उत्तराखंड से दूसरे राज्यों के लिए कल से होगी रोडवेज सेवाएं शुरू, बस, टैक्सी और ऑटो-रिक्शा में डबल किराये का नियम समाप्त

उत्तराखंड
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश वासियों को बड़ी राहत देते हुए दूसरे राज्यों में रोजाना 100-100 बसें चलाने को हरी झंडी दी है। यह सेवा कल यानी 30 सितंबर से शुरू होगी। फेक फेज में उत्तर प्रदेश और गुजरात को बसों का संचालन शुरू होगा। उसके बाद अन्य राज्यों में रोडवेज बसों की आवाजाही शुरू की जाएगी।

बताया जा रहा है रजा है कि यह व्यवस्था शुरू होते ही दोगुना दूरी तय करने का 23 जून का आदेश समाप्त हो जाएगा। सार्वजनिक परिवहन में पूर्व की तरह सामान्य किराया लिया जाएगा। साथ ही बसों में 50 प्रतिशत की जगह अब पूरी तरह बैठेगी।

राज्य सरकार द्वारा जारी नः आदेशानुसार अब कुल प्रस्तावों की क्षमता के बराबर यात्री उत्तराखंड रोडवेज, केएमएचओयू (केमू), जीएमएचओयू और निजी जीपी / टैक्सी, ई-रिक्शा और आटो आदि में बैठा जा सकते हैं। हालांकि बसों आदि में खड़े होकर यात्रा करने, कुल सीट क्षमता से अधिक यात्री ले जाने की अनुमति नहीं दी गई है।

इन नियमों का पालन होगा

  • यात्रियों की बसावट पर थर्मल स्क्रीनिंग कराएंगे जिला प्रशासन
  • अंतराज्यीय बसों और एक जनपद से दूसरे जनपद में किसी भी सार्वजनिक परिवहन सेवा से यात्रा करने के लिए देना होगा पूर्व निर्धारित सामान्य किराया, अब लागू नहीं होगा 23 जून को किराया दोगुना करने का आदेश।
  • वाहनों में पचास प्रति यात्रियों को बैठाने की शर्त भी अब लागू नहीं होगी, वाहन में मौजूद सभी सीटों पर बैठेंगे यात्री यानी वाहन की क्षमता के सौ प्रतिशत यात्रियों को वाहन में बैठा होगा चालक।
  • खड़े होने वाली यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी, वाहन की क्षमता से अधिक यात्री बैठाने पर भी आपको लगेगा।
  • पहले चरण में प्रत्येक राज्य के लिए किया जाएगा सौ-सौ रोडवेज बसों का संचालन, राज्यों में संचालन करने की अनुमति मांगने की जिम्मेदारी परिवहन निगम की होगी।
  • उत्तराखण्ड में भी संचालित हो सकता है अन्य राज्यों की 100-100 बसें।
  • यात्रा शुरू होने से पूर्व और उसके बाद वाहन को अच्छी तरह से सेनेटाइज करना अनिवार्य होगा।
  • यात्रियों सहित वाहन चालक और परिचालक को यात्रा के दौरान अनिवार्य रूप से उस पहननेना होगा और यात्रा के दौरान सामाजिक दूरी का भी पूरी तरह से नियंत्रित किया जाएगा।
    वाहन चालकों सहित सभी यात्रियों को रखना होगा मोबाइल में आरोग्य सेतु उपकरण, निर्धारित स्टोपेज पर ही रूकेंगे वाहन: –
  • यात्रा करने के इच्छुक लोगों को अपने मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना अनिवार्य होगा। चालक, परिचालक भी इस उपकरण को डाउनलोड करेंगे।
  • यात्रा से पूर्व और वाहन के खगंती स्थान पर पहुंचने के पश्चात बसंत पर सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी जिसकी पूरी जिम्मेदारी संबंधित जिला प्रशासन की होगी।
  • यात्रा के दौरान किसी भी यात्री द्वारा पान मसाले, गुटखा, शराब, तंबाकू का सेवन नहीं किया जा सकता है और वाहन में थूकने या स्क्रीनशॉट से बाहर थूकने पर भी आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
  • वाहन को केवल निर्धारित स्टोपेज पर ही रोक दिया जाएगा, ताकि जिला प्रशासन वाहन में चढ़ने और उतरने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग अच्छी तरह से कर सके।
  • दूसरे राज्यों से उत्तराखंड आने वाले यात्रियों को यात्रा से पूर्व देहरादून स्मार्ट सिटी की वेबसाइट पर अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराना होगा।
  • यात्रा के दौरान यदि कोई व्यक्ति कोरोनाशक पाया जाता है या किसी यात्री में कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं तो यह वाहन चालक की जिम्मेदारी होगी कि वह पुलिस थाने या स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.