उत्तराखंड के चारों धाम खोलने की तिथियां घोषित, श्रद्धालुओं के लिए कब कौन सा धाम खुलेगा

उत्तराखंड समाज-संस्कृति
खबर शेयर करें
  • सबसे पहले गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई अक्षय तृतीया के पर्व पर खुलेंगे
  • केदार बाबा के 17 मई तो बद्रीविशाल के कपाट 18 मई को दर्शन को खुलेंगे

उत्तराखंड के चार धामों के कपाट खुलने का समय तय हो गया है। सबसे पहले अक्षय तृतीया के दिन 14 मई को गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खोले जाएंगे। इसके बाद 17 मई को बाबा केदारनाथ और 18 मई को बद्रीविशाल यानी बदरीनाथ के कपाट खुलेंगे।

कपाट खुलने के बाद चारों धाम में पूजा-अर्चना के साथ श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। इधर, पिछले साल कोरोना काल के  चलते चारधाम यात्रा बुरी तरह प्रभावित हुई थी। लेकिन इस बार उम्मीद है कि शुरू से ही अच्छी यात्रा चलेगी।

महाशिवरात्रि के पर्व पर आज बाबा केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि और मुहूर्त तय किया गया। बाबा केदारनाथ के कपाट 17 मई को सुबह 5 बजे भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे। यह निर्णय पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में आचार्य, वेदपाठी और हक-हकूकधारियों की मौजूदगी में महाशिवरात्रि पर्व पर शुभ मुहूर्त के साथ लिया गया।

आज सुबह मंदिर में पूजा अर्चना के बाद पंचाग पूजा की गई। इसके बाद कपाट खाेलने के लिए  मुहूर्त तय हुआ। मुहूर्त के अनुसार ऊखीमठ में भगवान भैरवनाथ की पूजा 13 मई को होगी। बाबा केदार की चल विग्रह डोली पहले ऊखीमठ से प्रस्थान कर 14 मई को फाटा विश्राम के लिए पहुंचेगी। जबकि 15 मई को  को गौरीकुंड और 16 मई को केदारनाथ धाम पहुंचेगी, जहां 17 मई को सुबह पांच बजे भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट खोल दिए जाएंगे।

18 मई को खुलेंगे बदरीनाथ कपाट

प्राचीन परंपरा के अनुसार भगवान बद्रीविशाल के कपाट की तारीख नरेंद्रनगर स्थित टिहरी राज दरबार में  टिहरी के अंतिम राजा महाराज मनुजेंद्र शाह ने पारंपरिक तौर पर धाम के कपाट खुलने का ऐलान किया। इससे पहले राजदरबार में गणेश और पंचाग पूजा के साथ भगवान श्री बद्री विशाल का आह्वान किया गया।

चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मुताबिक भगवान विष्णु को समर्पित बाबा बद्रीनाथ धाम के कपाट तय तिथि 18 मई को ब्रह्म मुहूर्त में 4 बजकर 15 मिनट पर खोले जाएंगे. हर साल सर्दियों में भगवान बद्रीनाथ मन्दिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं. बता दें कि बसंत पंचमी के अवसर पर नरेन्द्रनगर राजदरवार में आयोजित समारोह में बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि तय हुई थी।

14 मई को खुलेंगे गंगा-यमुना के कपाट

चारधाम में प्रसिद्ध गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के दिन 14 मई को खोले जाएंगे। कपाट खुलने की तारीख रामनवमी पर तीर्थपुरोहितों ने तय कर दी थी। अक्षय तृतीया के दिन गंगा की डोली शीत निवास मुखबा से गंगोत्री को रवाना होगी।

जबकि यमुना की डोली खरसाली स्थित मंदिर स्व शनि महाराज के साथ यमुनोत्री पहुंचेगी। इसके बाद शुभमुहूर्त पर दोनों धाम के कपाट खोले जाएंगे। गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा का श्रीगणेश हो जाएगा।

39 thoughts on “उत्तराखंड के चारों धाम खोलने की तिथियां घोषित, श्रद्धालुओं के लिए कब कौन सा धाम खुलेगा

  1. Borderie D, Hernvann A, Hilliquin P, Lemarchal H, Kahan A, Ekindjian OG Tetracyclines inhibit nitrosothiol production by cytokine- stimulated osteoarthritic synovial cells. doxycycline for epididymitis Symptoms include stomach ache, vomiting, do walnuts help lower blood sugar speedy respiration, extreme lethargy, and drowsiness Patients with ketoacidosis may even have a candy breath odor Left untreated, this condition can What Is Diabetes do walnuts help lower blood sugar result in coma and dying There are scarce proof based mostly knowledge on particular pharmacological treatment for African American diabetic patients In 2016, the Portal on line library and discovery engine greatly expanded information and search capabilities to speed up the pace of scientific development.

  2. 1, 4, 162, 163, 198 In two pivotal phase III 16- week trials, doxycycline MR, 40 mg once daily n 269, was compared with placebo n 268 and demonstrated superior reduction in inflammatory lesions, with no evidence of a plateau effect over the duration of the trials. doxycycline dosage for cats to gain weight eat 500kcals over your maintenance.

Leave a Reply

Your email address will not be published.