कोरोना: देहरादून-हरिद्वार में सरकारी ही नहीं प्राईवेट अस्पताल भी ‘फुल’, आईसीयू में कहीं भी जगह न मिलने से दहशत में आ रहे लोग

उत्तराखंड कोरोना वायरस
खबर शेयर करें

देहरादून। कोरोना का प्रकोप कम होने के बजाय उठता ही रहा है। स्थिति यह है कि देहरादून में सरकारीही नहीं प्राईवेट अस्पतालों में भी बिस्तर खाली नहीं है। कोरोना रोगी एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल जाने को मजबूर हैं। कोरोना से गंभीर रूप से पीड़ित रोगियों को भी आईसीयू में बिस्तर नहीं मिल पा रहा है।

रोजाना अस्पतालों में बैड खाली होने के लिए फोन घनघना रहे हैं, लेकिन जबाव में बीएड खाली न होने की जानकारी मिलने पर लोग मायूस हो रहे हैं। इससे लोगों में और दहशत फैल रही है। रोजाना बढ़ रही कोरोना रोगियों ने सरकार की परेशानी बढ़ा दी है।

विशेष बात यह है कि सरकार भी कोरोना रोगियों के लिए आवश्यक व्यवस्थाजम नहीं कर पा रही है। स्थिति यह है कि देहरादून और हरिद्वार में कई कोरोना पॉजिटिव रोगी अस्पतालों में बेड न मिलने पर मजबूर घरों में ही रहने को मजबूर हैं।

सांस फूलने वाले मरीजों को जल्दी ट्रीटमेंट न मिलने से ऐसे लोग जल्दी मौत का ग्रास बन रहे हैं। अस्पतालों ने आईसीयू तो छोड़िए कोरोना मरीजों को सामान्य बेड बि मुहैया नहीं हो पा रहा है। इससे हालात का अंदाजा लगाया जा सकता है।

इसलिए इस पर सरकार को त्वरित कोई बड़ा कदम उठाने चाहिए, ताकि बिना मौत के काल का ग्रास बनने से लोगों की जिंदगी बच सके।

राज्य लगातार बढ़ते संक्रमण की वजह से सक्रिय रोगियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। मंगलवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार राज्य के अस्पतालों में भर्ती और होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों का कुल आंकड़ा 21 हजार 14,000 रुपये है।

उधर, के शहरी क्षेत्रों में अब प्रतिदिन दोपहर 2 बजे तक केवल बाज़ार खुला रहेगा। दोपहर 2 बजते ही, आवश्यक सेवाओं को छोड़कर शेष बाजार बंद हो जाएगा। साथ ही रात्रि कालीन कर्फ्यू भी रात 9 बजे से उठकर 7 बजे कर दिया गया है।

जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण बेकाबू हो रहा है, सामान्य जन जीवन पर सख्ती भी बढ़ती जा रही है। इसी क्रम में सरकार ने अब प्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में चर्चाना दोपहर के बाद आवश्यक सेवाओं के इतर अन्य बाजार बंद करने का फैसला लिया।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश की ओर से जारी आदेश के अनुसार पूरे प्रदेश में अब रात्रि कालीन कफरू भी शाम सात बजे से ही लागू कर सकते हैं। पहले इसके लिए रात नौ बजे का समय तय था। कफरू सुबह पांच बजे तक जारी रहेगा।

रविवार को पूरे प्रदेश में सम्पूर्ण को विभाजित कफरू रहेगा। कफ्र्यू के दौरान बाहर से आने जाने वाले यात्री, शादी समारोह वालों को पूर्व निर्धारित शर्त के अनुसार आने वाले की छूट रहेगी।

इसी तरह दूसरे राज्यों के नागरिकों को अब उत्तराखंड में प्रवेश के लिए देहरादून स्मार्ट सिटी की वेबसाइट पर पूर्व पंजीकरण करवाना होगा।साथ ही 72 घंटे के भीतर की आरटी पीसीआर नैगेटिव रिपोर्ट भी प्रस्तुत करनी होगी।

दूसरे राज्यों से अपने घर लौटने वाले राज्य के नागरिकों को भी इसी प्रकार पंजीकरण करवाना होगा, हालांकि उनके लिए को विभाजित जांच की योग्यता नहीं रखी गई है, अलबत्ता उन्हें अपने घर पर ही क्वारंटीन होना पड़ेगा।

इधर, सरकार ने जिला स्तरीय कार्मिकों के अवकाशकालीन निदेशालय स्तर से मंजूर किए जाने पर रोक लगाते हुए, इसके लिए जिलाधिकारी को अधिकृत कर दिया है। उक्त सभी आदेश आज यानि बुधवार 21 अप्रैल से ही लागू होंगे।

21 thoughts on “कोरोना: देहरादून-हरिद्वार में सरकारी ही नहीं प्राईवेट अस्पताल भी ‘फुल’, आईसीयू में कहीं भी जगह न मिलने से दहशत में आ रहे लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published.