उत्तराखंड में घट रहा कोरोना का प्रकोप, लेकिन लॉकडाउन से अभी राहत नहीं, आगे बढ़ सकता है कर्फ्यू

उत्तराखंड कोरोना वायरस देश-दुनिया
खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना का प्रकोप धीरे-धीरे कम हो रहा है। रोजाना कोरोना से हालात लगातार बेहतर हो रहे हैं। बीते कुछ दिन से कोरोना के 2 हजार से कम नए संक्रमित मरीज मिले, जो लगभग डेढ़ माह बाद सबसे कम है। वहीं एक समय कोरोना का एपिक सेंटर बन चुके देहरादून में भी अब काफी राहत है। अभी कर्फ्यू 1 जून तक है, जिसके आगे बढ़ने के संकेत मिल रहे हैं।

उत्तराखंड में रोजाना 7 से 9 हजार केस आ रहे थे, जो अब घटकर 2 हजार से भी नीचे आ गया है। देहरादून में 2 से  3 हजार मामले आ रहे थे वहाँ शनिवार को 285 मामले आए। यानि डेढ़ महीने में सबसे कम। ये सब कुछ सख्ती के कारण हुआ है।

सूत्रों की मानें तो तीरथ सरकार अभी कर्फ्यू हटाने के बजाय कोरोना कर्फ्यू को एक हफ्ते और बढ़ा सकती है। हालांकि कुछ छिटपुट राहत जरूर दी जा सकती है। शासन के सूत्रों के मुताबिक कोरोना संक्रमण को कंट्रोल करने में मिल रही कामयाबी से सरकार में संतोष है, लेकिन वह कोरोना से सबक लेकर सहमी हुई भी है।

पिछले दो महीने में कोरोना संक्रमितों की संख्या लाख से ऊपर चले गई है। मरने वाले लोगों की संख्या भी 6 हजार से ऊपर बढ़ गयी। एक और हफ्ते में कोरोना का संक्रमण काबू में दिखेगा तो कर्फ्यू हटाना शुरू किया जा सकता है।

एक हफ्ता कर्फ्यू बढ़ाए जाने की संभावना अधिक है इस पर रविवार को फैसला होना है। माना जा रहा है कि 1 जून के बाद से कुछ राहत देने में सरकार पहल करे, इनमें सरकारी, गैर सरकारी दफ्तरों को सीमित कार्मिकों के साथ खोलने और बाजार को हफ्ते में कुछ दिन या फिर कुछ अधिक वक्त तक खोलने की मंजूरी दे सकती है।

स्टेडियम, मॉल, थिएटर, मल्टीप्लेक्स, स्विमिंग पूल, जिम और किसी भी तरीके के व्यापक आयोजन पर रोक बनी रह सकती है। बाजार खोलने को लेकर सरकार फिलहाल असमंजस में है।कारोबारी बहुत परेशान है, जो लगातार बाजार को खोले जाने को लेकर दबाव बना रहे हैं।

सीएम से मिलकर भी गुहार लगा चुके हैं, दूसरी तरफ सरकार को आशंका है बाजार खोल देना कहीं परेशानी का सबब ना बन जाए। सरकार का मानना है की दूसरी लहर के बाद बाजार को खोल दिया जाना ज्यादा खतरनाक हो सकता है, ऐसे में माना जा रहा है कुछ थोड़ी सी राहत के साथ सरकार एक हफ्ते और कर्फ्यू बढ़ा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.