उत्तराखंड: ऋषि गंगा के उद्गम क्षेत्र के ग्लेशियरों में आई दरारें, वैज्ञानिकों की टीम ने किया हवाई सर्वे, सरकार भी हुई अलर्ट

उत्तराखंड देश-दुनिया
खबर शेयर करें

– वैज्ञानिकों की टीम के हवाई दौरे के बाद ग्लेशियरों में दरारें होने की आशंका निकली सही, शासन-प्रशासन भी अलर्ट

देहरादून। ऋषि गंगा के उद्गम क्षेत्र में ग्रमीणों ने कुछ दिन पहले ऋषि गंगा ग्लेशिय में दरारें पड़ीं होने की आशंका जताई थी। जिसके बाद आज शनिवार को वैज्ञानिकों की टीम ने हेलीकॉप्टर से ग्लेशियरों का हवाई सर्वे किया। सर्वे में ग्रामीणों की आशंका सही निकली। टीम ने सर्वे की रिपोर्ट शासन को सौंप दी है।

उधर, जोशीमठ से आईटीबीपी, एसडीआरएफ और सिंचाई विभाग की संयुक्त टीम भी ग्लेशियरों की स्थिति का जायज़ा लेने के लिए ऋषि गंगा के उद्गम के लिए रवाना हो गई है। यह टीम दो दिन बाद जोशीमठ वापस लौटेगी।

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही रैणी क्षेत्र के ग्रामीणों के एक दल ने ऋषि गंगा के उद्गम स्थल का दौरा कर वीडियोग्राफ़ी की थी। ग्रामीणों ने प्रशासन को ग्लेशियरों में दरारें पड़ी होने की सूचना दी थी और आशंका जताई थी कि ऋषि गंगा में 7 फरवरी जैसी तबाही दोबारा आ सकती है।

जिसके बाद वैज्ञानिकों से लेकर शासन-प्रशासन के साथ ही एसडीआरएफ सक्रिय हो गई है। क्योंकि इसी साल 7 फरवरी को ऋषि गंगा में ग्लेशियर टूटने से बड़ी तबाही मची थी। इसमें जानमाल का भी बड़ा नुकसान हुआ था। निर्माणधीन जल विद्युत परियोजना से लेकर नदी किनारे बड़ी संख्या में मकान और खेत बह गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.