कोरोना काल में भर्ती प्रक्रियाओं में न हो देरी, सीएम त्रिवेंद्र ने दिए अधिकारियों को निर्देश

उत्तराखंड कोरोना वायरस राजकाज
खबर शेयर करें

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों को  भर्ती प्रक्रियाओं को निर्धारित समयावधि में पूरा करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते भर्ती प्रक्रियाओं में किसी तरह का विलंब नहीं होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के लिए जरूरी प्रोटोकोल का पालन करते हुए भर्ती परीक्षाओं का आयोजन समयबद्धता से किया जाए। इसमें किसी भी स्तर पर शिथिलता न की जाए।

मुख्यमंत्री ने सचिवालय के वीर चंद्र सिंह गढ़वाली सभागार में भर्ती प्रक्रियाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि विभागों से चयन आयोगों को अध्याचन भेजने में विलम्ब न हो, इसके लिए एक ऑनलाईन व्यवस्था बनाई जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि एक जैसी प्रकृति के पदों के लिए एक ही परीक्षा आयोजित की जाए। इससे परीक्षार्थियों के समय व धन की बचत होगी और भर्तियों में भी अनावश्यक विलम्ब नहीं होगा।

राज्य लोक सेवा आयेाग जब एक बार डीपीसी की तिथि निर्धारित कर देता है तो यह संबंधित अधिकारियों की अनुपलब्धता के कारण स्थगित नहीं होनी चाहिए।

चयन आयेाग द्वारा की जाने वाली पृच्छाओं व आपत्तियों पर जवाब अधिकतम तीन दिनों में चला जाना चाहिए। कार्मिक विभाग प्रत्येक माह विभागों की भर्ती प्रक्रियाओं की समीक्षा करे और विभागों व चयन आयेागों में समन्वय स्थापित करे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में विलम्ब हुआ है। इसकी भरपाई अगले 6 माह में किस प्रकार की जा सकती है, इसकी कार्ययोजना बना ली जाए। टार्गेटेड तरीके से काम करते हुए चयन आयेागों के साथ ही शासन स्तर पर भी इसे सर्वोच्च प्राथमिकता पर लिया जाए।

उत्तराखण्ड राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष मेजर जनरल (से.नि.) आनंद सिंह रावत ने बताया कि वर्ष 2017 से वर्तमान तक राज्य लोक सेवा आयोग से 3047 पदों पर चयन किया गया। जबकि 1145 पदों पर चयन प्रक्रिया गतिमान है जो कि इस वित्तीय वर्ष में पूर्ण कर ली जाएगी।

आयोग ने इस वर्ष विभिन्न पदों के लिए टाईम टैबल बना लिया है। इसके अनुसार चयन सुनिश्चित किया जा रहा है। वर्ष 2017 से वर्तमान तक डीपीसी द्वारा कुल 2647 पदों पर चयन किया गया है जबकि 219 पदों पर डीपीसी की प्रक्रिया गतिमान है।

उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयेाग के अध्यक्ष एस.राजू ने बताया कि अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा वर्ष 2017 से 2020 तक कुल 6 हजार पदों पर चयन पूर्ण किया गया। जबकि 2014 से 2017 तक 801 पदों पर चयन किया गया था।

वर्तमान में 9 परीक्षाएं कोविड-19 के संक्रमण के कारण लंबित हैं। इनमें से 7 परीक्षाएं अक्टूबर से दिसम्बर तक आयोजित किया जाना प्रस्तावित है। चयन वर्ष 2019-20 व 2020-21 में लगभग 7200 पदों पर अधियाचन प्राप्त हुए हैं इनमें से  लगभग 2500 पदों पर विज्ञापन प्रकाशित किया जा चुका है जबकि 4 हजार पदों पर विज्ञापन की कार्यवाही प्रगति पर है।

उत्तराखण्ड चिकित्सा सेवा चयन बोर्ड के अध्यक्ष डा.डीएस रावत ने बताया कि 2017 से अभी तक कुल 1282 का चयन किया गया। बोर्ड को वर्तमान में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर, चिकित्साधिकारी, एक्स-रे टेक्नीशियन, ईसीजी टेक्नीशियन, रेडियोग्राफिक्स, राजकीय मेडिकल कालेजों में विभिन्न तकनीशियन के पदों सहित कुल 1351 पदों के अधियाचन प्राप्त हैं। इन पर चयन प्रकियाएं निश्चित टाईमफे्रम में पूरा कर लिया जाएगा।

बैठक में मुख्य सचिव ओमप्रकाश, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, सचिव अमित नेगी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

67 thoughts on “कोरोना काल में भर्ती प्रक्रियाओं में न हो देरी, सीएम त्रिवेंद्र ने दिए अधिकारियों को निर्देश

  1. nolvadex cream Kisqali in combination with an aromatase inhibitor was approved for the treatment of pre peri or postmenopausal women as initial endocrine based therapy, and also indicated for use in combination with fulvestrant as both first or second line therapy in postmenopausal women by the FDA in July 2018 and by the EC in December 2018

  2. In patients without prior radiation, the radiation field encompassed the ipsilateral chest wall and supraclavicular area stromectol dosage for pinworms It will be appreciated that any linker moieties taught in the prior art, and particularly those taught for use in the context of drug delivery, may be used in the current invention

  3. Great article and straight to the point. I don’t know if this is actually the best place to ask but do you guys have any ideea where to employ some professional writers? Thanks in advance 🙂

  4. buying cialis online reviews However, on occasion, anatomical constraints mean that a true wide resection is not possible without the sacrifice of critical anatomical structures such as major nerves, or blood vessels and in this situation, it may be acceptable to leave a planned microscopic positive surgical margin, having considered the risks of recurrence and morbidity of more radical surgery and having discussed these fully with the patient 42

  5. My husband and i felt so excited that Emmanuel could deal with his studies through the ideas he had from your very own blog. It’s not at all simplistic just to be freely giving key points which usually others have been trying to sell. We really discover we’ve got the writer to be grateful to for that. Most of the illustrations you made, the straightforward web site navigation, the relationships you can assist to engender – it’s most overwhelming, and it’s really helping our son in addition to us reckon that this subject matter is pleasurable, and that is wonderfully mandatory. Thanks for the whole thing!

  6. Gynecomastia is a relatively common presenting complaint at the primary care and endocrine clinics buy cialis online from india noroxin cephalexin for stds It included a provision known as the IPO on ramp thatallowed emerging growth companies to keep draft filings withthe Securities and Exchange Commission under wraps whilenegotiations over the disclosures occur

  7. drug information and news for professionals and consumers. Comprehensive side effect and adverse reaction information.
    stromectol pills
    Best and news about drug. Generic Name.

  8. 1996, and high K may cause swelling of astrocytes mediated by the Na K 2Cl cotransport Walz and Hinks, 1985; MacVicar et al buy zithromax (azithromycin) Monochrome images taken with DAPI, FITC, and Texas Red filter sets were pseudocolored blue, green, and red, respectively, and merged using ImageJ

Leave a Reply

Your email address will not be published.