चारधाम यात्रा : तीर्थ पुरोहितों ने 15 अगस्त तक गंगोत्री धाम में दूसरे राज्यों के लोगों के प्रवेश पर लगाया प्रतिबंध

कोरोना वायरस
खबर शेयर करें

कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे को देखते हुए गंगोत्री धाम के तीर्थ पुरोहितों ने दूसरे राज्यों से चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए 15 अगस्त तक गंगोत्री धाम की यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि दूसरे राज्यों के श्रद्धालुओं के लिए यात्रा खोल दिए जाने से स्थिति और विकट हो सकती है।

इन दिनों उत्तराखंड के चार धामों के तीर्थ पुरोहित राज्य सरकार द्वारा चारधाम यात्रा शुरू करने तथा देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को लेकर नाराज हैं।

तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए अमरनाथ एवं कांवड़ यात्रा स्थगित की जा चुकी है, ऐसे में चार धाम यात्रा शुरू करना खतरे से खाली नहीं है।

तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि राज्य सरकार ने सभी लोगों के लिए चार धाम यात्रा खोलने की घोषणा कर दी है, जिससे धामों तक संक्रमण फैलने का खतरा पैदा हो गया है।

बीते रोज गंगोत्री धाम में तीर्थ पुरोहितों, साधु संतों एवं व्यापारियों की बैठक हुई जिसमें कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे के बीच चार धाम यात्रा पर चर्चा की गई।

बैठक में सर्वसम्मति से 15 अगस्त तक दूसरे राज्यों के यात्रियों के गंगोत्री धाम पहुंचने पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया.

गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल एवं सचिव दीपक सेमवाल ने इस संबंध में जिलाधिकारी को पत्र लिखकर अवगत करा दिया है। 

उत्तरकाशी के जिलाधिकारी डाक्टर आशीष चौहान का कहना है कि तीर्थ पुरोहितों की ओर से धाम में प्रवेश बंद करने को लेकर उनसे वार्ता की जा रही है, और जल्द ही इसका समाधान निकाल लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को पूरी जांच पड़ताल के बाद ही धामों तक जाने दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से निर्धारित गाइड लाइन के साथ ही जिले में भी यात्रियों की जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.