उत्तराखंड में 30 हजार ग्रामीण परिवारों को मिलेगा मनरेगा से रोजगार

उत्तराखंड देश-दुनिया
खबर शेयर करें

कोरोना संकट के बीच उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में 30 हजार परिवारों को महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के तहत रोजगार मुहैया कराया जाएगा। इसके लिए मनरेगा में केंद्राभिसरण के माध्यम से आजीविका पैकेज मॉडल लागू कर दिया गया है।

इसके तहत चयनित परिवारों को उनकी भूमि की उपलब्धता और रुचि के अनुसार एक से अधिक सेक्टर में आजीविकापरक परिसंपत्तियां प्रदान की जाएंगी। प्रदेश के मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। इस योजना के तहत सरकार ने प्रदेश के लगभग 30 हजार परिवारों को इस मॉडल से जोड़ने का लक्ष्य रखा है।

मनरेगा के तहत प्रतिवर्ष हजारों परिवारों को विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लाभान्वित किया जाता है। प्रदेश में प्रतिवर्ष औसतन 24 हजार व्यक्तिगत लाभ की परिसंपत्तियां निर्मित की जाती हैं।

अब ऐसे परिवारों को उनकी रुचि और भूमि की उपलब्धता के अनुसार एकमुश्त पर्याप्त परिसंपत्तियां सुविचारित पैकेज मॉडल के जरिये उपलब्ध कराने पर जोर दिया गया है, जिससे सालभर में अधिकांश समय उनकी आजीविका सुनिश्चित हो सकेगी।

इसी कड़ी में मनरेगा और विभिन्न विभागों की व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं के केंद्राभिसरण से जॉब कार्ड धारक परिवार को आजीविकापरक परिसपंत्तियां एकमुश्त देने के लिए आजीविका पैकेज मॉडल लाया गया है।

मुख्य सचिव की ओर से सभी जिलाधिकारियों को इस संबंध में भेजे गए आदेश के मुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों में जिन रेखीय विभागों की व्यक्तिगत लाभ की योजनाएं संचालित की जाती हैं, उनके साथ मनरेगा का केंद्राभिसरण अनिवार्य होगा।

इसके लिए तय लक्ष्य से अधिक लाभार्थी सामने आते हैं तो लाभार्थी के अंश के साथ मनरेगा के जरिये भी परिसंपत्तियां विकसित की जा सकती हैं।

आजीविका पैकेज मॉडल में प्रस्तावित किए जाने वाले पैकेज में कार्य के आधार पर अधिकतम व्यय 99 हजार रुपये निर्धारित किया गया है। यानी प्रति परिवार इसी अधिकतम सीमा तक परिसंपत्तियां प्रदान की जा सकेंगी।

जिलों को अपनी आवश्यकताओं का आकलन कर व्यय की सीमा के अधीन रहते हुए नवीन पैकेज विकसित करने की छूट होगी। जिलों से यह अपेक्षा की गई है कि मनरेगा के लाभार्थियों को अधिकतम लाभ देने के उद्देश्य से वे यथासंभव अलग से व्यक्तिगत परियोजनाएं स्वीकृत न करें।

इस मॉडल के तहत सबसे पहले भूमिहीन जॉब कार्ड धारक परिवारों को लाभान्वित किया जाएगा। इसके पश्चात एसईसीसी (सामाजिक आर्थिक जातिगत गणना) में स्वत: सम्मिलित परिवारों और उनके आच्छादन के बाद एक से तीन, तीन से छह, छह से 10 और 10 से अधिक नाली भूमि वाले परिवारों को लाभान्वित किया जाएगा।

सभी श्रेणियों में वंचित परिवारों, अनुसूचित जाति, जनजाति और प्रवासियों को तवज्जो दी जाएगी। किसी श्रेणी में लाभार्थी उपलब्ध न होने पर अगली श्रेणी के लाभार्थियों को लाभ दिया जाएगा। क्लस्टर आधार पर आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूहों को भी वरीयता दी जा सकती है।

लाभार्थियों का चयन ब्लाक और ग्राम पंचायत स्तर पर होगा। नर्सरी, होम फ्रूटगार्डन, मत्स्य पालन, मशरूम उत्पादन, डेमस्क रोज व लैमनग्रास का रोपण, पशुपालन, कुक्कुट पालन, बकरीपालन, सब्जी उत्पादन, गोशाला निर्माण जैसी गतिविधियां इस मॉडल में शामिल हैं।

प्रत्येक गतिविधि के लिए मनरेगा और संबंधित विभाग मिलकर कदम उठाएंगे। मसलन, बकरीपालन के लिए पशुपालन विभाग बकरी मुहैया कराएगा तो मनरेगा से इनके लिए शेड निर्माण कराया जाएगा।

14 thoughts on “उत्तराखंड में 30 हजार ग्रामीण परिवारों को मिलेगा मनरेगा से रोजगार

  1. You actually make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be actually something that I think I would never understand. It seems too complex and extremely broad for me. I’m looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  2. Excellent post. I was checking constantly this blog and I’m impressed! Very helpful information specifically the last part 🙂 I care for such information a lot. I was looking for this particular info for a very long time. Thank you and good luck.

  3. What i don’t understood is in reality how you’re now not actually much more smartly-liked than you may be right now. You are so intelligent. You already know thus significantly in the case of this subject, made me personally believe it from numerous varied angles. Its like women and men don’t seem to be interested unless it’s one thing to accomplish with Girl gaga! Your personal stuffs excellent. Always deal with it up!

  4. Thanks for sharing excellent informations. Your web-site is so cool. I am impressed by the details that you have on this website. It reveals how nicely you perceive this subject. Bookmarked this web page, will come back for more articles. You, my friend, ROCK! I found just the information I already searched everywhere and simply could not come across. What a perfect site.

  5. Chlamydia, a very common bacterial infection spread through sexual contact, a bacterial infection that can spread through incidental contact with an infected partner Cervicitis, an inflammation of the cervix caused by an infection or an STD 11 PID, an infection of the reproductive organs 12 Ureaplasma vaginitis, typically harmless bacteria that create a colony of bacteria leading to an infection 13, a common and generally mild vaginal infection, caused by bacteria tamoxifen side effect This seemingly innocuous statement is enough to send even the most rational individuals online to try to determine how to pass a urine test

Leave a Reply

Your email address will not be published.