उत्तराखंड में ब्लैक फंगस का बढ़ा खतरा, 46 मरीज अस्पताल में भर्ती, 2 की मौत

उत्तराखंड कोरोना वायरस देश-दुनिया
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड में ब्लैक  फंगस का खतरा बढ़ता जा रहा है। बुधवार  शाम तक एम्स ऋषिकेश में म्यूकर माइकोसिस (ब्लैक फंगस) के 42 मरीज भर्ती हो चुके हैं। जिसमें से अब तक उपचार के दौरान एक महिला समेत कुल 2 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। जबकि ऋषिकेश निवासी एक 81 वर्षीया महिला को उपचार के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।

बता दें कि एम्स में अब तक आए कुल 42 मरीजों में से 39 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। जिनमें से 21 लोगों की सर्जरी होनी बाकी है। कुल भर्ती मरीजों में 21 उत्तराखंड के और शेष 21 उत्तर प्रदेश के निवासी हैं।

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में तीन और मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण मिले हैं। अब यहां चार संदिग्ध मरीज हैं। इन मरीजों में 62 वर्षीय व एक 63 वर्षीय पुरूष और 45 व 40 वर्षीय दो महिलाएं शामिल हैं। इसके अलावा उत्तरकाशी के मरीज को एम्स ऋषिकेश रेफर करा दिया गया।

अस्पताल के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना का कहना है कि मरीजों को पर्याप्त इलाज दिया जा रहा है। ब्लैक फंगस के मद्देनजर इंजेक्शन के लिए ऑर्डर दे दिया गया है।

उधर, देश मे ब्लैक फंगस का कोहराम महाराष्ट्र में ब्लैक फंगस से 90 की मौत , राजस्थान में इसे महामारी घोषित किया गया है।राजस्थान में ब्लैक फंगस के 400 मरीज हैं।

22 thoughts on “उत्तराखंड में ब्लैक फंगस का बढ़ा खतरा, 46 मरीज अस्पताल में भर्ती, 2 की मौत

  1. Phosphodiesterase type 5 inhibitors, also known as PDE-5 inhibitors, are prescription medications that can effectively treat several conditions, like pulmonary arterial hypertension and benign prostatic hyperplasia BPH what is priligy

  2. Lifelong PE, 34 at baseline to 14 at end-of-study dapoxetine 30 mg , 34 to 11 dapoxetine 60 mg , and 34 to 26 placebo cialis super active You can attend this from your home, without the need to physically go to and wait in a GP s office with sick people

Leave a Reply

Your email address will not be published.