ऊर्जा निगम के नए एमडी से टेंडर घपलों की जांच की मांग

देश-दुनिया
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखण्ड पावर कारपोरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) में निजाम बदल गया है। प्रबन्ध निदेशक पद से बीसीके मिश्रा की छुट्टी होने के बाद निगम में छाए निराशा के बादल छटने की उम्मीद जगी है।

दरअसल एमडी की कार्यशैली से कर्मचारी संगठनों के नेता काफी खफा थे। कर्मचारी संगठनों से उनकी तल्खी जगजाहिर थी। शासन से लेकर सीएम दरबार भी उनकी लगातार शिकायतों से परेशान थे।

निर्माण और खरीद कार्यों में अनियमितताओं के चलते मिश्रा हमेशा अख़बारों और न्यूज चैनलों की सुर्खियों में रहते थे। उन पर गलत नियुक्ति समेत भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं, जिसकी लगातार जांच की मांग की जा रही है। हाईकोर्ट में भी भ्रष्टाचार के उनके कई मामलों की सुनवाई चल रही है।

ऊर्जा निगम के एमडी के पद पर तेज तर्रार आईएएस डॉ. नीरज खैरवाल की ताजपोशी से कर्मचारियों में आशा की किरण जगी है। एमडी बनने के बाद कर्मचारी संगठनों के नेता उन्हें बधाई दे रहे हैं।

ऊर्जा आफिसर्स एंड स्टाफ एसोसिएशन ने नव नियुक्त एमडी डॉ. खैरवाल को बधाई दी है। एसोसिएशन के केंद्रीय अध्यक्ष डीसी गुरुरानी ने कहा कि डॉ. खैरवाल के नेतृत्व में ऊर्जा निगम नई ऊंचाईयां छुएगा।

उन्होंने कहा कि नव नियुक्त एमडी की छवि ईमानदार और कुशल प्रशासक की हैं। उन्होंने मांग की है निगम में टेंडर अनियमितताओं की बारीकी से निष्पक्ष जांच की जाए  और भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों के खिलाफ सरकार के जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत सख्त कार्रवाई की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.