गंगा में गिर रहा 15.2 करोड़ लीटर गन्दा पानी टेप, पीएम ने किया नमामि गंगे के 521 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण

उत्तराखंड देश-दुनिया
खबर शेयर करें

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत उत्तराखंड में निर्मित 530 करोड़ रुपये लागत की विभिन्न परियोजनाओं का वर्चुअल माध्यम से लोकार्पण किया।

गंगा में एसटीपी निर्माण से अब रोजाना 15.2 करोड़ लीटर दूषित पानी गंगा में नहीं गिरेगा। बताया जा रहा है कि इन परियोजनाओं के निर्माण के बाद गंगा का पानी आचमन लायक हो जाएगा।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने रोविंग डाउन द गंगेज के तहत ग्राम पंचायतों और पानी समितियों के लिए बनाई गई मार्गदर्शिका का भी विमोचन किया।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि गंगा सांस्कृतिक वैभव और आस्था से जुड़ी है। ससथ ही आधी आबसडी को आर्थिक रूप से समृद्ध भी करती है। नमामि गंगे प्रोजेक्ट कक नई सोच और नई एप्रोच के साथ शुरू किया गया है।

यह देश का सबसे बड़ा नदी संरक्षण अभियान है। गंगा में गन्दा पानी जाने से रोकने के लिए एसटीपी का निर्माण किया गया है। अगले 15 वर्षों की जरूरत के अनुसार एसटीपी की क्षमता रखी गई है। कहा की गंगा किनसरे अब तक 100 द्दरों औए 5 हजार गॉंवों को खुले में शौच से मुक्त किया गया है। साथ ही गंगा की साहयक नदियों को भी प्रदूषण से मुक्त करने का भी कसम किया जा रहा है।

इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चन्द अग्रवाल, केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा.रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय जक शक्ति राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया समेत कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, मदन कौशिक, सांसद तीरथ सिंगज रावत, ऋषिकेश की नीर अनिता ममगांई और विधायक आदेश चौहान समेत कई जनप्रतिनिधि और अधिकारी विभिन्न स्थानों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़कर लोकार्पण कार्यक्रम में मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.