यह गाँव के लोगों के साथ तो छलावा ही नहीं है, बल्कि प्रधान ने पद और मोहर का भी गलत इस्तेमाल किया है। जो छमा करने योग्य नहीं है।

वहीं ग्राम सभा के सभी वार्ड सदस्यों से अविश्वास प्रस्ताव पारित करने की मांग की है। साथ ही सामाजिक कार्यकर्ता विक्रम घणाता ने निर्माण कार्य को रुकवाने की कोशिश करने और सरकारी काम में बाधा डालने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस-प्रशासन से जांच की मांग की है।

विक्रम घणाता का कहना है कि जो लोग प्रशासन के बुलाने पर भी बैठक में तो नहीं आए, लेकिन निर्माण स्थल पर जरूर पहुंच गए। इनमें कुछ लोग ऐसे भी हैं जो सरकारी सेवाओं में कार्यरत हैं और सरकारी कार्यों में बाधा डालने के लिए ग्रामीणों को भड़काने का काम कर रहे हैं। ऐसे लोगों की भी जाँच की मांग उठाई गई।

स्थानीय ग्रामीण और सामाजिक कार्यकर्ता अंकित नैथानी ने कहा कि प्रशासन द्वारा संबंधित मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिये और विभाग को मोटरमार्ग का निर्माण कार्य जल्द पूरा करना चाहिए।

बैठक में प्रशासन की ओर से पहुंचे क्षेत्रीय पटवारी ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया है की बैठक में हुई चर्चा से तहसील व ज़िला प्रशासन को अवगत कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि जल्द समस्या का समाधान करने का प्रयास किया जाएगा।

ग्रामीणों को मिला क्षेत्रीय विधायक का साथ  

इस अवसर पर क्षेत्र के विधायक शक्तिलाल शाह ने ग्रामीणों की मांग का समर्थन करते हुए कहा की मोटरमार्ग का निर्माण कार्य पूर्व में निर्धारित सर्वे, एलायमेंट के आधार पर जनता के अनुकूल ही होना चाहिए।

 

6,799 thoughts on “टिहरी: घनसाली में सड़क निर्माण में आई अजीबोगरीब स्थिति, विरोध जताने वाले बैठक के बजाय पहुंच गए काम रुकवाने, सड़क निर्माण के पक्ष में उतरे क्षेत्रीय विधायक

  1. Pingback: bahis siteleri
  2. Pingback: 1ungainly
  3. Pingback: A片